Published On : Mon, Nov 20th, 2017

राम मंदिर मुद्दे पर अब बातचीत का कोई मतलब नहीं, इस पर मध्यस्‍थता कोर्ट के काम में बाधा: योगी


लखनऊ: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने आर्ट ऑफ लिविंग के संस्थापक श्री श्री रवि शंकर के अयोध्या विवाद पर समझौते के प्रयासों को सिरे से खारिज कर दिया है। उन्होंने कहा कि इस मामले में सुप्रीम कोर्ट ने 5 दिसंबर से रोजाना सुनवाई का फैसला ले लिया है। ऐसे में अदालत से बाहर बातचीत या मध्यस्थता के प्रयास न्यायालय के काम में बाधा ही डालेंगे।

इसलिए सभी पक्षों को धैर्य के साथ अदालत का फैसला मंजूर करना चाहिए। उन्होंने यूपी के नगर निकाय चुनाव के साथ-साथ हिमाचल और गुजरात के चुनावों में भी भाजपा को भारी बढ़त मिलने का दावा किया।

मुख्यमंत्री सोमवार को होटल ताज में एक निजी चैनल के कार्यक्रम में अपनी बात रख रहे थे। एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि श्री श्री उनसे लखनऊ आकर मिले थे। किसी मुद्दा विशेष पर उनसे बातचीत नहीं हुई। यह एक सामान्य शिष्टाचार मुलाकात थी। उन्होंने कहा कि अयोध्या विवाद पर इलाहाबाद हाईकोर्ट का फैसला 2010 में आया था। इन सात वर्षों में किसी भी पक्ष ने बातचीत नहीं की। इसलिए केस के मौजूदा स्टेज पर बातचीत या मध्यस्थता की कोई तुक समझ नहीं आती।

उन्होंने कहा कि श्री श्री रवि शंकर या समझौता का प्रयास कर रहे अन्य लोग इस मामले में अदालत में पक्षकार नहीं हैं, इसलिए उनसे बात नहीं बन सकती। बातचीत तभी सार्थक परिणाम दे सकती है, जब इसके लिए पक्षकार तैयार हों। साथ ही स्पष्ट किया कि अदालत में सरकार भी पार्टी नहीं है, इसलिए जो तय करना है, वो तीनों पक्षकार ही तय कर सकते हैं। मामला जब संवाद से हल न हो तो न्यायालय के फैसले का इंतजार करना चाहिए।

अखिलेश को दिया घर बैठे-बैठे ट्वीट करने का मौका
योगी ने पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव पर निशाना साधते हुए कहा कि नगर निकाय के चुनावों में विरोधी मैदान छोड़कर भाग खड़े हुए हैं। हां, भाजपा ने उन्हें घर में बैठे-बैठे ट्वीट करने का मौका जरूर दे दिया है। साथ ही कहा कि यह अच्छा है कि लोग बेरोजगार होकर अपराध की ओर न बढ़ें, बल्कि घर में बैठकर ट्वीट करके अपना समय पास करें।

मंदिर में भी नमाज की मुद्रा में बैठते हैं राहुल
योगी ने कहा कि राहुल गांधी के कांग्रेस अध्यक्ष बनने से भाजपा का कांग्रेस मुक्त भारत का सपना जल्द पूरा होगा। उन्होंने कहा कि जिस कांग्रेस ने रामसेतु के मुद्दे पर कोर्ट में कहा था कि राम और कृष्ण काल्पनिक चरित्र हैं, आज उसी पार्टी के उपाध्यक्ष राहुल गांधी के गुजरात के मंदिरों में जाना हास्यास्पद है। राहुल गांधी वाराणसी के काशी विश्वनाथ मंदिर में जाकर ऐसे बैठे, मानो नमाज पढ़ रहे हों। पुजारी के टोकने पर उन्हें पूजा की मुद्रा में आना पड़ा।

फिल्म में एतिहासिक तथ्यों से छेड़छाड़ मंजूर नहीं
योगी ने कहा कि पद्मावती फिल्म में अगर कुछ भी आपत्तिजनक नहीं है, तो इसके निर्माता और निर्देशक विरोध करने वालों के प्रतिनिधियों को इसे दिखा क्यों नहीं रहे हैं। ऐतिहासिक तथ्यों के साथ छेड़छाड़ और जनभावना के साथ खिलवाड़ सहन नहीं किया जा सकता। क्या सेंसर बोर्ड के फिल्म को हरी झंडी देने पर वे इसे यूपी में चलने देंगे? इस सवाल के जवाब में योगी ने कहा कि वे काल्पनिक सवालों के जवाब नहीं देते।

भगवा रंग के बढ़ते चलन पर एतराज क्यों
सीएम ने कहा कि मौजूदा सरकार में दो डिप्टी सीएम होने से कामों में सहयोग मिलता है, जबकि पिछली सरकार में साढ़े चार सीएम होने से भ्रष्टाचार का बोलबाला था। उन्होंने कहा कि अखिलेश सरकार हमेशा अपनी अधूरी परियोजनाओं के लिए जानी जाएगी।

एक सवाल के जवाब में योगी ने कहा कि अगर लोग कार्यक्रमों में भगवा रंग को अपना रहे हैं तो इसमें एतराज क्या है। हमारी संस्कृति में भगवा रंग त्याग का प्रतीक है। योगी ने कहा कि 8 महीनों में कानून-व्यवस्था सुधरी है।

किसी भी मंत्री या विधायक ने अधिकारियों के साथ अभद्रता नहीं की। प्रशासनिक अधिकारियों का उन्हें पूरा सहयोग मिल रहा है। एक सवाल के जवाब में उन्होंने कहा कि कोई भी अधिकारी शासन के आदेश के उल्लंघन का साहस नहीं कर सकता।

भूमाफिया के खिलाफ दिसंबर में चलेगा विशेष अभियान
योगी ने कहा कि दिसंबर में पूरे प्रदेश में भू-माफिया के खिलाफ विशेष अभियान चलाया जाएगा। उनका कब्जा हटाने के लिए कार्रवाई में होने वाला खर्च भी उनसे वसूला जाएगा।

अपराधियों से निपटने के लिए पुलिस को पूरी छूट
सीएम ने कहा कि अपराधियों से निपटने के लिए पुलिस को पूरी छूट दे दी गई है। अगर आपराधिक प्रवृत्ति का व्यक्ति बातों से नहीं मानता है तो उसके खिलाफ आगे के कदम उठाने के लिए कह दिया गया है।

गाजियाबाद में दो हत्याओं के मुद्दे पर उन्होंने कहा कि आपरेशन क्लीन अभी शुरू हुआ है। स्थिति पूरी तरह से काबू में आने में वक्त लगेगा। सीएम ने कहा कि आईपीएस एसोसिएशन या किसी भी अधिकारी ने उनसे रोजाना के कामों में राजनीतिक दखल होने की शिकायत नहीं की है।

उन्होंने एंटी रोमियो स्क्वॉयड को और सक्रिय किए जाने की जरूरत भी बताई। उन्होंने यूपी में अब यादव की जगह ठाकुर जाति के अधिकारी तैनात किए जाने के आरोपों को बेबुनियाद बताया। कहा कि वे संकीर्ण सोच रखने वालों के सवालों के जवाब नहीं देते।