Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!
    | | Contact: 8407908145 |
    Published On : Sun, Feb 28th, 2021

    नागपुर शहर के बजाज नगर पुलिस स्टेशन को जानिये…….

    भाग 4 – नागपुर टुडे

    नागपुर टुडे – नागपुर शहर के बजाज नगर पुलिस स्टेशन की नींव 31 अक्टुबर 2016 को रखी गई इसे धंतोली, सीताबर्डी, अंबाझरी और राणा प्रताप नगर पुलिस स्टेशनों के क्षेत्र को विभाजित करके स्थापित किया गया है । वर्तमान में इस पुलिस थाने की कमान सीनियर पुलिस इंस्पेक्टर महेेेश कृष्णराव चव्हाण (1996 बैच के पीएसआई ) संभाल रहे है. इस थाने में कुल 74 कर्मचारियों समेत 10 पुलिस अधिकारी और एक पुलिस निरीक्षक पदस्थ हैं ।

    बजाज नगर थाने के तहत तीन बड़े बिट्स आते हैं जिसमें दीक्षाभूमि, शंकर नगर और लक्ष्मीनगर का परिसर शामिल
    हैं। इन इलाकों में विश्वस्तरीय ऐतिहासिक स्मारक जिसे बौद्ध धर्मीय पुजास्थल “दीक्षाभूमि” के नाम से भी जाना जाता है जहां भारतरत्न बाबासाहेब अंबेडकर ने बौद्ध धर्म की दीक्षा ली थी। इसी इलाके में रिसर्च सेंटर ” निरी “(National Environmental Engineering Of Research Institute) का समावेश है। शहर के सबसे पॉश इलाके में शुमार रामदासपेठ में सिख समाज का एक भव्य गुरुद्वारा है जहाँ दर्शनार्थी आते जाते है। भारत की नामचीन शिक्षण संस्था वीएनआईटी का एक बड़ा परिसर भी इसमे शामील है। काचीपुरा और दंतेश्वरी झोपड़पट्टी जैसे स्लम क्षेत्र भी बजाजनगर पुलिस स्टेशन के अंतर्गत आते है। जिसमें लगभग करीब 15000 नागरिक रहते हैं, यह इस पुलिस स्टेशन के अंतर्गत आनेवाला एक संवेदनशील परिसर है। इसके अलावा शहर के जानेमाने नेतागण, उद्योगपतियों से पटे इस क्षेत्र में कॉंग्रेस नेता नाना पटोले, विलास मुत्तेमवार, जोगेंद्र कवाडे, विजय दर्डा जैसे वीआईपी भी बजाज नगर थाना क्षेत्र में ही रहते है।

    ‘ नागपुर टुडे ‘ से बात करते हुए, पीआई महेश चव्हाण ने बजाज नगर पुलिस द्वारा नागरिकों और पुलिस के बीच समन्वय बनाने के लिए किए गए विभिन्न प्रयासों पर बात की। इसके अलावा, क्षेत्र में यातायात की समस्या को कम करने और दुर्घटनाओं पर अंकुश लगाने के लिए फिक्स पॉइंट्स में रोजाना नाकाबंदी भी शुरू कर रखी है. पीआई चव्हाण ने अपनी एक अनोखी पहल के बारे में भी विस्तार से बताया की, इलाके में अपने बच्चो से दूर अकेले रह रहे सिनियर सिटीजन नागरिकों पर विशेष ध्यान दिया जा रहा है. जिनके बच्चे विदेश में काम कर रहे हैं या पढ़ाई कर रहे हैं, और जो बजाज नगर पुलिस स्टेशन के अंतर्गत आनेवाले विभिन्न परिसरों में अकेले रहते हैं।

    पीआई महेश चव्हाण ने नागरिकों को किसी भी आपात स्थिति के मामले में या यदि कोई किसी गुप्त जानकारी को साझा करना चाहता है, तो उसे सीधे अपने पर्सनल मोबाइल फोन – 9923004995 पर कॉल करने की सलाह दी है। पुलिस निरीक्षक चव्हाण ने नागरिकों को आश्वासन दिया है की उनके नाम गुप्त रखे जाएंगे।

