Published On : Fri, Oct 29th, 2021

केंद्र सरकार के निगमीकरण,निजिकरण देशविघातक नीती के खिलाफ बीएमएस का आंदोलन

– आयुध निर्मानी परिसर मे नारे लगाकर किया निषेध

वाडी– भारतीय मजदूर संघ के आवाहन पर 28.10.2021 को आयुध निर्माणी मजदूर संघ द्वारा सार्वजनिक क्षेत्रों को बचाने, राष्ट्र बचाने और मांगों के लिए केंद्र सरकार की नीतियों के खिलाफ एकदिवसीय आंदोलन आयुध निर्मानी परिसर मे किया गया. सार्वजनिक क्षेत्र के विनिवेश, निजीकरण, मुद्रीकरण, निगमीकरण और सामरिक बिक्री पर रोक, एफडीआई सीमा बढ़ाने पर रोक,• बैंकों, बीमा और सार्वजनिक क्षेत्रों के विलय पर रोक;- कोयला क्षेत्र के व्यावसायीकरण पर रोक लगाने, उपरोक्त मांगों के लिए आयुध निर्माणी मजदूर संघ द्वारा सुबह 7:00 बजे गेट नंबर 3 पर नारेबाजी की गई।
28.10.2021 को भारत के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को महाप्रबंधक के माध्यम से ज्ञापन भेजा गया.आ.नि.म.संघ अध्यक्ष महाविरसिंह व्यास द्वारा बताया गया कि, उपरोक्त विरोध, भारतीय मजदूर संघ बजट सत्र तक सरकारी कार्रवाई की प्रतीक्षा करेगा और यदि सरकार अपनी नीति पर कायम रहती है और हमारी मांगों को स्वीकार नहीं करती है तो बीएमएस सरकार के खिलाफ भविष्य मे तीव्र आंदोलन करनेका फैसला करेगी,

उपरोक्त आंदोलनात्मक कार्यक्रम में श्रीराम बाटवे, एम.एम.रंगदळे, आर.पी.चावरे, हर्षल ठोंबरे, बंडू तिडके इनके नेतृत्व में महाविरसिंह व्यास, सचिन डाबरे, संजय वानखेड़े, ओ.पी.उपाध्याय,अतुल चवरे, सचिन थोराने, विनय इंगळे,जे.के.सिंह, तुषार सेलोकर,सुमित चाफले,शिव शर्मा, शैलेश तायडे, मुकुंद इखार, ओ.पी.राय,प्रशांत चौधरी एम.मंजुनाथ,ताराकांत बेहरा, निखील मिटकरी, विकेश उजगावकर,नितीन पडोळे,सुनिल पाटिल,प्रशांत चौधरी रुपेश लांजेवार,शरद साखरकर,किशोर मेटकर,राहुल रणदिवे, रविंद्र दळवी,राजेंद्र जोध,अंजनी कुमार आदी कार्यकर्ताओने भारी संख्या मे सम्मिलित होकर इस आंदोलन को सफल बनाया।