Published On : Mon, Jan 30th, 2017

अन्य अनिमितताएं भी उजागर हो रही हैं भोंसला मिलिट्री स्कूल की

Advertisement


नागपुर:
 अवैध रूप से जमीन कब्जे का मामला उजागर होते ही भोंसला मिलिट्री स्कूल की अन्य अनिमिताएं भी सामने आने लगी हैं। भोंसला मिलिट्री स्कूल प्रबंधन के खिलाफ मोर्चा खोलने वाले किसान विवेक सिसोदिया ने ‘नागपुर टुडे’ को बताया है कि जल्दी ही स्कूल प्रबंधन को पुणे स्थित शिक्षा विभाग के उपनिदेशक कार्यालय में हाजिरी लगाना है, क्योंकि प्रबंधन ने चतुर्थ श्रेणी के कई कर्मचारियों को बिना किसी नोटिस के काम से निकाला है, इन्हीं में से दो कर्मचारियों ने राज्य के शिक्षा उपनिदेशक कार्यालय में स्कूल प्रबंधन के खिलाफ शिकायत दर्ज करायी, जिस पर प्रबंधन का पक्ष जानने एवं उन पर कार्रवाई के लिए पुणे तलब किया गया है। १ फरवरी २०१७ को स्कूल प्रबंधन की शिक्षा उपनिदेशक कार्यालय में पेशी होनी है।

स्विमिंग टैंक में विद्यार्थी की मृत्यु
भोंसला मिलिट्री स्कूल की एक विद्यार्थी की दो महीने पहले यहाँ के तरणताल यानी स्विमिंग पूल में डूबकर मृत्यु हो गयी थी। लेकिन स्कूल प्रबंधन ने इस प्रकरण को पूरी तरह दबा दिया। तैराकी प्रशिक्षकों के रहते हुए भी विद्यार्थी की मृत्यु होना, कई तरह के संदेहों को जन्म देती है। विवेक सिसोदिया ने यह आरोप लगाते हुए प्रशासन से मांग की है कि विद्यार्थी की डूबकर मृत्यु होने के मामले की जाँच किसी स्वतंत्र एजेंसी से करायी जानी चाहिए।

मनमानी फीस लेकिन पालकों के साथ दुर्व्यवहार
स्कूल प्रबंधन द्वारा विद्यार्थियों से वार्षिक शुल्क के तौर पर सवा लाख रुपए वसूले जाने का आरोप किसान सिसोदिया ने लगाते हुए बताया कि इस आवासीय स्कूल के विद्यार्थियों से मिलने के लिए जब उनके अभिभावक या पालक आते हैं तो उनके साथ स्कूल प्रबंधन बहुत दुर्व्यवहार करता है, यहाँ तक कि अभिभावकों और पालकों को शालेय परिसर के शौचालय भी इस्तेमाल नहीं करने दिए जाते हैं और फारिग होने के लिए अभिभावक या तो स्कूल के समीप के गाँव वालों के यहाँ आश्रय लेते हैं या फिर खुले में उन्हें अपनी प्राकृतिक जरुरतों को पूरा करने के लिए बाध्य होना पड़ता है।

Advertisement
Advertisement














Advertisement

Advertisement
Advertisement
 

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement