Published On : Thu, Nov 21st, 2019

भारतीय कृषी के भविष्य का अनुभव, अ‍ॅग्रो व्हिजन में

अ‍ॅग्रो व्हिजन कृषी प्रदर्शन की तय्यारी अब अंतिम चरण पर, मध्य भारत का सबसे बडा कृषी प्रदर्शन, करीब ३५० स्टॉल्स, प्रदर्शन के ६ डोम, कार्यशालाओं के ३ हॉल्स

नागपूर: विदर्भ के किसानों को कृषी क्षेत्र में आनेवाले नवीनतम तंत्रज्ञान और सहायक उद्योगोंकी जानकारी, उनका उपयोग किसानों के उत्पन्न में बढोतरी के लिए होगा और उनकी खेती लाभदायक बनें, इस हेतूसे, केंद्रीय मंत्री नितीन गडकरी इनकी संकल्पना से साकार अ‍ॅग्रो व्हिजन कृषी प्रदर्शन इस शुक्रवार २२ नवंबरसे रेशीमबाग मैदानपर शुरू होने जा रहा है। राष्ट्रीय कृषी प्रदर्शन, किसानों के लिए कार्यशाला, एकदिवसीय परिषदाओं का आयोजन इस स्वरूप में आयोजित अ‍ॅग्रो व्हिजनकी तय्यारी अब अंतिम मोडपर पहुंच चुकी है।

किसान, कृषी तज्ज्ञ और कृषी प्रेमी ऐसे सभी के लिए कुल दस हजार चौरस मीटर जगहपर प्रदर्शन के डोम, बडी मशिनरी के लिए ४ हजार चौरस मीटरके ओपन हँगर तय्यार किए गए है। कार्यशालाओं के लिए १२०० चौरस मीटरके तीन हॉल्स तथा १५०० चौरस मीटरका पशूधन दालन ऐसा कुल १७ हजार चौरस मीटर परिसर प्रदर्शन से व्याप्त है ।

रेशिमबाग मैदान पर २२ नवंबर २०१९ से शुरू होने जा रहे अ‍ॅग्रो व्हिजन राष्ट्रीय कृषी प्रदर्शनी में दो एकदिवसीय परिषदों के साथ ही विविध विषयों पर विस्तृत कार्यशालाएं भी ली जाएंगी । देशभरसे आए तज्ज्ञों का मार्गदर्शन तथा यशस्वी कृषकों की यशोगाथासे प्रेरणा लेनेका एक मौका किसानों को मिलेगा । किसानों के लिए उपयोगी ऐसे अनेक विषयोंपर आयोजित किया गया है । उनमें से कुछ कार्यशालाएं ज्यादा समय के लिए निर्धारीत है।

जिसमें, गन्ना उत्पादन में बढोतरी का तंत्रज्ञान, दुग्धव्यवसाय, फुलोंकी खेती, हल्दी व अद्रक की खेती, संत्रा उत्पादन और प्रक्रीया, सेंद्रीय खेती, मत्स्यपालन (मत्स्यखेती और निर्यात संधी), कुक्कुटपालन, qसचन के साथ ही छोटे किसानों को कमाई बढाने की नईर ाह दिखानेवाले उद्योग जैसे मधुमक्खी पालन, रेशीम खेती, हरितगृह तंत्रज्ञान और शेड नेट, कृषी वित्त पुरवठा, अ‍ॅग्री टुरिझम, सरकारी योजना, जलव्यवसथापन यह आणि इनके जैसे अनेक विषयों का समावेश है। करौंदे की खेती और बिक्रीकी संधी यह नया विषय कार्यशाला में अंतर्भूत है। छ: डोम में करीब ३५० स्टॉल्स कृषी प्रदर्शन में रहेंगे। साथ ही, किसानों का भरपूर प्रतिसाद मिलनेवाला पशूधन दालन इस वर्ष भी अ‍ॅग्रोव्हीजन में रहेगा और जातीवंत पशूओं विस्तृत जानकारी देगा ।

प्रदर्शन में आनेवाले किसानों के रजिस्ट्रेशन के लिए दो काऊंटर्स तय्यार किए है। जिनमें विदर्भ के दुग्ध विकास और प्रक्रीया उद्योग तथा, विदर्भ के कृषी और अन्न प्रक्रीया उद्योगक्षेत्रमें मध्यम, लघू और सुक्ष्म उद्योग क्षेत्र में संधी इस विषयपर एकदिवसीय परिषद का आयोजन कविवर्य सुरेश भट सभागृह में किया गया है । साथ ही, किसानों के लिए बीज, खाद, कृषीविषयक उपकरण, आधुनिक कृषी उपकरणों की जानकारी देनेवाले स्टॉल्स, नाबार्ड के साथ इतर बँकों और कृषीविषयक सरकारी विभागों का अ‍ॅग्रोव्हिजनमें समावेश है, यह जानकारी इस सबसे बडे कृषी प्रदर्शन की पत्रपरिषद में दी गई । इस परिषद में अ‍ॅग्रो व्हिजनके संयोजक गिरीश गांधी, आयोजन सचिव रमेश मानकर, रवी बोरटकर इनके साथ अ‍ॅग्रोव्हिजन सल्लागार समितीके अध्यक्ष डॉ.सी.डी.मायी इनकी प्रमुख उपस्थिती थी ।

किसान, उत्पादक, ग्राहक, कृषी विद्यार्थी और कृषीप्रेमी ऐसे सभी इस कृषी प्रदर्शन को जरूर भेंट दें और कार्यशाला तथा परिषदों का लाभ लेनेका आवाहन आयोजकों की ओरसे किया गया है।

अ‍ॅग्रो व्हिजन कृषी प्रदर्शन के उद्घाटन कार्यक्रम शुक्रवार दिनांक २२ नवंबर को दोपहर ३ बजे रेशिमबाग मैदानपर शुरु होगा । अ‍ॅग्रो व्हिजनके मुख्य प्रवर्तक तथा केंद्रीय मंत्री श्री.नितीन गडकरी इनकी अध्यक्षता में उद्घाटन समारंभ में केंद्रीय कृषी और शेतकरी कल्याण मंत्री श्री.नरेंद्रqसह तोमर प्रमुख अतिथी के रूप में उपस्थित रहेंगे। साथ ही, केंद्रीय मनुष्यबळ विकास, दूरसंचार व माहिती तंत्रज्ञान राज्यमंत्री संजय धोत्रे, महाराष्ट्र के माजी मुख्यमंत्री श्री. देवेंद्र फडणवीस, राज्य के माजी अर्थमंत्री श्री. सुधीर मुनगंटीवार और माजी ऊर्जामंत्री श्री.चंद्रशेखर बावनकुळे इनकी उपस्थिती रहेगी । साथ ही, सीसीएफआय और युपीएल समूह के अध्यक्ष श्री.रज्जुभाई श्रॉफ, राज्यसभा के खासदार पद्मश्री डॉ.विकास महात्मे और रामटेकके खासदार श्री. कृपाल तुमाने, नागपूरके महापौर श्री.संदीप जोशी इनकी इस कार्यक्रम में विशेष उपस्थिती रहेगी ।