Published On : Sat, Mar 2nd, 2019

मनपा के सभी वाहनों को करें सीएनजी में तब्दील

कुकड़े के प्रस्ताव पर ध्यान देने की गडकरी ने दी मनपा को सलाह


नागपुर : शनिवार सुबह मनपा मुख्यालय में केंद्रीय भूतल परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने मनपा सिटी बस के बेड़े डीजल से सीएनजी में परिवर्तित किए गए बस का उद्धघाटन किया. इस दौरान उन्होंने मनपा परिवहन समिति सभापति बंटी कुकड़े के प्रस्ताव पर मुहर लगाते हुए मनपा प्रशासन को सुझाव दिया कि मनपा के पदाधिकारियों और अधिकारियों के वाहनों को भी सीएनजी में तब्दील किया जाना चाहिए.

गडकरी ने पत्रकारों से चर्चा करते हुए कहा कि उदघाटित सीएनजी बस रविवार से तय रूट पर दौड़ती नज़र आएगी. इसके बाद मनपा की 150 स्टैंडर्ड बसों को सीएनजी में तब्दील किया जाएगा. इसके लिए आरटीओ से सभी प्रकार की अनुमतियां ले ली गई हैं. इस क्रम में महापौर ने सबसे पहले उनके वाहन को सीएनजी में तब्दील कराने के लिए सहमति प्रदान की.

गडकरी ने आगे कहा कि सीएनजी बसों के संचलन से शहर प्रदूषण मुक्त और यहां के नागरिकों की सेहत पर दुष्परिणाम नहीं होंगे. धीरे धीरे मनपा की सभी आपली बसों को सीएनजी में परिवर्तित करने से मनपा का लगभग 75 करोड़ रुपए की बचत होगी.

कुकड़े ने जानकारी दी कि गुजरात के पोर्ट से एलएनजी नागपुर आयेगा. इसे नागपुर में सीएनजी में तब्दील किया जाएगा. सीएनजी का मदर स्टेशन खापरी में ट्रैवेल टाइम के डिपो में स्थापित किया जाएगा. एक बस में 8 सिलेंडर होंगे, जिसमें 96 किलो सीएनजी रहेगा. जिससे लगभग 400 किलोमीटर बस चलेगी. इससे वायु प्रदूषण से शहर को मुक्ति मिलेगी.

कुकड़े ने जानकारी दी कि मुख्यमंत्री की पहल पर महिला स्पेशल तेजश्विनी बस की खरीदी के लिए 9.25 करोड़ रुपए दिए थे. यह निधि प्रशासन ने अन्यत्र खर्च कर दी थी. कुकड़े के नियमित प्रयासों से आयुक्त ने निधि देने की हामी भरी. टेंडर प्रक्रिया शुरू है, जल्द ही इस राशि से 5 इलेक्ट्रिक बसें खरीदी जाएंगी. इस संदर्भ में टेंडर रविवार को खुलने वाला है.

कुकड़े ने आगे कहा कि 45 मिनी बसें आचार संहिता के पहले लाने के लिए जरूरी प्राथमिकी पहल पूरी कर ली जाएंगी. उन्होंने बताया कि मेघे समूह ने भी उनके समूह की सारी 150 बसों को मनपा की तर्ज पर सीएनजी में तब्दील करने की हामी भरी है. यही नहीं कुकड़े जल्द ही पुलिस आयुक्त और यातायात पुलिस उपायुक्त से मुलाकात कर मिट्टी तेल पर दौड़ रहे ऑटो पर भी कार्रवाई के बजाय उसे सीएनजी में तब्दील करने के लिए प्रोत्साहित करने की मांग करेंगे.