Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!
    | | Contact: 8407908145 |
    Published On : Tue, Feb 11th, 2020

    सोच समझ कर चयन करें नई-पुरानी में से किसी एक कर प्रणाली का–जुल्फेश शाह

    प्रसिद्ध वित्तीय विशेषज्ञ सीए ज़ुल्फेश शाह ने कहा कि आम बजट 2020 में करदाताओ को पुरानी आयकर प्रणाली के साथ बने रहने अथवा नई आयकर प्रणाली को अपनाने का विकल्प दिया गया है.करदाता फिलहाल असमंजस की स्थिति में है और तय कर पाने में कठिनाई महसूस कर रहे है कि कौनसी कर प्रणाली को आनेवाले वित्तीय वर्ष 2020-21 में अपनाए?शाह ने चर्चा सत्र में बताया कि पुरानी कर प्रणाली में करदाताओ को पहले की तरह ही कर चुकाना होगा जबकि नई कर प्रणाली में उन्हें कम टैक्स का भुगतान करना पड़ेगा.पर नई कर प्रणाली में उन्हें कुल मिलाकर 70 प्रकार की छूट का लाभ छोड़ना होगा.ऐसी स्थिति में करदाताओ को नई अथवा पुरानी कर प्रणाली में से किसी एक को चुनने का निर्णय सोच-समझकर तथा सभी पहलुओं को ध्यान में रखते हुए सावधानी से कर सलाहकार की सलाह से लेना उचित होगा.

    सीए शाह चेम्बर ऑफ स्माल इंडस्ट्री एसोसिएशन(कोसिया) एवं जीआईजेड आयएंडसी के संयुक्त तत्वधान में बजट 2020 आयोजित सेमिनार में बतौर मुख्य वक्ता संबोधित कर रहे थे.आयकर में जो प्रमुख घोषणाएं बजट में की गयी उसके बारे में बताते हुए कहा कि यदि विक्रेता का स्वयं का सालाना सेल 10 करोड़ रुपए से अधिक है तो उस विक्रेता को खरीददार से सालाना 50 लाख रु से अधिक की वस्तु की बिक्री करने पर 0.1% टैक्स कलेक्ट ऐट सोर्स(टी सी एस)लेना अनिवार्य होगा.यदि खरीददार के पास पैन या आधार कार्ड नही है तो टी सी एस का रेट 1% होगा.इसका असर सूक्ष्म, लघु एवं मन्ज़ोले उधोगो पर विपरीत होगा.क्योंकि इसमें अधिकांश ग्राहक भारत के करदाता नही है.

    इसके मायने ये कि निर्यातकों को या तो अपनी जेब से 1% टी सी एस देना होगा या उत्पादको को अधिक मार्जिन पर बेचना होगा.इससे कंप्लायंस का बोझ बढ़ने के साथ वर्किंग कैपिटल ब्लॉक हो जाएंगी.शाह ने नई धारा 271 AAD ,ऑनलाइन ट्रस्त पंजीकरण,सर्कल रेट्स,लाभांश पर आयकर में प्रस्तावित बदलाव के बारे में जानकारी दी.सेमीनार में दूसरे वक्त वरिष्ठ चार्टर्ड अकाउंटेंट संदीप धोदपकर ने बजट में एमएसएमई पर होनेवाले असर पर प्रकाश डाला.उन्होंने कहा कि बजट में स्टार्ट अप्स एवं नए उद्यमी के लिए सकारात्मक घोषणाएं की गई है.

    सर्वप्रथम कोसिया के अध्यक्ष मयंक शुक्ल ने स्वागत भाषण करते हुए कोसिया की विविद गतिविधियों के बारे में अवगत कराया.डॉ रविन्द्र अहेर ने जिआयजेड inc के बारे में जानकारी दी.प्रणव अम्बेसेलकर ने संचालन एवं आभार प्रदर्शन किया.इस अवसर पर संदीप दरवेकार,चन्दर खोसला, रीता लांजेवार,मनीषा बावनकर,अनंत कामठीकर,सुब्रोतो गुहा,नितिन आलशी,जोएब अनवर,सतीश गुप्ता, गिरीश पांडे,स्वपनिल वरम्भे,मनीष पुणेकर, सीए अजय जैन,रुचिर अग्रवाल, आशुतोष दास सहित उद्योग-व्यापार जगत से जुड़े लोग बडी संख्या में उपस्थित थे.


    Stay Updated : Download Our App
    Mo. 8407908145