Published On : Wed, Aug 11th, 2021

CONTRACT TERMINATE का कोई असर नहीं

– 6 अगस्त 2021 को नोटिस जारी होने के बाद भी मेसर्स यश ऑउटडोर्स बैनर स्टैंड की बुकिंग ले रहा

नागपुर : नागपुर महानगरपालिका यूँ ही नहीं आर्थिक अड़चन में हैं बल्कि उसे मनपा के सम्बंधित अधिकारी वर्ग खुद के स्वार्थपूर्ति के उद्देश्य से पिछले एक दशक से आर्थिक अड़चन में ला खड़ा किया।इतना ही नहीं ऐसे अधिकारियोँ पर मनपा प्रशासन की मेहरबानी के कार्यप्रणाली पर सवाल खड़े होना शुरू हो गए कि मनपा का असली ‘विभीषण’ कौन हैं ? इसका असर शहर के विकासकार्यों पर पड़ रहा.

उदाहरणार्थ मनपा विज्ञापन विभाग में बकायेदारों की फेरहिस्त लंबी-चौड़ी हैं,इन पर बकाया भी करोड़ो में हैं.मनपा के हद के विज्ञापन होर्डिंग के टेंडर (गैन्ट्री सह) समय समाप्ति के बाद भी EXTENSION दर EXTENSION दिया जा रहा,क्या विज्ञापन विभाग का बकायेदार ठेकेदारों से कोई गोपनीय समझौता है ?

इनके प्रमुख बकायेदारों में से मेसर्स यश ऑउटडोर्स पर 3,91,39,549 रूपए का बकाया हैं.इनसे एक रूपए भी वसूल करने में विभाग असफल रहा.पिछले ढाई साल से कार्रवाई के नाम पर कागजों पर काला-पीला किया जा रहा.अब जबकि 6 अगस्त 2021 को मनपा विज्ञापन विभाग ने मेसर्स यश ऑउटडोर्स का CONTRACT TERMINATE का नोटिस जारी किया।इसके बाद भी ‘यश’ बैनर स्टैंड की बुकिंग ले रहा और अपनी रोजमर्रा का INCOME का क्रम जारी रखा हुआ हैं,ऐसा लग रहा कि CONTRACT TERMINATE नोटिस का कोई असर हुआ ही नहीं।

M/S YASH OUTDOORS के खुलेआम ग़ैरकृत के लिए मनपा विज्ञापन विभाग का खुला समर्थन होने की विश्वसनीय जानकारी मिली हैं.इसलिए इस पर विभाग द्वारा PHYSICAL ACTION नहीं हो रहा,इस मामले में सत्तापक्ष ने भी चुप्पी साध रखी है.

उल्लेखनीय यह है कि M/S YASH OUTDOORS को दिए गए CONTRACT TERMINATE NOTICE के अनुसार 550 बैनर स्टैंड जप्त करने की सूचना सभी जोन प्रमुखों को दी गई,इसके साथ ही नया विज्ञापन प्रदर्शन पर भी रोक लगाने का निर्देश दिया गया.लेकिन किसी के कानों पर समाचार लिखे जाने तक जूं नहीं रेंगना समझ परे है.

ऐसा ही कुछ हाल संपत्ति कर विभाग है,नियमित कर दाता को देरी होने पर जप्ती की चेतावनी और कर न देने वालों को पिछले 6 साल का कर भरने का अवसर दिया जाना ,मनपा को चुना लगाने का प्रकार है.