Published On : Mon, Nov 19th, 2018

अँग्रोव्हिजन का दशकपूर्ती समारोह 23 नवबर से

नागपुर: विदर्भ के किसानों को सुशिक्षित, प्रोत्साहित व सबल करने के उद्देश्य से मा.ना.श्री नितिनजी गडकरी इनके मार्गदर्शन में अँग्रोव्हिजन का आयोजन आरम्भ हुआ। मध्य भारत का यह सबसे बड़ी प्रदर्शनी हैं। दशक वर्ष में 10 वे अँग्रो व्हिजन का आयोजन होगा। अँग्रोव्हिजन का प्रमुख आकर्षण है कार्यशाला जिस मे इस वर्ष उत्पादन तन्त्रग्यान,खेती पध्दति ,जोडधन्दे, अत्याधुनिक तकनीकी शिक्षा, इ.नाम, वायदा बाजार जैसी बाजार सुविधा व मुलभूत सुविधा विषयोपर जोर देनेवाली कार्यशाला आयोजित की जायेगी। 25 से अधिक विषयोपर कार्यशालाओं का आयोजन होगा।

देशभर के विशेषज्ञ विदर्भ के किसानों को मार्गदर्शन करेगें।मध्य भारत की सबसे बड़ी कृषी प्रदर्शनी,10 का अँग्रोव्हिजन आगामी 23 से 26 नवबर तक नागपुर के रेशीमबाग मैदान में आयोजित की जा रही हैं।अँग्रोव्हिजन विदर्भ मे कृषी परिवर्तन का.

माध्यम व किसानों के प्रगति का मार्ग है।प्रदर्शनी के मुख्य प्रवर्तक मा. केद्रीय मन्त्री ना. श्री. नितिन गडकरी इनकी अध्यक्षता में मा. मुख्यमंत्री महाराष्ट्र राज्य, ना.श्री देवेंद्र फडणवीस, मा.ना. श्री योगी आदित्यनाथ, मुख्यमंत्री उत्तर प्रदेश, मा.ना. श्री राधा मोहन सिंह, कृषि व किसान कल्याण मंत्री भारत सरकार, मा.ना.श्री.हन्सराज अहिर, गृह राज्य मन्त्री भारत सरकार इनकी प्रमुख उपस्थिती मे शुक्रवार दि. 23 नवबर को शाम 4 बजे 10 अँग्रोव्हिजन का शुभारम्भ होगा। इस प्रदर्शनी में 350 स्टाल उपलब्ध रहेंगे।

–एक दिवसीय परिषद : 10 अँग्रोव्हिजन मे विदर्भ के कृषी विकास को जोर देने हेतु एनडीडीबी के सहयोग से 24 नवबर 2018 को विदर्भ का दुग्धव्यवसाय विकास, व दि. 25 नवबर 2018 को “बास उत्पादन व अवसर ” इन विषयोपर एकदिवसीय परिषद का आयोजन होगा।

अँग्रोव्हिजन कृषी मथन : अँग्रोव्हिजन के 10 वर्ष पूर्ण होने के निमित्त मे विद्यार्थियों के लिए अग्रोव्हिजन कृषी मथन (अँग्रोथाँन) स्पर्धा का आयोजन किया जायेगा। जिसमें निबंध स्पर्धा,पोस्टर प्रस्तुति व सशोधन, तकनीकी शिक्षा इन तीन मुख्य बातों का समावेश है।

खेतीसबधी प्रत्येक व्यक्ति इस प्रदर्शनी में अवश्य पधारे साथ ही सभी किसान भाई इसका लाभ उठायें ऐसा आवाहन आयोजकोने किया है। पत्रपरिषद मे अँग्रोव्हिजन के मुख्य प्रवर्तक नितिन गडकरी, चंद्रशेखर बावनकुले, सलाहकार समिति के अध्यक्ष डॉ. सी.डी. मायी, सयोजक गिरीश गांधी, आयोजन सचिव रवि बोरटकर, रमेश मानकर व अन्य सभी सदस्य उपस्थित थे।