Published On : Sat, Oct 27th, 2018

एबीवीपी की मांगो को नागपुर यूनिवर्सिटी की सिनेट सभा ने किया गया मंजूर

पदाधिकारियो ने जताई ख़ुशी

नागपुर: एबीवीपी की ओर से नागपुर यूनिवर्सिटी पर 2016 में विद्यार्थियों के हितों के लिए भव्य मोर्चा निकाला गया था. विद्यार्थी परिषद् अपनी मांगों को लगातार नागपुर यूनिवर्सिटी प्रशासन से दोहराता आ रहा है. अभी हाल फिलहाल सिनेट सभा में एबीवीपी द्वारा उठाए गए कई मुद्दों को मंजूर किया है. जिसमें यूनिवर्सिटी सम्बंधित कॉलेजों के विद्यार्थियों को बिना ब्याज के शिक्षा कर्ज उपलब्ध करवाकर देगी.

कमाओ और पढ़ो योजना का लाभ शहरी और ग्रामीण क्षेत्र के प्रत्येक कॉलेजों के 10 प्रतिशत विद्यार्थियों को इसमें शामिल किया जाएगा. रिवैल्युएशन में पास हुए विद्यार्थियों को अगले प्रवेश के लिए लेट फ़ीस नहीं देनी होगी. साथ ही रिवेल में पास हुए प्रत्येक विद्यार्थी को 100 प्रतिशत शुल्क लौटाया जाएगा. नागपुर यूनिवर्सिटी का प्रस्तावित सिंथेटिक ट्रक व इंडोर स्टेडियम क्रीड़ा परिसर में बनाया जाएगा. नागपुर यूनिवर्सिटी और सम्बंधित कॉलेजों में दिव्यांग फ्रेंडली कैंपस तैयार किया जाएगा. नागपुर यूनिवर्सिटी की लाइब्रेरी 24 घंटे शुरू रहेगी.


एबीवीपी की मांग और सिनेट सदस्यों के प्रयत्नों के कारण नागपुर यूनिवर्सिटी के विद्यार्थियों को लाभ मिलेगा. इसके बाद भी एबीवीपी विद्यार्थियों की समस्या के लिए लड़ाई लड़ेगी और नागपुर यूनिवर्सिटी का दर्जा कायम रखने का प्रयास करेगी. यह बात महानगर मंत्री वैभव बावनकर ने कही. इन मांगों को मनवाने के लिए सिनेट सदस्य विष्णु चांगदे, दिनेश शेराम, वसंत चुटे, वामन तुर्के, टार्जन गायकवाड़, सुनील खंडारे, विजय मुनिशवर, प्रवीण उदापुरे, प्रवीण रणदिवे ने किया.