Published On : Mon, Jul 2nd, 2018

मनपा आमसभा में विषयों को हाइजेक किया सत्तापक्ष ने

नागपुर: क्यूंकि २ दिन बाद नागपुर शहर में राज्य विधानमंडल का मानसून अधिवेशन शुरू होने जा रहा इसलिए मनपा सत्तापक्ष ने इसके पूर्व आज २ जुलाई को आमसभा लेने का निर्णय किया। आज की आमसभा के लिए वैसे तो काफी महत्वपूर्ण मुद्दे थे लेकिन सत्तापक्ष ने उसे हथियाकर विपक्ष सह सहयोगी पक्ष के मनसूबे पर पानी फेर दिया। इसलिए की सहयोगी पक्ष सह विपक्ष के पास जूझने के लिए सभागृह में आंकड़ों के हिसाब से संख्याबल नहीं होने के कारण हमेशा सत्तापक्ष के नतमस्तक देखा गया.

हाइजेक-१
ज्ञात हो कि विधायक प्रकाश गजभिये के नेतृत्व में एनसीपी का मोर्चा मनपा नगर भवन पहुंचा।इनका मुद्दा था कि पिछले २५ वर्ष से बाबासाहेब आंबेडकर स्मारक निर्माण को पिछली सह वर्त्तमान सरकार टालती आ रही.इस सरकार के मुखिया ने भी पिछले ३ माह पूर्व मनपा की अहम् बैठक ली थी,जिसमें स्मारक का निर्माणकार्य अगले २-३ माह में पूर्ण होने का आश्वासन दिया गया.लेकिन आजतक जमीनी स्तर पर कार्य रत्तीभर नहीं सरका। दूसरी ओर भाजपा की संकल्पना को पूर्ण करने के लिए मेट्रो के लिए दर्जन भर जगह मिनटों में बिना आरक्षण रद्द या बदले दे दी गई.एनसीपी का शिष्टमंडल महापौर सह प्रशासन से मिलने के साथ ही साथ सर्वदलीय हस्ताक्षर युक्त ज्ञापन देकर अविलंब स्मारक के लिए जगह उपलब्ध करवाकर निर्माणकार्य शुरू करने की मांग की.
सत्तपक्ष ने यह मुद्दा हाइजेक कर मनपा सभागृह में भाजपा की ओर से एक प्रस्ताव पेश कर ‘क्रेडिट’ ले ली.इस तरह एनसीपी की मेहनत पर पानी फिर गया.

हाइजेक-२
कांग्रेस के नामजद नगरसेवक किशोर जिचकर ने स्मार्ट सिटी प्रकल्प प्रमुख रामनाथ सोनावणे और प्रकल्प के लिए मिली निधि का दुरुपयोग करने,सह प्रकल्प के लिए मनपा से लिए गए कर्मी को दिए जा रहे अतिरिक्त लाभ सहित मनपायुक्त से दोगुणा स्मार्ट सिटी ‘सीईओ’ का वेतन सह सुविधा का मामला नोटिस देकर आमसभा में उठाने के लिए पंजीकृत करवाया। यह भी सवाल किया कि स्मार्ट सिटी की जमीनी काम किस चरण तक हुए.जब तक इनका सवाल करने का क्रमांक आता उसके पूर्व प्रवीण दटके ने स्मार्ट सिटी सम्बन्धी सीसीटीवी मामले को उछालने के साथ उक्त कांग्रेसी नगरसेवक का सवाल हाइजेक कर खुद सवाल कर महापौर से आश्वासन ले लिए कि अगली बैठक में उक्त सभी सवालात का जवाब मनपायुक्त स्वयं संकलन कर महापौर कार्यालय को दे.

दूसरी ओर उक्त विषय जब से सार्वजानिक हुआ.मनपा में पक्ष विपक्ष में बवाल मचा हुआ था.सबसे ज्यादा बेचैन स्मार्ट सिटी ‘सीईओ’ और उसके बाद स्मार्ट सिटी के नाम पर जर्मनी यात्रा करने वाले सभ ५ लाभार्थी थे.मनपा सभागृह में सवाल पर बहस और चर्चा न हो इसलिए सभी अपने-अपने स्तर से भिड़े थे.क्यूंकि मामला ज्यादा गर्मा जाता तो इनका विदेश यात्रा अड़चन में आ जाता। राहत की सांस उक्त सभी ने तब ली जब जब विषय का पुकारा हुआ ,उस दरम्यान बसपा सह विपक्ष धार्मिक अतिक्रमण तोड़ने सम्बन्धी न्यायालय के निर्णय से रु-ब-रु होने की मंशा लिए महापौर पर दबाव बनाने में मशगूल थे.इस बीच सत्तपक्ष ने अपने अंदाज में ५ मिनट के हंगामें के मध्य सभी विषयों को मंजूरी प्रदान कर दी.

