Published On : Sat, May 12th, 2018

केन्द्र सरकार द्वारा दलहन – उड़द, मूंग और तुअर का आयात दाल मिलर्स तक सीमित रखने का निर्णय


नागपुर: कई वर्ष के बाद केन्द्र सरकार के वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय के विदेश व्यापार महानिदेशालय (क्ळथ्ज्) द्वारा दिनांक 11 मई 2018 को जारी अधिसूचना क्रमांक – 6/2018-19 के अनुसार केवल दाल मिलर्स और रिफाईनिंग क्षमता वाले उद्यमियो को आयात कोटे के तहत उड़द, मूंग और तुअर के आयात की सशर्त स्वीकृति दी गई है।

आॅल इंडिया दाल मिल एसोसिएशन के गत 1 वर्ष के लगातार प्रयासों से केन्द्र सरकार ने देश के दाल मिलर्स को दलहनों का आयात करने की अनुमति प्रदान की है। इस संबंध में तत्कालीन केन्द्रीय वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री माननीया निर्मला सीतारमण से संस्था के प्रतिनिधि मण्डल ने नई दिल्ली में दिनांक 28 जून 2017 को चर्चा कर दाल मिलों को देश के बाहर से दलहन आयात करने की अनुमति देने का अनुरोध किया था। साथ ही पुनः वर्तमान केन्द्रीय वाणिज्य एवं उद्योग मंत्री माननीय सुरेश प्रभु से दिनांक 26 सितंबर 2017 को भी प्रतिनिधि मण्डल उद्योग भवन नई दिल्ली में मिला था और आयात की अनुमति के लिए आग्रह किया था। तत्पश्चात दिनांक 06 अप्रेल 2018 को वाणिज्य एवं उद्योग मंत्रालय के प्रमुख सचिव संतोषकुमार सांरगी से चर्चा कर दाल मिलर्स को आयात की अनुमति प्रदान करने की मांग रखी।

भारत – सरकार द्वारा निर्धारित आयात कोटा 1.50 लाख मीट्रिक टन मूंग, 1.50 लाख मीट्रिक टन उड़द तथा 2 लाख मीट्रिक टन तुअर का आयात करने के लिए दाल मिलर्स को दिनांक 12 मई 2018 से 25 मई 2018 के बीच में विदेश व्यापार महानिदेशालय (क्ळथ्ज्) को आॅनलाईन आवेदन करना होंगे, जिसके लिए निर्धारित नियमों और शर्तो को पूरा करना अनिवार्य रहेगा।

उपरोक्त जानकारी देते हुए आॅल इंडिया दाल मिल एसोसिएशन के अध्यक्ष सुरेश अग्रवाल, उपाध्यक्ष सुभाष गुप्ता और सचिव दिनेश अग्रवाल ने अपनी प्रेस विज्ञिप्त में बताया कि-केन्द्र सरकार द्वारा वर्ष 2018-19 में दलहन – उड़द, मूंग और तुअर का आयात दाल मिलर्स एवं रिफाईनिंग क्षमता वाले उद्यमियो को आयात कोटे के तहत उड़द, मूंग और तुअर के आयात की सशर्त स्वीकृति दी गई है। संभवत सरकार का उद्देश्य यह है कि विदेशो से आयातित खड़ा दलहन – तुअर, उड़द एवं मूंग का स्टाॅक सीधे ही खुले बाजार में न पहूॅच सके और दाल मिल कारखानों में दाल बनाने के बाद ही दालों को बाजार में बेचा जा सके।

1. इस संबंध में संगठन के पदाधिकारियों ने बताया कि आयात सिर्फ 1.50 लाख मीट्रिक टन मूंग, 1.50 लाख मीट्रिक टन उड़द तथा 2 लाख मीट्रिक टन तुअर का आयात करने की  अनुमति सरकार जून में प्रदान करेगी, जिससे की दाल मिल वाले कच्चा दलहन (खड़ा दलहन) देश के बाहर से मंगवाकर अपने दाल मिल कारखानों में दाल बनाकर विक्रय कर सकंेगे।

2. सरकार द्वारा दलहन – मूंग, उड़द एवं तुअर का आयात कोटा उन्ही दाल मिलर्स को इस शर्त पर जारी किया जायेगा कि, जो दिनांक 31 अगस्त 2018 तक सम्पूर्ण आयात प्रक्रिया पूरी कर लेंगे अर्थात जिन उद्यमियो  पास दाल मिलिंग या रिफाईनिंग की सुविधा उपलब्ध नही है, उन्हें दलहन आयात की अनुमति नही मिल सकेगी।

3. सरकार के पिछले वर्ष के आयात के आंकडो के अनुसार देश में वर्ष 2016-17 और 2017-18 में (माह अप्रेल 2017 से फरवरी 2018 तक) निम्नानुसार आयात हुआ है, जिसके अनुसार चालु वित्तीय वर्ष में तुअर, उड़द एवं मूंग के आयात की कुल 5 लाख मीट्रिक टन अनुमति दी गई है।

उपरोक्त आयात के आंकड़ों तथा देश में प्रचूर मात्रा उत्पादित दलहनों और सरकार व व्यापारियों  तथा सरकारी एजेंसियों के पास उपलब्ध दलहनों के स्टाॅक को देखते हुए, 1.50 लाख मीट्रिक टन मूंग, 1.50 लाख मीट्रिक टन उड़द तथा 2 लाख मीट्रिक टन तुअर के आयात की जो अनुमति दी गई है। अतः दाल मिलर्स इस दलहन को देश के बाहर से आयात कर सकते हैं।