Published On : Sat, Sep 21st, 2019

शो के दौरान अंजना ने आदित्य ठाकरे के बारे में कहा- ये शिवसेना का ‘राहुल गांधी’ साबित होगा, लिख लीजिए

मेनस्ट्रीम मीडिया में बड़बोलापन कम होने का नाम ही नहीं ले रहा है। एंकर धीरे धीरे जनता के बीच ऐसी धारणा बनाने की कोशिश कर रहा है जिसमें कोई भी नेता पापू, और निठल्ला साबित हो सके।

इस बार मामला खुद को सबसे तेज बताने वाले चैनल का है। जो सीधे सीधे शिवसेना नेता आदित्य ठाकरे की तुलना राहुल गांधी करते हुए बता रहा है कि जैसे वो पप्पू निकले वैसे आदित्य भी पप्पू निकलेंगे।

दरअसल सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है। जिसमें आजतक की एंकर अंजना ओम कश्यप की आवाज आ रही है। जिसमें वो कह रही हैं कि ‘ये शिवसेना का राहुल गांधी साबित होगा’, लिखकर रख लीजिए आप। एक एंकर द्वारा ऐसी बात कहना कहाँ तक ठीक है ? क्या किसी भी नेता को सिर्फ इसलिए निशाना बनाया जा सकता है कि वो आक्रामक नहीं है ?

ऐसे में ये भी कहना है कि ये राहुल गांधी साबित होगा, इसका क्या मतलब हो सकता है। क्या किसी को इस तरह से कहन उचित है?

आदित्य ठाकरे इंडिया टुडे कॉन्क्लेव में हिस्सा लेने पहुंचे थे। जब ये खबर आजतक चैनल पर चलाई गई तो चैनलों में पीसीआर की टीम ने अंजना का माइक ऑन रखा और आदित्य का ऑडियो पीछे चलने लगा। इस वीडियो में अंजना किसी से ये कहते हुए नज़र आ रही कि ये शिवसेना का राहुल गांधी साबित होगा, लिखकर रख लीजिए।

पहली बात तो कांग्रेस नेता राहुल गांधी और शिवसेना नेता आदित्य ठाकरे दोनों अलग-अलग विचारधाराओं के नेता है। अब ऐसे में जब आदित्य से सवाल किया गया कि क्या वो चुनाव लड़ेंगे तो उन्होंने कहा कि मैं ज़िम्मेदारी से भाग नहीं रहा है जहां ज़रूरत पड़ेगी तो मैं चुनाव लडूंगा। अब बयान पर अंजना ने जो कहा वो उनके विचार को उजागर करता है।

कैसे मीडिया में बड़ी डिबेट करने वाले लोग एक पार्टी के नेता को किस नज़र से देखते है। क्योंकि शिवसेना और कांग्रेस दोनों ही दलों पर परिवारवाद को लेकर निशाना साधा जाता है।

क्या ये मीडिया की नफरत है जो राहुल गांधी को एक कमजोर नेता के रूप में पेश करती है।

वैसे भी, ज़्यादातर एंकर जो प्राइम टाइम में ज़्यादातर सरकार की गुणगान करते हुए नज़र आते हैं वो कैसे निष्पक्ष हो सकते है।