Published On : Fri, May 3rd, 2019

आईकैड ने दिए शहर से जेईई मेंस- 2019 के टॉपर्स, विद्यार्थियों से ‘नागपुर टुडे ‘ की ख़ास बातचीत

नागपुर: जेईई मेंस का रिजल्ट आ चुका है. नागपुर शहर से भी कुछ छात्रों ने टॉप किया है. जिनके नाम है ईशान जैन, चिन्मय रत्नपारखी, अथर्व वरहाडे, वेदांत साबू, कल्याणी सैनिस. फिलहाल यह छात्र धरमपेठ के आईकैड में कोचिंग ले रहे हैं. तीनों की सफलता में आईकैड कोचिंग का सबसे महत्वपूर्ण योगदान है. ‘ नागपुर टुडे ‘ ने टॉपर्स छात्रों से बातचीत की. ईशान को देश में 120वी रैंक मिली है. उसका पर्सेंटाइल 99.993 है. गणित में उसने 100 पर्सेंटाइल हासिल किए हैं. ईशान के पिता पुनीत जैन फार्मा के बिज़नेस में है और माता नीतू जैन गृहिणी है. ईशान ने बताया कि वे दो वर्षों से इसके लिए मेहनत कर रहे थे. परीक्षा के समय में लगातार 12-12 घंटे तक पढ़ाई करते थे. उन्होंने बताया कि कुछ दिनों से कोई भी मूवी या फिर किसी भी तरह का कोई भी फंक्शन उन्होंने अटेंड नहीं किया है. उन्होंने पहले ही उम्मीद जताई थी कि उन्हें इतने पर्सेंटाइल आएंगे. ईशान का कहना है कि उसके पिता और माँ ने उसकी हर तरह से मदद की उसने जो भी बुक्स मांगी उन्होंने उसे लाकर दी. उन्होंने उसे मोटिवेट भी किया. उन्होंने बताया कि अगले एडवांस्ड के पेपर में भी उसे इसी तरह के पर्सेंटाइल लाने है. ईशान को आईआईटी मुंबई जाना है.

आईकैड संस्थान के ही चिन्मय रत्नपारखी को 197 रैंक मिली है. उनका पर्सेंटाइल 99.987 है. चिन्मय के पिता शिरीष रत्नपारखी और मां मेघा रत्नपारखी दोनों गोंदिया में डॉक्टर है. चिन्मय यहां अपने नाना नानी के साथ रहता है. चिन्मय ने बताया कि वो रोजाना 5 से 6 घंटे तक पढता था. उसने बताया कि दो साल तक पढ़ाई की है. सोशल मीडिया से दूर रहा. परीक्षा किसी भी तरह से कठिन नहीं लगी. चिन्मय ने बताया कि एडवांस्ड की तैयारी कर रहे है और उस परीक्षा में इससे बेहतर की उम्मीद है. चिन्मय ने कहा कि उसे बंगलौर के आईआईएससी में जाना है.

इसी संस्थान के अथर्व वरहाडे का 245वां रैंक है. उसे 99.983 पर्सेंटाइल मिले हैं. अथर्व ओबीसी केटेगरी में शहर से पहला और देश से 27वां है. अथर्व ने बताया कि वह 6 से 7 घंटे तक पढ़ाई करता था. उसके पिता प्रफुल्ल वरहाडे और मां हेमलता वरहाडे स्कुल टीचर है. सेल्फ मोटिवेशन रहा है. अथर्व ने बताया कि आईकैड की तरफ से पूरा सपोर्ट मिला है. रिसोर्सेस और मटेरियल संस्थान से ही मिला है और उसका अचीवमेंट आईकैड के कारण ही है. उसने बताया कि उसे भी बंगलौर के आईआईएससी में जाना है. इसी महीने होनेवाली एडवांस्ड की तैयारी भी अच्छी चल रही है. एक दिन में दो टेस्ट हो रहे है. संस्थान की ओर से घर पर सॉल्व करने भी मटेरियल देते है. गणित में अथर्व ने 100 पर्सेंटाइल प्राप्त किए है.