Published On : Tue, Jul 10th, 2018

हायकोर्ट द्वारा मुसलमानो को एज्युकेशन में मंजूर किया गया 5% आरक्षण जलद ही लागू किया जाय।

नागपूर : एआयएमआयएम के 184 भायखला से तेजतर्रार विधायक अड.वारीस पठाण ने मुसलमानो को हायकोर्ट द्वारा निदेश के बावजुद भाजपा सरकार द्वारा एजुकेशन में 5% प्रतिशत रिजरवेशन नही दिये जाने का मुद्दा सामाजिक न्याय विभाग, बाब क्र. 131 की 2018-19 की पुरवणी मांग पर चर्चा के दौरान उठाया।

उन्होने बताया की 2014 में काँग्रेस-राकांपा सरकार ने चुनाव के कुछ ही दिन पूर्व मुसलमानो के लिये 14% प्रतिशत आरक्षण दिया था, जिसमें एजुकेशन में 5% और नौकरियों में 9% प्रतिशत का प्रावधान किया था परंतु वह हायकोर्ट में केवल 5% प्रतिशत आरक्षण मुसलमानो एजुकेशन में टीक पाया, लेकिन अफसोस हैं की यह आरक्षण अभी लागू नही किया हैं। उन्होंने सरकार से अनुरोध किया की हायकोर्ट द्वारा मुसलमानो को एज्युकेशन में मंजूर किया गया 5% आरक्षण जलद ही लागू किया जाय।

सर जे.जे.समूह रुग्णालय और डॉ. बी.वाय.एल.नायर म्युनि अस्पताल में टीबी और एचआयव्ही ग्रस्त मरिजो और सिनिअर सिटीझन को मुफत में ट्रीटमेंट और दवाईयां जो एप्रिल में बंद करायी थी, उन्हे फिर से मुफत में उपलब्ध करायी जाय। ऐसी मांग भी सार्वजनिक आरोग्य विभाग की पुरवणी मांग के दौरान अड वारीस पठाण ने राज्य सरकार से की।

उन्होंने यह भी बताया कि व्हेंटिलेटर पर्याप्त संख्या में उपलब्ध नही होने से डॉ.बी.वाय.एल. नायर अस्पताल में आने वाले गरीब और जरूरतमंद मरीजों को व्हेंटिलेटर की कमी की वजह से मौत को गले लगाना पड रहा हैं। साथ ही इन अस्पतालों में डॉक्टर, पॅरा-मेडिकल स्टाफ और सफाई कर्मचारियो की जगह रिक्त होने से लोगों को वैद्यकीय सुविधाये समयपर, प्रभावी तरिके से नही मिल पा रही हैं। अड वारीस पठाण ने मांग किया की, सरकार इन सभी बातों पर गौर करें और जनता को फौरन राहत दिलाने की व्यवस्था करें।