Published On : Thu, Jun 1st, 2017

आर्थिक स्थिति को मात देकर सिक्योरिटी गार्ड की बेटी ने हासिल किये 86 % अंक

नागपुर: महाराष्ट्र राज्य माध्यमिक व उच्च माध्यमिक शिक्षा मंडल के रिजल्ट घोषित होने के बाद सभी विद्यार्थी अपने उज्वल भविष्य के लिए प्रयासरत है. लेकिन विपरीत परिस्तिथियों के बावजूद अच्छे अंक हासिल करनेवाले विद्यार्थियों की भी कमी नहीं है.ऐसी ही एक छात्रा है दीक्षा विजय श्रीवास. दीक्षा सेमिनरी हिल्स के सुरेन्द्रगढ़ में रहती है और धरमपेठ के जी.एस कॉलेज में वह कॉमर्स की छात्रा है.दीक्षा ने अपनी काबिलियत और मेहनत के दम पर बारवीं की परीक्षा में 86 प्रतिशत अंक हासिल किये है. बेटी द्वारा इतने अच्छे अंक लाने के बाद उसके पिता और उसकी माँ काफी खुश है.

बैंकिंग क्षेत्र में बनाना है करिअर
दीक्षा ने बताया की वह धरमपेठ के जी.एस कॉलेज में पढ़ती है और आगे एम.बी.ए करने की इच्छा है. लेकिन आर्थिक स्थिति ठीक नहीं होने से एम.बी.ए की फीस को लेकर दीक्षा के चेहरे पर थोड़ी परेशानी भी साफ़ नजर आती है. उसने बैंकिंग फैकल्टी में जाने की इच्छा है.उसने बताया की बारवीं की परीक्षा में उसने 86 % अंक हासिल किए है और दसवीं की परीक्षा में उसने 74.40 % अंक मिले थे . दीक्षा ने बारवीं की परीक्षा में 650 में से 559 अंक हासिल किए है.

पिता करते है सिक्योरिटी गार्ड की नौकरी
दीक्षा के पिता विजय श्रीवास गोकुलपेठ में एक निजी जगह पर सिक्योरिटी गार्ड का काम करते है. जबकि मां रजनी श्रीवास गृहिणी है. एक बड़ी बहन है और एक बड़ा भाई है. जो कि एक कपडे की दूकान में काम करता है.

किताबें पढ़ने का है शौक
दीक्षा ने नागपुर टुडे को बताया की उसे पढ़ाई करने के अलावा किताबे पढ़ने, फिल्म और क्रिकेट देखने का काफी शौक है. पढ़ाई के दौरान दीक्षा की मदद उसके बड़े भाई पियूष ने की,जिसके कारण उसे विषयों को समझने में परेशानी नहीं हुई. सफलता का श्रेय दीक्षा ने अपने माता पिता को दिया है, साथ ही इसके कॉलेज के शिक्षकों को भी उसने धन्यवाद् दिया है.जिन्होंने समय – समय पर उसकी मदद की है. वह मां और पिताजी के लिए वह कुछ करना चाहती है. दीक्षा के माता पिता बेटी की इस सफ़लता पर बहुत खुश है।