Published On : Fri, Mar 1st, 2019

पहली बार जिला वार्षिक योजना में मिला 776 करोड़ रुपए का निधि- पालकमंत्री चंद्रशेखर बावनकुले

नागपूर- जिले और शहर के विकास के कामों के लिए निधि उपलब्ध करके देनेवाला महत्व का श्रोत जिला वार्षिक योजना है. इस योजना में पिछले 5 वर्षो में तीन गुना ज्यादा बढ़त हुई है. नागपुर के जिला वार्षिक योजना में इस बार 776 करोड़ 87 लाख मंजूर किए गए है. इतने बड़े प्रमाण में यह निधि विकास कामो को पहली बार मिला है.मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस के कारण इतना निधि मिला संभव हो सका है. यह जानकारी शुक्रवार को जिले के पालकमंत्री और राज्य के ऊर्जामंत्री चंद्रशेखर बावनकुले ने आयोजित पत्र परिषद् में दी. उन्होंने जानकारी देते हुए बताया की 2013-14 में जिला वार्षिक योजना केवल 175 करोड़ रुपए की थी. इसके बाद हर साल इस योजना निधि को बढ़ाने के लिए प्रयास किया गया है. पिछले पांच वर्षो में मुख्यमंत्री ने शासन विकास निधि में तीन गुना बढ़ाकर इस बार 776 करोड़ रुपए जिले को उपलब्ध कराकर दिया है. जिसके कारण कोई भी विकास कार्य निधि के अभाव में नहीं रुकेगा. इसके बाद 776 करोड़ से कम निधि कभी जिले को नहीं मिलेगा. पिछले वर्ष की 650 करोड़ रुपए की जिला वार्षिक योजना इस बार 776 करोड़ पर गई है. यह 19 प्रतिशत की बढ़त है.

सर्वसाधारण बढ़त यह 452 करोड़ से 525 करोड़ यानी 74 करोड़ की बढ़त है. केंद्र पुरुस्कृत योजना राज्यस्तर पर जाने के कारण 26 करोड़ की बचत ध्यान में रखते हुए 100 करोड़ रुपए इस योजना में बढ़ाए गए है. इस योजना के अंतर्गत अनुसूचित जाती उपयोजना निधि 76 करोड़ रुपए बढ़ा है. अनुसूचित जमाती उपयोजना का निधि 51.58 करोड़ से बढ़ा है. नागरी भाग के विकास कामों के लिए निधि में 105 प्रतिशत की बढ़त हुई है. ग्रामीण भाग के विकास कामों के निधि में 23 प्रतिशत, आरोग्य वैघकीय शिक्षा के लिए 70 प्रतिशत की बढ़त हुई है. क्रीड़ा क्षेत्र के लिए 222 प्रतिशत निधि में बढ़त हुई है.

महिला बालकल्याण विभाग के निधि में 90 प्रतिशत की बढ़ोत्तरी हुई है. इसके लिए 12 करोड़ रुपए मंजूर किए गए है. प्राथमिक शिक्षा के लिए 17.61 करोड़ दिए गए है. उच्च शिक्षा के लिए 137 प्रतिशत की बढ़त हुई है, इसके लिए 8.19 करोड़ रुपए मंजूर किए गए है. सड़क विकास के लिए 75.28 करोड़ रुपए दिए गए है, जिसमे 21 प्रतिशत की बढ़त हुई है. मुख्यमंत्री ग्राम सड़क योजना के लिए 85 करोड़ रुपए दिए गए है. इसमें 25 प्रतिशत की बढ़त हुई है. लघु सिंचाई के लिए 33.41 करोड़ रुपए दिया गया है. इसमें 49 प्रतिशत की बढ़त हुई है. ऊर्जा विकास के क्षेत्र के लिए 50. 35 करोड़ रुपए इसमें 20 प्रतिशत की बढ़त हुई है. आदिवासी किसानों के लिए 3.38 करोड़ रुपए मंजूर हुए. जो 99 प्रतिशत की बढ़त है. अनुसूचित जमाती के किसानों के लिए 9 करोड़ रुपए, इसमें 105 प्रतिशत बढे है. वनों के विकास के लिए 14.95 करोड़ रुपए दिए है. इसमें 41 प्रतिशत की बढ़त हुई है.

पालकमंत्री ने इस दौरान अन्य जानकारियां भी दी. उन्होंने कहा की सेंट्रल जेल को भी 16 किलोमीटर बाहर शिफ्ट किया जाएगा. चौराई डैम का पानी रोकने की वजह से तोतलाडोह में पानी कम है. फिलहाल शहर में पानी है. उन्होंने कहा की पिने के पानी के लिए मध्यप्रदेश के प्रिंसिपल सेक्रेटरी से बात की गई थी. उन्होंने पानी देने की बात कही थी. इस पत्र में परिषद् में महापौर नंदा जिचकार और विधायक सुधाकर कोहले मौजूद थे.