यह मामला यहीं तक नहीं थमा आज दिल्ली के लिए निकले कांग्रेस नगरसेवक संदीप सहारे कल दिल्ली में पहुँच आलाकमान को मनपा में जारी भ्रस्टाचार पर पर्दा डालने के लिए सक्रिय कांग्रेसी नगरसेवकों की शिकायत भी करेंगे।

विभिन्न नीतियां बनाने का निर्देश
महापौर ने आज के आमसभा में उपस्थित विषयों की गंभीरता को देख एक माह में खेल नीति,सुरक्षा रक्षकों के खाते में सीधा वेतन राशि जमा करने की नीति,१५ दिनों में पूर्व नगरसेवकों की फलक रखने/हटाने की नीति,शहर भर में स्थापित महापुरुषों के पुतलों के नीचे/निकट उनकी संक्षिप्त जीवनी लिखे हेतु एक माह के भीतर नीति बनाने के निर्देश दिए गए.

२ घंटे देरी से शुरू हुई कामकाज
आज मनपा की आमसभा पुरानी परंपरा का निर्वाह करते हुए लगभग २ घंटे देरी से कामकाज शुरू की गई.सुबह ११ बजे का समय तय होने के बाद मनपायुक्त वीरेंद्र सिंह लगभग ३० मिनट पूर्व नगरभवन में पहुँच गए थे लेकिन नगरसेवक,पदाधिकारियों के निष्क्रियता और समय की महत्व के प्रति गंभीर न होने से कामकाज देरी से शुरू हुआ.इस दरम्यान एक दफे आयुक्त नगरभवन के सभागृह में आकर भी बैठे।

हैंजर ने ३ करोड़ का स्क्रैप बेचा
भाजपा के सभापति व अधिवक्ता धर्मपाल मेश्राम ने मनपा की लापरवाही पर उंगलिया उठाते हुए गंभीर आरोप लगाया कि भांडेवाड़ी में मनपा ने हैंजर नामक कंपनी को वर्ष २०२१ तक के लिए दिया गया था.मामले की गंभीरता को देखते हुए महापौर ने मनपायुक्त से मामले की जाँच कर दोषी पर कार्रवाई और चोरी करने वाले के खिलाफ थाने में एफआईआर दर्ज करवाने का निर्देश दिया।

लाडे व बोरकर ने संभाला कामकाज
मनपा सचिव दुबे की अनुपस्थिति में अतिरिक्त उपायुक्त रंजना लाडे और सत्तापक्ष नेता संदीप जोशी की अनुपस्थिति में बाल्या बोरकर ने आमसभा के कामकाज का संचलन उम्मीद के अनुरूप किया।

सड़क ख़राब करने वालों के लिए फतवा
मनपायुक्त वीरेंद्र सिंह ने डामर या सीमेंट सड़क की खुदाई और फिर पुनः व्यवस्थित करने के मामले में सभागृह को जानकारी दी कि अब खोदने के लिए अनुमति अनिवार्य रहेंगी। इन ठेकेदारों से सेक्युरिटी डिपाजिट ली जाएंगी।जमीन के नीचे गडर,पानी की लाइन,केबल आदि की वर्त्तमान वस्तुस्थिति हेतु जीपीआर सर्वे कर निश्चित करना होंगा कि बिछी लाइन सही हैं या फिर डैमेज।इसके बाद खोदने की अनुमति दी जाएंगी। इस सन्दर्भ में प्रत्येक माह शासकीय-निमशासकीय विभागों को नियमित बैठक होंगी।इस बैठक में आयुक्त,अतिरिक्त आयुक्त,उपायुक्त मनपा की ओर से उपस्थित रहेंगे। इस मामले में मनपा हॉटमिक्स विभाग प्रमुख और जोन के उप अभियंता की अहम् जिम्मेदारियां होंगी।