Published On : Wed, Dec 5th, 2018

ब्यूरोक्रेटिक गलियारों में अगले मुख्य सचिव को लेकर चर्चाओं का बाजार गर्म

अजय मेहता और यूपीएस मदन के नाम सबसे आगे

नागपुर: चुनाव के पहले राज्य के ब्यूरोक्रेटिक गलियारों में अगले मुख्य सचिव के नामों को लेकर चर्चाओं का बाजार गर्म है. आगामी साल में जनवरी महाने की चौथी तारीख को राज्य सरकार के पांच हाई प्रोफ़ाइल आलाधिकारी अपने चार साल पूरे करने जा रहे हैं. इन अधिकारियों में डॉ. नितिन करीर, मनीषा म्हैस्कर, विकास खारगे, मनुकुनार श्रीवास्तव और राजीव जलोटा शामिल हैं. इनके अगले पद कौन से होंगे यह चर्चा का विषय बना हुआ है. क़यास लगाए जा रहे है कि इनकी बदलियां अगले महीने तक होंगी. बताया जा रहा है कि अंरुनी तौर पर यह तय हो चुका है लेकिन फिलहाल इस पर कोई खिलकर नहीं बोल रहा है.

आंतरिक सूत्रों के अनुसार अगले मुख्य सचिव को लेकर सबकी नज़रें लगी हुई है. इस पद पर दो नामों की चर्चा ख़ासा जोरों पर है, इनमें अजय मेहता और यूपीएस मदन सबसे आगे हैं. मेहता सबसे प्रबल दावेदार माने जा रहे है लेकिन वरिष्ठता के आधार पर मदन की भी दावेदारी मानी जा रही है.


अगर मेहता को यह पद नहीं दिया जाता तो फिर उनके लिए एसीएस गृह विभाग का पद तय माना दा रहा है. इस पद पर फिलहाल पोरवाल हैं जो इसी माह रिटायर हो रहे हैं.
लेकिन समीकरण इतने आसान भी नहीं है. मुख्य सचिव की दौड़ में प्रवीण परदेशी का नाम भी आगे है. इसके लिए वर्तमान के सीएस डीके जैन को दो एक्सटेंशन देना होगा. आगामी चुनावों को देखते हुए और मुख्यमंत्री के चहेते होने के नाते परदेशी को बीएमसी पद पर भी सौंपा जा सकता है.

वहीं आंतरिक सूत्र यह भी बताते हैं कि नितिन करीर के मामले में मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने उनकी स्वास्थ्य विभाग प्रमुख की मांग को दरकिनार कर चुके हैं. वहीं कहा यह भी जा रहा है कि यह मांग उन्होंने करीब डेढ़ साल पहले की थी. दरअसल स्वास्थ्य विभाग को लेकर एक अखबार में छपी खबर को लेकर मुख्यमंत्री निराश थे, इसलिए यह पद उन्हें देने का मन नहीं बनाया गया. माना जा रहा है कि उन्हें भी बीएमसी आयुक्त का पद सौंपा जा सकता है, और नहीं तो उनके यूडी-1 के पद को और एक्सटेंशन दिया जा सकता है.

वहीं सूत्र यह भी बता रहें हैं कि मनीषा म्हैस्कर को उसी पद पर एक्सटेंशन दिया जा सकता है. फिलहाल वे यूडी-2 के पद पर कार्यरत हैं या फिर बिक्री कर विभाग का उन्हें आयुक्त का पद भी दिया जा सकता है. बताया जा रहा है कि अगर मनीषा म्हैस्कर को बीएमसी लाया जाता है तो बीएमसी के वर्तमान आयुक्त संजीव जैस्वाल को यूडी-2 की जिम्मेदारी सौंपी जा सकती है. इधर एक्साइज आयुक्त अश्विनी जोशी ठाणे मनपा आयुक्त के पद के लिए जोर आजमाइश कर रही हैं. इसी तरह सूत्र यह भी कह रहे हैं कि दीपक कपूर अपने इसी एसआरए सीईओ के पद पर कायम रखे जाएंगे.