Published On : Mon, Aug 24th, 2020

राज्य की सभी एपीएमसी मंडी सेस के विरोध में एक दिन के लिए बंद : दीपेनअग्रवाल

मंडी सेस के विरोध में एपीएमसी व्यापारी संघों ने 25 अगस्त को मंडी बंद रखने का निर्णय लिया

चेंबर ऑफ महाराष्ट्र इंडस्ट्री एंड ट्रेड (कैमिट) के अध्यक्ष दीपेनअग्रवाल ने कहा कि केंद्र सरकार ने एपीएमसीयार्ड के बाहर बेची गई कृषि वस्तुओं को मंडी सेस से छूट देने के लिए कृषि सुधार अध्यादेश जारी किया है। कैमिट लंबे समय से एपीएमसीसेस को समाप्त करने के लिए राज्य सरकार से अपील कर रहा है। किंतु सरकार से कोई ठोस प्रतिक्रिया न प्राप्त होने के कारण राज्य के सभी एपीएमसी बाजारों के प्रतिनिधियों की हाल ही में कैमिट द्वारा ली गई जूम मीटिंग में २५/०८/२०२० को एक दिन के एपीएमसी-मंडी बंद रखनेका संकल्प लिया।

अश्विन मेहाडिया, अध्यक्ष – नाग विदर्भचेंबर ऑफ कॉमर्स (एनवीसीसी), जो विदर्भ क्षेत्र के लगभग १३ लाख व्यापारियों का प्रतिनिधित्व करता है, ने कैमिट के एक दिन के एपीएमसी बाजार बंद को अपना समर्थन देते हुए कहा कि एपीएमसी व्यापारी, किसानों के अच्छे और बुरे समय के साथी हैं और जब किसान एपीएमसीबाजारो में अपनी उपज लेकर आता है तो उसे मंडी सेस के कारण नुकसान झेलना पड़ता है।

दी होलसेल ग्रैंड एंड सीडमर्चेंट एसोसिएशन के अध्यक्ष संतोष अग्रवाल अध्यक्ष और सचिव प्रताप मोटवानी, कांदाबटाटा बाजार आडतिया वेलफेयर एसोसिएशन के अध्यक्ष अमित गुलवाड़े और सचिव मोहम्मदआफाक, कलमनाधन्यगंजआडतिया मंडल के अध्यक्ष गोपाल कलमकर और सचिव अतुल भाई सेनाड, युवा आडतिया सब्जी एसोसिएशन के अध्यक्ष नंदकिशोरनंदू गौर, कलमना होलसेल मिर्ची मार्केट एसोसिएशन के अध्यक्ष विनोद गर्ग और सचिव संजय वाधवानी एवं कलमनाफ्रूट मार्केट एसोसिएशन के अध्यक्ष राजेशवाधवानी और सचिव पन्नालाल साहू, नागपुरएपीएमसी क्षेत्र में काम करने वाले सभी व्यापारी संघों ने २५ अगस्त को १ दिन एपीएमसी मार्केट बंद का समर्थन किया है और अपने सदस्यों से किसानों और आम जनता के हित में इस बंद का पालन करने की अपील की है।

दीपेनअग्रवाल, अध्यक्ष कमेटी, ने एक बार पुनः राज्य सरकार से एपीएमसी बाजारों में मंडी सेस को तत्काल प्रभाव से समाप्त कर व्यापारियों और किसानों के हितों की रक्षा करने की अपील की है।