Published On : Thu, Aug 10th, 2017

कांग्रेस ने की दीनदयाल उपाध्याय के मृत्यु की जाँच की माँग

नागपुर: जनसंघ के पूर्व अध्यक्ष दीनदयाल उपाध्याय का देश इस वर्ष जन्मशताब्दी वर्ष मना रहा है। केंद्र सरकार ने बाकायदा एक वार्षिक कार्यक्रम का ऐलान किया है। वर्त्तमान में सत्ताधारी भारतीय जनता पार्टी की राजनीति के केंन्द्रबिंदु में दीनदयाल उपाध्याय की विचारधारा ही है। 11 फ़रवरी 1968 को उत्तरप्रदेश के मुगलसराय स्टेशन पर उपाध्याय ट्रेन में ही संदेहास्पद स्थिति में मृत पाए गए थे। तब से लेकर अब तक बीजेपी उनकी हत्या होने का आरोप करती आयी है। अब सत्ता बीजेपी के पास ही है इसलिए दीनदयाल उपाध्याय की मृत्यु की जाँच करने की माँग कांग्रेस द्वारा उठाई गयी है। महाराष्ट्र में कांग्रेस के प्रवक्ता सचिन सावंत ने गुरुवार को एक पत्र परिषद लेकर सरकार ने जाँच की माँग की है।

सावंत ने कहाँ बीते 49 वर्ष से दीनदयाल उपाध्याय की मृत्यु के कारण पर प्रश्नचिन्ह लगा हुआ है इस वर्ष देश दीनदयाल जी का जन्मशताब्दी वर्ष मना रहा है। ऐसे में मृत्यु के कारणों का पता लगाने के लिए मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से करे ऐसी माँग कांग्रेस की तरफ से सावंत ने की। सावंत के मुताबिक भाजपा के आदर्श उपाध्याय की जन्मशताब्दी के अवसर पर देश भर में कई कार्यक्रमों का आयोजन हो रहा है। विधिमंडल में अभिनंदन प्रस्ताव के माध्यम से चर्चा होने वाली है ऐसे व्यक्तित्व की मृत्यु का कारण देश को पता लगना चाहिए। सरकार ने सुभासचंद्र बोस के मृत्यु के कारण की जाँच करने में तत्परता दिखाई हमें उम्मीद थी की उपाध्याय के मामले में भी पूरी जाँच होगी पर केंद्र में सत्ता में आए बीजेपी को तीन वर्ष हो चुके है फिर भी अब तक इस मामले में कोई कदम उठाया नहीं गया है। दीनदयाल उपाध्याय की रिश्तेदार और बीजेपी नेता मधु शुक्ला ने भी मामले की जाँच किये जाने की माँग है।