Published On : Mon, Dec 23rd, 2019

गोंदिया: चलती ट्रेन से फिसलकर गिरे युवक की जवान ने बचाई जान

बालाघाट -गोंदिया डेमू ट्रेन की घटनाः नजारा प्लेटफार्म के सीसीटीवी कैमरे में कैद

गोंदिया: जाको राखे सांईयां.. मार सके न कोय अर्थात जिसका रखवाला खुद ऊपर वाला होता है, उसका बाल भी बाका हो नहीं सकता? कुछ एैसी ही कहावत रविवार २२ दिसबंर के शाम रेलवे स्टेशन के प्लेटफार्म नं. १ पर उस वक्त चरितार्थ हुई जब डेमो लोकल ट्रेन के भीतर समा रहे एक युवक को डियुटी पर तैनात रेलवे जवान ने हाथ से खींचकर मौत के मुंह से बाहर निकाल लिया। उक्त युवक चलती ट्रेन से उतरने से प्रयास कर रहा था इसी दौरान वह स्लीप होकर भीतर जा समाया था लेकिन रेलवे सुरक्षा बल जवान की मुस्तैदी से उसकी जान बच गई।

वाक्या कुछ यूं है कि, लगभग शाम ६.४५ बजे गाड़ी क्रं. ७८८०६ बालाघाट-गोंदिया डेमो लोकल ट्रेन प्लेटफार्म नं. १ पर खड़ी थी, इसी बीच यह युवक अपने किसी रिश्तेदार को ट्रेन में बिठाने आया था, वह डिब्बे के भीतर था, इसी दरमियान ट्रेन चल पड़ी और वह झटके से उठा और गेट की तरफ भागा तथा हड़बड़ी में उसने अपना पैर चलती ट्रेन के पायदान (फुट रेस्ट) पर रखा जिससे उसका पैर फिसल गया और वह असंतुलित होकर प्लेटफार्म के भीतर जा समाया तथा बीच में फंसकर ट्रेन से घसिटने लगा, यह नजारा देखकर डियुटी पर तैनात आर.पी.एफ. आरक्षक चंद्रभान बघेल ने तत्काल हरकत में आकर, बिना समय गंवाए सुझबूझ का परिचय देते हुए तथा अपनी जान जोखिम में डालकर युवक को हाथ से ऊपर की ओर खींचा, लेकिन फिर से हाथ छुटने पर युवक भीतर गिरा लेकिन जवान ने हिम्मत नहीं हारी और उसे दोनों हाथ से बाहर की ओर खींच लिया जिससे उसकी जान बच गई। यह सारा घटनाक्रम प्लेटफार्म पर लगे सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गया।


उक्त युवक अमन वल्द सुरेंद्र वैद्य (२०) यह बालाघाट जिले के नवेगांव थाना क्षेत्र के ग्राम चिचगांव का निवासी है तथा वह मामूली जख्मी हुआ है। उक्त युवक को आरपीएफ थाना कोतवाली लाया गया जहां से उसके परिजनों को सूचना दी गई। कागजी कार्रवाई पूर्ण करने के बाद उक्त युवक को परिजनों के सुपुर्द कर दिया गया।

आरपीएफ जवान के इस सराहनीय कार्य के लिए पीड़ित परिजनों ने उनका धन्यवाद देते हुए आभार व्यक्त किया। रेलवे सुरक्षा बल ने आम नागरिकों से अपील की है कि, वे चलती ट्रेन में चढ़ने व उतरने का प्रयास न करें यह आपके लिए जानलेवा हो सकता है?

रवि आर्य