    24 घंटेबनिगरानी में है दीक्षाभूमि, निरि और वीएनआईटी परिसर –
    किसी भी अप्रिय घटना को रोकने के लिए और आसपास के क्षेत्र में शांति बनाए रखने के लिए, ऐतिहासिक दर्शनस्थल दीक्षाभूमि बजाज नगर पुलिस की निरंतर निगरानी में है. पीआई चव्हाण ने कहा कि इसके अलावा वे खुद आएदिन दीक्षाभूमि, निरि और वीएनआईटी कॉलेज में दौरा करते है, और दीक्षाभूमि में आनेवाले लगातार पर्यटकों, आसपास के निवासियों और कॉलेज छात्रों की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए प्रयास करते है ।

    स्थानीय सहभागिता का महत्व :
    बजाज नगर पुलिस नागरिकों के प्रश्नों को जानने के लिए ड्यूटी पर गश्त करते समय नागरिकों के साथ समन्वय रख उनसे उन्हें आ रही दिक्कतों के बारे में वार्तालाप भी करती है। इसके अलावा नागरिकों की शिकायतों को सुनने के लिए शांतता कमेटी , मोहल्ला बैठकें और वरिष्ठ नागरिक के साथ बैठकों का आयोजन भी किया जाता है. इस पुलिस स्टेशन के अंतर्गत शहर के दो प्रमुख कॉलेज – वीएनआईटी कॉलेज और डॉ. बाबासाहेब आंबेडकर कॉलेज भी क्षेत्राधिकार में आते हैं, थाने में विशेष स्क्वॉड में महिला पुलिस अधिकारी भी शामिल हैं जो क्षेत्र की महिला से संबंधीत मुद्दों पर विशेष ध्यान देती हैं ।

    अकेले रहने वाले सिनियर सिटीजन नागरिकों पर विशेष निगरानी :
    “बजाज नगर पुलिस स्टेशन के क्षेत्र में वरिष्ठ नागरिकों की अधिकतम संख्या है जो अकेले रहते हैं. क्योंकि उनके बच्चे दूसरे शहरों या विदेश में काम कर रहे हैं या विदेश में अपनी पढ़ाई पूरी कर रहे हैं. उनकी सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए, उनकी निगरानी के लिए एक स्पेशल स्क्वॉड की नियुक्ति की है. हमने उनके नौकरों, ड्राइवरों और यहां तक कि केबल ऑपरेटरों के बारे में एक डेटा तैयार किया है. हमारे कर्मचारी लगातार उनके संपर्क में हैं और यहां तक कि लॉकडाउन अवधि के दौरान भी उनकी काफी मदद की. पीआई चव्हाण ने कहा की इमरजेंसी के किसी भी मामले में मुझसे संपर्क करने के लिए मैंने अपना निजी मोबाइल नंबर भी उनके साथ साझा किया था । यह समूचे भारत मे एक अनूठी पहल है।

    PI Mahesh Chavan

    सावधानियां ही बचाव का उपाय है: पीआई चव्हाण
    बजाज नगर पुलिस थाने के अंतर्गत यहाँ तुलनात्मक रूप से बॉडी ऑफेंसेस के अपराध के मामले कम हैं। हालांकि, चेन स्नेचिंग, हाउसब्रेकिंग बेहद चिंता का विषय है, पीआई चौहान ने बताया कि उन्होंने सभी नागरिकों से घर पर सीसीटीवी लगाने की अपील की है, सुबह या शाम की सैर के लिए सोने के गहने पहनने से बचें, क्योंकि किसी भी घटना को रोकने के लिए सावधानियां बरतना बचाव का सबसे अच्छा उपाय हैं.

    नागरिकों को अपने परिसर के पुलिस स्टेशन के बारे में जानने के लिए, नागपुर टुडे ने एक विशेष सीरीज शुरू की है, जिसका नाम – अपने पुलिस स्टेशन को जाने. जिससे कि पुलिस स्टेशन से संबंधित सभी आवश्यक जानकारी आम जनता तक पहुँचाई जा सके. पुलिस स्टेशन की स्टोरी में, आप संबंधित पुलिस स्टेशनों के पुलिस इंस्पेक्टर, किसी भी आपात स्थिति के दौरान उनसे संपर्क करने के साधन, क्षेत्र में होनेवाली योजनाओ के बारे में जानकारी आम लोगों तक पहुंचाने की कोशिश ‘ नागपुर टुडे ‘ की ओर से की जा रही है.

    – रविकांत कांबळे , शमानंद तायड़े 


    Stay Updated : Download Our App
    Mo. 8407908145