Published On : Mon, May 4th, 2020

गोंदिया:ऑर्डर अभी बन रहे हैं , समय अनुसार जारी होंगे ?

जब तक नया आदेश नहीं आता , पुराना आदेश लागू रहेगा

गोंदिया: लाकडाउन को 17 मई तक बढ़ा दिया गया है , देश को ग्रीन, ऑरेंज और रेड जोन में बांटा गया है ।
गोंदिया ग्रीन जोन सूची में समाविष्ट है ऐसे में यहां के व्यापारियो की निगाहें कलेक्टर ऑफिस पर लगी रहीं के आखिरकार सेंट्रल गवर्नमेंट की गाइडलाइन मुताबिक 4 मई सुबह के लिए क्या नये आदेश जारी होते हैं ? लेकिन दोपहर से शाम हो गई और आर्डर जारी नहीं हुए तथा कहा गया कि कल इस पर कोई निर्णय लिया जाएगा ?

बाजार में दुकानों के आसपास टहलते नजर आए व्यापारी
आज 4 मई सोमवार की सुबह से कुछ व्यापारी अपने बाजार स्थित दुकानों के आसपास इस उम्मीद में टहलते हुए नजर आए के शायद अवसर मिले तो वे अपनी दुकानें खोल सकें ?

लेकिन बाजार क्षेत्र में पुलिस की गश्त अधिक तेज होने से व्यापारियों की हिम्मत जवाब दे गई।

हमने इस संदर्भ में जिला प्रशासन और आपत्ती व्यवस्थापन विभाग के अधिकारियों से बात की। उनका जवाब था- कारोबारी जनता की सेवा के लिए बाजार में दुकानें खोलने हेतु दौड़ रहे हैं या व्यापार के लिए दौड़ रहे हैं ?

सेंट्रल गवर्नमेंट के ग्रीनजोन के नियम हर राज्य नहीं मान रहा है। मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने 3 मई के रात वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए जिलाधिकारी से बातचीत की और गोंदिया की स्थिति का जायजा लिया। जिसमें कहा गया कि अगले एक हफ्ते लगभग 25 हजार अलग-अलग राज्यों में फंसे गोंदिया जिले के विद्यार्थी , मजदूर और अन्य लोग जिले में प्रवेश करेंगे ऐसे में सारे व्यापार को खोलने की छूट देने से स्थिति विस्फोटक होने में देर नहीं लगेगी। और ग्रीन जोन से ऑरेंज जोन और रेड जोन श्रेणी में आने में समय नहीं लगेगा , ऐसे में तकलीफ बढ़ सकती है।

राज्य सरकार की ओर से कलेक्टर को स्वयं विवेक से निर्णय लेने के अधिकार दिए गए हैं।
फिलहाल दूध , भाजीपाला , सब्जी , किराना ,मेडिकल जैसी जीवन आवश्यक सेवाएं वैसे ही यथावत जारी रहेंगी साथ ही जब तक कलेक्टर का अगला आदेश आता नही , तब तक दुकान नहीं खुलेंगे और सिर्फ जो पुराने आदेश है जिसमें इलेक्ट्रॉनिक्स फेन , लोहा, सीमेंट , बांधकाम सामग्री की दुकानें और चश्माघर ( अप्टिकल शॉप ) वही पुराने आदेश की दुकानें चालू रहेगी।

ऑर्डर अभी बन रहे हैं समय अनुसार जारी होंगे ? व्यापारियों को थोड़ा संयम रखना पड़ेगा क्योंकि गोंदिया अभी भाग्यशाली है कि राज्य के 36 जिलों की सूची में अभी भी वह ग्रीन जोन में बना हुआ है यह एक बड़ी उपलब्धि है , इस स्थिति को बरकरार रखना पड़ेगा ? इसीलिए सभी नागरिकों से सहयोग की अपील जिला प्रशासन की ओर से की गई है।

रवि आर्य