Published On : Tue, Jan 25th, 2022

खनन प्रबंधकों की मौन सहमति से कोयला तस्करी

Advertisement

– सुरक्षा पहरेदार मौन अधिकारी और तस्कर मालामाल

नागपुर– कोल इंडिया लिमिटेड के वरिष्ठ अधिकारियों की कृपा दृष्टी से अधिकांश कोयला खदानों के कोयला साइडिंग यार्डों से कोयला की तस्करी चरम पर है ? कुल मिलाकर कोयला चोरी और स्मगलिंग के माध्यम से सरकार को प्रतिदिन करोड़ों का चूना लगाया जा रहा हैl

Advertisement
Advertisement

कोयला मंत्रालय के खनन और उत्पादन विभाग के गोपनीय सूत्रों की माने तो वेस्टर्न कोलफील्ड्स लिमिटेड (वेकोलि), कोल इण्डिया लिमिटेड की आठ सहायक कंपनियों में से एक है जो कि कोयला मंत्रालय के प्रशासनिक नियंत्रण में संचालित है l हालकि वेकोलि को कम्पनी अधिनियम 1956 के अधीन सम्मिलित किया जा चुका है और इसका पंजीकृत कार्यालय कोल एस्टेट, सिविल लाइन्स, नागपुर – 440 001 में है ।

वेकोलि को 15 मार्च 2007 को “मिनिरत्न” का दर्जा प्रदान किया जा चुका है। बताते है कि कोल इंडिया लिमिटेड मुख्यालय कोलकाता के अनुसार वेकोलि के खनन और उत्पादन प्रबंधकों की सांठगांठ से वणी क्षेत्र एवं वणी नार्थ क्षेत्र की ओपन कास्ट कोयला खदान के कोयला यार्डों मे लगी आग से कोयला धूं-धूं कर जल रहा है ?

दुसरी तरफ रात्री के समय उच्च गुणवत्ता के कोयला निजि फर्मो के ट्रकों से तस्करी जमकर की जा रही है ?

प्रत्यक्षदर्शी सुरक्षा पहरेदारों की माने तो वणी क्षेत्र की ओपन कास्ट कोयला यार्डों से 25 दिसंबर से 31 दिसंबर की रात्री मे जहां कोल बेल्ट एरिया के कर्मियों और अफसर नये साल का जस्न मना रहे थे ? वही उकर्णी और निजलई की खुली कोयला यार्डों से जेसीबी व लोडर के माध्यम से ठेका फर्मों के ट्रकों और टिप्परों से कोयला की तस्करी जोरों पर शुरु थी ?

मामले मे वेकोलि के क्षेत्रीय महाप्रबंधक, उप प्रबंधकों,खनन प्रबंधन के शह पर ट्रक आपूर्ती ठेका फर्मो के ट्रकों और टिप्परों से कोयला स्मगलिंग का गोरख धंधा शुरु था ?

बताते है कि गोंदिया की फर्मों के ट्रकों के माध्यम से रात्री के समय कोयला की तस्करी की जा रही है ? उसी प्रकार वेकोलि बल्लारपुर एरिया की ओपनकास्ट तथा भूमिगत कोयला खदानों से भी उक्त फर्मो के ट्रकों से चल रही तस्करी पूर्ण शबाब पर है ? इस मामले मे वेकोलि के प्रबंधक उत्पादन और खनन प्रबंधन विभाग की कृपा दृष्टी बनी हूई है ?

यह सनसनीखेज जानकारी वेकोलि के अनेक ईमानदार सुरक्षा पहरेदारों ने अपनी कर्तव्यदक्षता का परिचय दिया तथा अपना नाम प्रकाशित न करने की शर्त पर बताया कि तस्करी किया जाने वाले कोयला को वेकोलि एरिया की सडकों पर ही दूसरे ट्रकों मे लोड कर दिया जाता है l हालकि वेकोलि के सुरक्षा अधिकारियों की देखरेख मे यह अवैध तस्करी का उपक्रम पिछले अनेक सालों से चला आ रहा है?

हालकि दिखावा के लिए सुरक्षा पहरेदारों द्वारा रात के समय सम्बधित मार्गों पर निगरानी शुरु रहती है ? सबसे अधिक कोयला की कालाबाजारी वणी क्षेत्र व वणी नार्थ क्षेत्र के अलावा वरोरा की कोयला खदानों तथा महाकाली चंद्रपुर क्षेत्र मे भी रात्री के समय उच्च गुणवत्ता के कोयला की तस्करी ,चरम पर है जमकर शुरु हैlनतीजतन कोयला माफिया मालामाल हो रहे है परंतु उसके वाहन श्रमिकों के साथ ना इन्साफी हो रही है ?

राजुरा पुलिस स्टेशन के एक सेवानिवृत्त पोलिस उपनिरीक्षक के अनुसार यह कोयला तस्करी का कारोबार वकोलि मुख्यालय कोल स्टेट सेमीनरी हिल्स नागपूर के दिशानिर्देशों पर चलता है ? सबसे अधिक कोयला की कालाबाजारी आम चुनाव वाले महिनों मे चलता है? नेताओं को लाखों करोडों रुपये चुनाव चंदा के लिए निधी उपलब्ध करवाने के लिए यह अवैध उपक्रम बखूबी शुरु रहता है ?

अधिकारियों की चल व अचल संपत्ती की जांच जरुरी
वेकोलि के ईमानदार और कर्तव्यदक्ष कर्मियों की माने तो वेकोलि मुख्यालय के वरिष्ठ अधिकारियों तथा वेकोलि महाप्रबंधकों,उप प्रबंधकों,उत्पादन प्रबंधकों ,वित्त प्रबंधकों और खनन प्रबंधकों की चल व अचल संपत्ती की जांच जांचपडताल शुरु की गयी तो भ्रष्टाचार मे लिप्त दोषी अधिकारियों के चेहरे से नकाब उतर सकता है ? जिसके मुताबिक कोल इंडिया लिमिटेड कोलकाता मुख्यालय तथा कोयला मंत्रालय को ज्ञापन सौंपा गया है?

Advertisement

Advertisement
Advertisement
 

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement