| | Contact: 8407908145 |
    Published On : Mon, Sep 10th, 2018

    आसी नगर: हाईस्कूल व जूनियर कॉलेज की छात्राएं असामाजिक तत्वों की छेड़खानी से परेशान

    नागपुर: शहर में असामाजिक तत्वों द्वारा लड़कियों के साथ छेड़खानी के मामले काफी बढ़ गए हैं. कई बार यह घटनाएं सामने आती हैं, कई बार सामने नहीं आती है. इसमें सबसे ज्यादा परेशानी से जूझ रही है स्कूली छात्राएं. ऐसे ही पांचपावली पुलिस स्टेशन की हद में आनेवाले आसीनगर स्थित एम.ए. के. आजाद उर्दू हाईस्कूल व जूनियर कॉलेज की छात्राओं को स्कूल से बाहर छेड़खानी का सामना करना पड्ता है.

    स्कूल की छुट्टी होते ही सड़क छाप मजनू स्कूल के बाहर खड़े रहते हैं और छेड़खानी के साथ साथ तेज गाड़िया भी चलाते हैं. जिसके कारण कई बार दुर्घटनाओं की संभावना भी बढ़ जाती है. पिछले वर्ष स्कूल प्रबंधन की ओर से पांचपावली पुलिस स्टेशन में इस मामले में शिकायत की गई थी और उनसे मांग की गई थी कि स्कूल के छूटने के समय पुलिस द्वारा पेट्रोलिंग की जाए. लेकिन इस शिकायत के बाद भी पुलिस द्वारा किसी भी प्रकार की कार्रवाई नहीं की गई और न ही पुलिस द्वारा स्कूल व कॉलेज के चक्कर लगाया गया.

    स्कूल द्वारा एक बार छेड़खानी की घटना होने पर 100 नंबर पर डायल कर इसकी शिकायत की गई थी, तब पुलिस आयी थी. लेकिन पेट्रोलिंग के लिए कभी भी पुलिस नहीं आती है. इस बार भी पांचपावली पुलिस को शिकायत पत्र देने के लिए बनाया गया है. यह शिकायत स्कूल प्रबंधन की ओर से पुलिस स्टेशन में दी जाएगी. देश में ही नहीं शहरों में भी छेड़खानी की घटनाएं बढ़ रही हैं. स्कूल और कॉलेज के गेट के बाहर ऐसी घटनाएं रोजाना होती रहती है. लेकिन पुलिस प्रशासन इस ओर गंभीरता नहीं दिखाने के कारण ऐसे असामाजिक तत्वों के हौसले बुलंद हो जाते हैं. पुलिस प्रशासन को जरूरत है कि वे ऐसी घटनाओं पर लगाम लगाने के लिए स्कूल की शिकायत को गंभीरता से ले और सभी स्कूल और कॉलेज परिसर में गश्त बढ़ाए. कई लड़कियों के परिजनों ने इन घटनाओं के कारण अपनी बेटियों को स्कूल कॉलेज भेजना ही बंद कर दिया है.

    इस बारे में स्कूल के इंचार्ज निजामुद्दीन ने बताया कि स्कूल की छुट्टी होते ही असामाजिक तत्वों के लड़के खड़े रहते हैं. जिसके कारण स्कूल की छात्राओं को काफी परेशानी होती है. शिकायत के बाद भी पुलिस गश्त करने के लिए नहीं आती है. जरूरत है पुलिस की गश्त यहां पर हफ्ते या 15 दिन में एक बार हो. उन्होंने कहा कि कई बार उन्होंने भी असामाजिक तत्वों के लड़कों को समझाईश दी है.

    पांचपावली पुलिस स्टेशन के पुलिस निरीक्षक हिवरे ने इस मामले में बहुत ही साधारण प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि बीच में चक्कर लगाया था लेकिन अब मुझे याद नहीं है. अभी मारबत में व्यस्त हूँ मारबत के बाद स्कूल के लोगों को आने के लिए कहना.

    Stay Updated : Download Our App
    Mo. 8407908145