Published On : Wed, Feb 5th, 2020

अतिक्रमण उन्मूलन कार्रवाई के खिलाफ कांग्रेसी नगरसेवक

उनका आरोप हैं कि महापौर – आयुक्त गैरकानूनी ढंग से सड़क किनारे रोजी-रोटी कमाने वालों को परेशान कर रही

नागपुर – सर्वसम्मति से कानूनी सलाह लेकर मनपा प्रशासन महापौर संदीप जोशी के निर्देश पर शहर भर के सड़कों – सरकारी संपत्तियों पर अतिक्रमण करने वालों पर पिछले कुछ दिनों से कार्रवाई कर रही। मनपा में नए आयुक्त तुकाराम मुंढे ने भी इस मुहिम को संरक्षण देने से सम्पूर्ण विपक्ष बौखला गया और रविवार से अतिक्रमणकारियों के समर्थन में कूद गया। पिछले रविवार को भी अतिक्रमण उन्मूलन की कार्रवाई के तहत मंगळवारी ज़ोन के निकट लगभग 60 ठेले जप्त किये गए। जप्त कर मंगळवारी ज़ोन परिसर में जमा किया गया। इसके डेढ़-2 घंटे बाद फ़िल्मी स्टाइल में कांग्रेसी नेतृत्वकर्ता जोन परिसर से सभी हाथ ठेले उठा ले भागे।

आज शाम इसी कांग्रेस पक्ष के नगरसेवक ने महापौर सह आयुक्त द्वारा किये जा रहे अतिक्रमण करने वालों के समर्थन में अपनी आवाज बुलंद की। उनका कहना था कि उक्त अधिकारी-पदाधिकारी नियमों का उल्लंघन कर मनमानी कर रहे,जबकि स्ट्रीट वेंडर नियम के तहत अतिक्रमणकारियों का जायज अधिकार हैं। कार्रवाई के तहत नैसर्गिक बाज़ारों पर कार्रवाई अन्यायकरक हैं।

महापौर स्ट्रीट वेंडर एक्ट के अध्ययन करें और इस हिसाब से की जा रही कार्रवाई पर रोक लगाए। महापौर वॉक एन टॉक की तर्ज पर उक्त अतिक्रमणकारियों से भी चर्चा करें। इस संबंध में वे पालकमंत्री से मुलाकात करेंगे और यह भी कहा कि वे की जा रही अतिक्रमण उन्मूलन कार्रवाई का खुलकर विरोध करेंगे,जहां जहां प्रभावित उन्हें आमंत्रित करेंगे। अतिक्रमणकारियों से आव्हान किया कि वे डरे नहीं, व्यवसाय करें।

दूसरी ओर महापौर संदीप जोशी ने कहा कि लोकशाही में सभी को समान अधिकार हैं, वे समर्थन करें या खिलाफत। मनपा की अतिक्रमण उन्मूलन कार्रवाई नियमानुसार हैं, वह भी उच्च न्यायालय के निर्देशानुसार कार्रवाई जारी हैं। न्यायालय के आदेशानुसार सड़क और फुटपाथ फ्री करना हैं। जब यह कार्रवाई की योजना बनाई जा रही थी,इसके लिए विशेष सभा पहली मर्तबा बुलाई गई,इसमें नदारत रहना फिर अतिक्रमणकारियों के साथ रहना उचित नहीं।

महापौर जोशी ने बताया कि यह भी कड़वा सत्य हैं कि हाकिंग जोन निर्माण करने में मनपा असफल रही। इसे पूर्ण करने में 3 माह लगेंगा। कार्रवाई के विरोधी सब्जी वालों को हॉकर्स के रूप में परिवर्तित कर उन्हें गुमराह कर रही।