Published On : Sat, Nov 22nd, 2014

बुलढाणा जिले को सूखाग्रस्त घोषित करें


सांसद प्रताप जाधव ने मुख्यमंत्री को बताई व्यथा

MP. Prataprao Jadhav
बुलढाणा।
बारिश की अनियमितता और ऐन कटाई के वक्त बारिश के गिरने से फसलें चौपट हो गई और उससे किसानों का दिवाला निकल गया. अब आणेवारी 50 पैसे से कम आने से आत्महत्याग्रस्त बुलढाणा जिले को सूखाग्रस्त घोषित कर क्षतिपूर्ति कर मदद करने का आग्रह सांसद प्रतापराव जाधव ने मुख्यमंत्री देवेन्द्र फडणवीस से प्रत्यक्ष भेंट कर निवेदन सौंपा.

यहां जारी विज्ञप्ति के अनुसार, मुंबई में सह्याद्री अतिथिगृह में गुरुवार को हुई बैठक में सांसद प्रतापराव जाधव ने मुख्यमंत्री के समक्ष जिले की फसलों की सम्पूर्ण आंकड़ेवारी जानकारीयुक्त निवेदन सौंपा. इसमें उन्होंने बताया कि इस वर्ष बारिश समाधानकारक नहीं हुई फिर बारिश हुई तो मौसम बीत जाने के बाद. उन्होंने बताया कि बुलढाणा जिले में मुख्यत: सोयाबीन, कापूस, मक्का, ज्वारी की फसलें ली जाती हैं इसलिए यहां बागवानी खेती कम की जाती है. सोयाबीन की फसल बारिश के कारण कम हुई. वहीं नकद फसल कपास की भी हालत खराब हो गई है. बिजली के अभाव में सिंचाई नहीं हो पायी. अब जो फसल हुई उसका उचित भाव नहीं मिल रहा है. इसलिए किसान चौतरफा समस्याओं से घिर गया है. बैंकों के कर्ज को किसान आखिर कैसे चुकाये, इस परेशानी में किसान चिंतित हैं. इसलिए तत्काल बुलढाणा जिले को सुखाग्रस्त घोषित कर किसानों को मदद दी जाए.