Published On : Sat, Jul 27th, 2019

मध्य रेल के नागपुर मण्डल ने ‘ बिल नहीं तो पैसे नहीं ‘ अभियान के अंतर्गत 12 यात्रियों के पैसे लौटाए गए

नागपुर: भारतीय रेल द्वारा ‘बिल नहीं तो पैसे नहीं’ के अंतर्गत अभियान चलाया जा रहा है. इसी के तहत मध्य रेल के नागपुर मण्डल एवं आयआरसीटीसी के संयुक्त रूप से ‘ बिल नहीं तो पैसे नहीं ’ विशेष आकस्मिक अभियान चलाया गया. इस विशेष आकस्मिक अभियान मे नागपुर से सेवाग्राम के दरम्यान दो गाड़ियों की जांच की गई जिसमे गाड़ी संख्या 12616 नई दिल्ली – चेन्नई जीटी एक्सप्रेस मे यात्रा कर रहे रेल यात्रियों को खाद्य पदार्थ लेने पर उसका उचित बिल दिया गया.

जिससे यात्री बहुत खुश हुए एवं इस अभियान के लिए रेल प्रशासन की सराहना की एवं प्रतिक्रिया दी की ऐसे अभियान से खाद्यपदार्थ विक्रेताओ द्वारा खाद्य पदार्थो पर जो अतिरिक्त पैसा वसूला जाता था उस पर रोक लगेंगी. इसी अभियान मे गाड़ी संख्या 12590 की भी जांच की गई. जिसमे यात्रा कर रहे कुछ रेल यात्रियों को खाद्यपदार्थ लेने पर बिल नहीं दिया गया उन 12 रेल यात्रियों को पैंट्री कार मैनेजर से बात करके पैसे लौटाए गए.

अभियान मे रेल यात्रियों को समझाया गया की यदि खाद्यपदार्थ विक्रेताओ से प्रत्येक खाद्यपदार्थ लेने पर खाद्यपदार्थ विक्रेताओ से बिल की मांग करें यदि खाद्यपदार्थ विक्रेता बिल नहीं देता है ऐसे समय उसे पैसे न दे यह जनजागृति की गई.

यह अभियान मण्डल रेल प्रबन्धक सोमेश कुमार के मार्गदर्शन, वरिष्ठ मण्डल वाणिज्य प्रबन्धक कृष्णाथ पाटिल के नेतृत्व एवं सहायक वाणिज्य प्रबन्धक खानपान विपुल सूस्कर के निरीक्षण मे किया गया. अभियान मे मुख्य वाणिज्य निरीक्षक खानपान एस. पी. घोटकर, एरिया मैनेजर (आयआरसीटीसी) सिद्दीकी, तिवारी एवं कर्मचारी उपस्थित थे.