Published On : Mon, Nov 3rd, 2014

यवतमाल जि.प. भर्ती का रैकेट औरंगाबाद में गिरफ्तार


गिरोह के 11 सदस्यों को पकड़ा

रैकेट के 11 सदस्यों को 8 नवंबर तक पुलिस कस्टडी

यवतमाल। जिला परिषद के अंतर्गत होनेवाली जिला निवड समिति की विस्तार अधिकारी, कनिष्ठ अभियंता स्थापत्य एवं तारमंत्री पद लिए लेखी परीक्षा की उत्तर पत्रिका लाखों रुपये से बेचने वाले रैकेट के 11 सदस्यों का गिरोह कल गिरफ्तार किया गया. जिसकी गुप्त सुचना पुलिस आयुक्त राजेंद्र सिंह को मिलने पर उन्होंने आर्थिक अपराध शाखा के पुलिस निरीक्षक मधुकर सावंत को सूचना दी एवं पुलिस उप आयुक्त वसंत परदेशी, पुलिस उपायुक्त परिमंडल-2 अरविंद चावरिया, अपराध शाखा के सहाय्यक पुलिस आयुक्त बाबाराव मुसले के मार्गदर्शन में आर्थिक अपराध शाखा सहायक पुलिस निरीक्षक कृष्णा शिंदे, विश्वास पाटिल, संदेश किर्तिकर, नितिन चौधरी, प्रदीप धनवे, विक्रम वाघ, सचिन संपाल आदि ने मध्यरात्रि को सातारा परिसर में जाल बिछाकर 2 इनोव्हा, 1 होंडासिटी एवं 1 टाटा इंडिका से जालना की ओर फरार होने से उनका फ़िल्मी स्टाइल में पिछा कर लाडगांव टोल नाके पर पकड़ा.

जिसमें औरंगाबाद के बिक्रीकर निरीक्षक मकरंद मारुती ख़ामनकर (43), वाडेकर क्लासेस के संचालक दादासाहेब वाडेकर(50), भागिनाथ साहेबराव गायके(36), औरंगाबाद जिला मध्यवर्ती बैंक के क्लर्क विनोद वरकड़(पाटिल)(40), परभणी आर.टी.ओ. ऑफिस के कनिष्ठ लिपिक पोपट नथु करहाले (34), परीक्षाथियों में अमरावती जिले के धामणगांव रेलवे निवासी महेश गायकवाड़ (25), अकोला जिले के बोरगांव मंजू निवासी महादेव नायसे (25), जालना जिले के अंबड तहसील के पराड़ा निवासी सुरेश आरसूल (22), औरंगाबाद जिले के शेवगा निवासी वाहनचालक कालुसिंघ नायमनी (26), परभणी के गौतमनगर निवासी वाहनचालक केशव लिंबाजी सोनकांबले (42) एवं औरंगाबाद, नवनाथ नगर हड़कों के निवासी वाहनचालक सचिन वाल्मीक गायकवाड़ (31) को गिरफ्तार किया है.

उनकी तरफ से लांखो से बेचीं गयी हस्तलिखित उत्तरपत्रिका और अन्य दस्तावेज, चार पहिया वाहन समेत कुल 16 लाख 57 हजार 550 को जब्त कर आरोपियों को गिरफ्तार कर न्यायालय में पेश किया है. गिरोह के 11 आरोपियों को 8 नवंबर तक पुलिस कस्टडी दी गई है.

Representational Pic

Representational Pic