Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!
    | | Contact: 8407908145 |
    Published On : Fri, Feb 5th, 2021

    भारत में पिछले 24 घंटे में दर्ज हुए 12,408 नए COVID-19 केस, 120 की मौत

    नागपुर– भारत समेत दुनियाभर के 180 से ज्यादा देशों को कोरोनावायरस (Coronavirus) ने अपनी जद में लिया था. अभी तक 10.48 करोड़ से ज्यादा लोग इस संक्रमण की चपेट में आ चुके हैं. यह वायरस 22.81 लाख से ज्यादा संक्रमितों की जिंदगी छीन चुका है. भारत (Coronavirus India Report) में हर रोज COVID-19 के मामले बढ़ रहे हैं लेकिन पहले के मुकाबले इसकी रफ्तार जरूर कम हुई है. स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा शुक्रवार सुबह जारी किए गए आंकड़ों के अनुसार, देश में कोरोना संक्रमितों की संख्या 1,08,02,591 हो गई है. पिछले 24 घंटों में (गुरुवार सुबह 8 बजे से लेकर शुक्रवार सुबह 8 बजे तक) कोरोना के 12,408 नए मामले सामने आए हैं.

    पिछले 24 घंटों में 15,853 मरीज ठीक हुए हैं. इस दौरान 120 कोरोना संक्रमितों की मौत हुई है. अब तक कुल 1,04,96,308 मरीज ठीक हो चुके हैं. 1,54,823 लोगों की जान गई है. कोरोना के मौजूदा मामलों की संख्या दो लाख से नीचे है. इस समय देश में 1,51,460 एक्टिव केस हैं. रिकवरी रेट की बात करें तो यह मामूली बढ़ोतरी के बाद 97.16 प्रतिशत पर पहुंच गया है. यह अब तक सबसे ज्यादा है. पॉजिटिविटी रेट 1.40 फीसदी है. डेथ रेट 1.43 प्रतिशत है.

    गौरतलब है कि भारतीय आयुर्विज्ञान अनुसंधान परिषद (ICMR) के ताजा राष्ट्रीय सीरो सर्वेक्षण में पाया गया है कि 10 वर्ष एवं इससे ज्यादा उम्र की 21 फीसदी से अधिक आबादी के पूर्व में कोरोना संक्रमण की चपेट में आने के सबूत मिले हैं. सरकार ने बीते दिन यह जानकारी दी. साथ ही कहा गया कि आबादी के बड़े हिस्से को अभी भी संक्रमण का जोखिम है. ICMR का तीसरा राष्ट्रीय सीरो सर्वेक्षण गत 7 दिसंबर से 8 जनवरी के बीच किया गया था.

    सर्वेक्षण के नतीजों को पेश करते हुए ICMR के महानिदेशक डॉक्टर बलराम भार्गव ने कहा कि इस अवधि में 18 वर्ष एवं इससे ज्यादा उम्र के 28,589 लोगों पर सर्वेक्षण किया गया था, जिसमें 21.4 फीसदी लोगों में पूर्व में कोरोना संक्रमण की चपेट में आने का पता चला, जबकि 10 वर्ष से 17 वर्ष की आयु के 25.3 फीसदी बच्चों में भी यह पुष्टि हुई. भार्गव ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में 19.1 फीसदी आबादी में सार्स-सीओवी-2 की उपस्थिति के साक्ष्य मिले, जबकि शहरी झुग्गी-बस्तियों में यह आंकड़ा 31.7 फीसदी पाया गया.


    Stay Updated : Download Our App
    Mo. 8407908145