Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!
    | | Contact: 8407908145 |
    Published On : Sat, Jul 15th, 2017
    nagpurhindinews | By Nagpur Today Nagpur News

    रविवार को आचार्यश्री विद्यासागर महाराज के चातुर्मास की कलश स्थापना

    Acharyashi Vidyasagarrao Maharaj
    नागपुर:
    श्रमण परंपरा के महान संत शिरोमणि महाकवि पूज्य आचार्यश्री विद्यासागर महाराज का चातुर्मास रामटेक शांतिनाथ अतिश्यक्षेत्र में होना तय हुआ है। इस निमित्त 16 जुलाई को दोपहर 1:30 बजे भगवान शातिनाथ सित्रक्षेत्र के प्रांगण में आचार्य संघ, त्यागी व्रति, समाज श्रेष्ठी एवं हजारों जैन-जैनेत्तर अनुयायियों के बीच चातुर्मास मंगल कलश स्थापनोत्सव होगा। चातुर्मास के दौरान र्आचार्यश्री के बेटी बचाओ, बेटी पढ़ाओ की कल्पना को श्री दिगंबर जैन परवार मंदिर ट्रस्ट द्वारा संचालित प्रतिभास्थली ज्ञानोदय विद्यापीठ के द्वारा मूर्त रूप दिया जाएगा। आचार्यश्री द्वारा 2 वर्ष पूर्व प्रारंभ की गई प्रतिभास्थली में वर्तमान में 140 छात्राएं अध्ययनरत हैं। इसकी विशाल इमारत व आवासीय इमारत का निर्माण कार्य जारी है। आचार्यश्री का यह चातुर्मास प्रतिभास्थाली को ही समर्पित है। चार्तमास के दौरान 5 लाख से अधिक लोगों की उपस्थिति आपेक्षित है।

    इस वर्ष संपन्न होने जा रहा चतुर्मास आचार्यश्री का रामटेक में 5 वां चातुर्मास हैै। रामटेक में आचार्यश्री का प्रथम चातुर्मास 1992 में संपन्न हुआ था। आचार्यश्री के चातुर्मास से रामटेक के साथ ही पूरा महाराष्ट्र प्रफुल्लित है। आचार्यश्री से दीक्षित करीब 300 संघस्थ साधु हैं, जो पूरे देश में जनकल्याण व आत्मसाधना के लिए विचरण कर रहे हैं। चातुर्मास मंगल कलश स्थापना के साथ ही आचार्यश्री विद्यासागर महाराज व संघ के 37 मुनिराज रामटेक शांतिनाथ सिद्धक्षेत्र में रहकर साधना में लीन रहेगे। आचार्यश्री के गृहस्थ जीवन के सगे भ्राता मुनिश्री योगसागरजी भी संघस्थ है। चातुर्मास के दौरान आचार्यश्री अपने मंगल प्रवचन से श्रावक व जनमानस को मोक्ष मार्ग से अवगत करेंगे।

    ट्रस्ट के कोषाध्यक्ष क्रांती जैन राजू, प्रचार प्रसार समिति के महेंद्र जैन रूपाली, अतुल मोदी व राजू जैन वर्धावाले ने पत्रकार परिषद के दौरान बताया कि, मंगल कलश स्थापना के पश्चात आचार्यश्री विद्यासागरजी महाराज का प्रथम उदबोधन भगवान शातिनाथ सिद्धक्षेत्र के प्रांगण में आयोजित होगा। इससे पूर्व रतनजड़ित शुद्ध चांदीसे निर्मित व गोल्ड प्लेटेड से सज्जित कलशों के पात्रों का चयन होगा। यह कलश योग्य पात्रों को चातुर्मास के पश्चात प्रदान किए जाएंगे। ये कलश आचार्यश्री व मुनिराजों द्वारा अभिमंत्रित होते हैं। इस अवसर पर ट्रस्ट के मंत्री रत्येंद्र जैन मामू द्वारा प्रस्तावना व अपेक्षाओं को पढ़ा जायेगा। प्रतिभास्थली की ब्रह्मचारणी बहनें एवं छात्राएं व श्रावकगण आचार्यश्री व संघस्थ मुनियों की महाआरती करेंगे।

    दिगंबर जैन परिवार मंदिर ट्रस्ट के अध्यक्ष जिनेन्द्र जैन लालाजी ने बताया कि, ट्रस्ट की ओर से चातुर्मास के दौरान आवास व भोजन की समुचित व्यवस्था रहेगी। इस कार्य में ट्रस्ट, प्रतिभास्थली ज्ञानोदय विद्यापीठ, श्री दिगंबर जैन महावीर पाठशाला, आचार्य विद्यासागर संस्कार केंद्र, जैन वीर सेवा मंडल, ज्ञानोदय सेवा संघ, परवापुरा महिला मंडल, तुलसीनगर जैन मंदिर व्यवस्था समिति तथा चातुर्मास के लिए बनाई गई विशेष कमेटियां सहयोग प्रदान कर रही हैं।


    Stay Updated : Download Our App
    Mo. 8407908145