| | Contact: 8407908145 |
    Published On : Thu, Jun 10th, 2021

    नागपुर जिले को लेवल-1 की पूर्ण राहत दे प्रशासन – एन.वी.सी.सी.

    रेमेडिसीवीर इंजेक्शन का शासकीय प्रतिबंध से मुक्त करें: अश्विन मेहाड़िया

    विदर्भ के 13 लाख व्यापारियों की अग्रणी व शीर्ष संस्था नाग विदर्भ चेंबर आॅफ काॅमर्स के अध्यक्ष श्री अश्विन मेहाड़िया के नेतृत्व में प्रतिनिधी मंडल ने नागपुर जिले में लेवल-1 की राहत देने का मांग की साथ ही रेमेडिसिवीर इंजेक्शन की दवा विक्रेताओं को मुक्त विक्री की अनुमति देने हेतु माननीय जिल्हाधिकारी श्री रविन्द्रजी ठाकरे एवं म.न.पा. आयुक्त श्री राधाकृष्णन बी. को प्रतिवेदन दिया।

    अध्यक्ष श्री अश्विन मेहाड़िया ने कहा कि महाराष्ट्र राज्य में सरकार ने 7 जून 2021 से संक्रमण एवं उपलब्ध खाली बेड के आधार लेवल-1, लेवल-2, लेवल-3 व लेवल-4 में जिलों को वर्गीकृत कर अॅनलाॅक के दिशा निर्देश जारी कर परिस्थिती के आधार पर स्थानीय प्रशासन को निर्णय लेने के अधिकारी दिये। किंतु स्थानीय प्रशासन ने नागपुर शहर को लेवल-1 में होने के बावजूद लेवल-3 जैसे प्रतिबंध लगाते हुये अॅनलाॅक किया है। जिसके शहर के व्यापारी वर्ग में काफी रोष है।

    सरकार ने अप्रैल 2021 से संपूर्ण राज्य में कड़क निर्बंध लगाये थे। किंतु नागपुर शहर में व्यापारी वर्ग स्थानीय प्रशासन द्वारा मार्च 2021 से ही लाॅकडाउन की मार झेल रहा है। शहर में मई 2021 के शुरूआत से ही संक्रमित मरीजों के आकड़ों में काफी गिरावट दर्ज हुई। वर्तमान में गत सप्ताह से नागपुर में 1.5% से 1.8% मरीज मिल रहे है। तथा रिकवरी रेट भी करीबन 98% है।

    चेंबर के उपाध्यक्ष श्री संजय के. अग्रवाल ने कहा कि राज्य सरकार के दिशा निदेर्शाे के अनुसार साप्ताहिक समीक्षा करते हुये आगामी सोमवार 14 जून 2021 से नागपुर में व्यापारी वर्ग को लेवल-1 की पूर्ण राहत देकर आर्थिक गतिविधी करने की अनुमति देना चाहिये ताकि व्यापारी वर्ग लाॅकडाउन के कारण हुये उनके आर्थिक नुकसान की भरपाई सके।

    साथ साथ ही प्रशासन ने साप्ताहिक समीक्षा हेतु प्रशासनिक अधिकारियों एवं व्यापारी संगठनों के प्रतिनिधियों की समिती बनाना चाहिये। समिती में चेंबर के पदाधिकारी को शामिल किया जाना चाहिये। ताकि व्यापारियों की परेशानियां एवं मुद्दे भी प्रशासन तक पहुंच सके।

    व्यापारी वर्ग को अॅनलाॅक में लेवल-1 की पूर्ण राहत देने के साथ-साथ प्रशासन ने इस बात का भी संज्ञान लेना चाहिये कि जो संक्रमित मरीज घर पर रहकर अपना इलाज करा रहे है वे पूर्ण स्वस्थ्य हुये बिना घर से बाहर न निकले। ऐसे मरीजों के घर पर प्रशासनिक अधिकारियों ने सरप्राइज विजिट देकर उन पर नजर रखना चाहिये तथा जो मरीज हाॅस्पीटल में अपना इलाज करा रहे है वे भी पूर्ण स्वस्थ्य होने के पश्चात् ही घर पर भेजा जाएं। ताकि जनता और प्रशासन के बहुत प्रयासों के बाद जो संक्रमण शहर में कम हुआ है उसे और अधिक फैलने का मौका न मिले।

    चेंबर कें सचिव श्री रामअवतार तोतला ने कहा कि कोरोना संक्रमण की दुसरी लहर में नागपुर शहर में कोरोना संक्रमण का प्रादुर्भाव बहुत अधिक बढ़ गया था। स्थानीय प्रशासन ने रेमेडिसिवीर इंजेक्शन के वितरण के एकमात्र अधिकार जिल्हाधिकारी दिये ताकि जरूरतमंद मरीजों को रेमेडिसिवीर इंजेक्शन समय पर मिल सके। वर्तमान में नागपुर शहर में कोरोना संक्रमण काफी कम हो गया है। बहुत सारे रेमेडिसिवीर इंजेक्शन विक्रताओं के पास उपलब्ध है।

    जिनकी इंजेक्शनों की एक्सपायरी भी अगस्त-सिंतबर 2021 माह है। चेंबर ने जिल्हाधिकारी श्री रवीन्द्रजी ठाकरे निवेदन किया कि वे नागपुर में दवा विक्रेताओं को रेमेडिसिवीर इंजेक्शन की मुक्त विक्री करने की अनुमति देना चाहिये ताकि स्थानीय दवा विक्रेता उनके पास उपलब्ध रेमेडिसिवीर इंजेक्शन को एक्सपायरी तारीखों के पहले बेच सके तथा जिन जिलों में इन इंजेक्शनों की आवश्यकता हो यह इंजेक्शन उन जिलों को आसानी से उपलब्ध हो सके।
    इस अवसर पर चेंबर के सर्वश्री – अध्यक्ष – अश्विन मेहाड़िया, उपाध्यक्ष – संजय के. अग्रवाल, सचिव – रामअवतार तोतला, सहसचिव – उमेश पटेल, स्वप्निल अहिरकर व जनसंपर्क अधिकारी – राजवंतपाल सिंग तुली उपस्थित थे।

    उपरोक्त जानकारी प्रेस विज्ञप्ति द्वारा सचिव श्री रामअवतार तोतला ने दी।

    Stay Updated : Download Our App
    Mo. 8407908145