Oops! It appears that you have disabled your Javascript. In order for you to see this page as it is meant to appear, we ask that you please re-enable your Javascript!
    | | Contact: 8407908145 |
    Published On : Sat, Sep 12th, 2020

    महिला स्पेशल तेजश्विनी बस का ‘ऑपरेशन फेलियर’ की संभावना

    – मुख्य संचालक ओलेक्ट्रा को मनपा ने वर्ष भर से भुगतान नहीं किया इसलिए इन्होंने बस संचलन में कार्यरत लगभग डेढ़ दर्जन कर्मियों को वेतन नहीं दिया,नतीजा उप ठेकेदार (SUB CONTRACTOR ) ने आज दोपहर बाद काम बंद करने संबंधी मनपा परिवहन विभाग को कल ( friday) को मेल द्वारा सूचित कर हड़कंप मचा दिया

    नागपुर – लगभग डेढ़ माह पूर्व ‘NAGPUR TODAY’ ने नागपुर महानगरपालिका प्रशासन का ध्यानाकर्षण करवाया था कि नियमित भुगतान न करने पर जो हाल ETHENOL GREEN BUS ( GADKARI’S DREAM PROJECT ) का हुआ लगभग उसी राह पर महिला स्पेशल तेजश्विनी बस ( ELECTRIC BUS ) हिचकोले खा रही.कल तेजश्विनी बस के संचालक के उप ठेकेदार ने मनपा परिवहन विभाग को मेल द्वारा लगभग 1 वर्ष से भुगतान न किये जाने पर आज शनिवार दोपहर बाद बस संचलन रोकने की जानकारी देकर मनपा प्रशासन को सकते में ला दिया।

    मनपा परिवहन विभाग के पूर्व सभापति बंटी कुकड़े ने मनपा प्रशासन से काफी जिद्दोजहद कर 5 महिला स्पेशल तेजश्विनी बस का संचलन लगभग 1 वर्ष पूर्व शुरू किया था.जिसके लिए लगभग 6 माह पूर्व राज्य सरकार ने अनुदान दिया था. 5 बस खरीदने के बाद बचे शेष अनुदान से एक और इलेक्ट्रिक बस इस बेड़े में शामिल करने के लिए आपूर्तिकर्ता मेसर्स ओलेक्ट्रा ग्रीनटेक प्राइवेट लिमिटेड को सभी प्रक्रिया पूर्ण कर महीनों पूर्व आदेश भी दिया जा चूका था,लेकिन आजतक वह बस उपलब्ध करवाने में निर्माता कंपनी असफल रही.

    मनपा और आपूर्तिकर्ता निर्माता कंपनी ओलेक्ट्रा ग्रीन टेक लिमिटेड ( Olectra Greentech Ltd (Formerly Goldstone Infratech Ltd) के मध्य एक करार हुआ था कि उक्त इलेक्ट्रिक बसों का संचलन भी ओलेक्ट्रा ही करेगी।इसके बाद ओलेक्ट्रा ने उप ठेकेदार (SUB CONTRACTOR ) नियुक्त कर बस चालक सह अन्य लगभग डेढ़ दर्जन कर्मी नियुक्त किये और उन्हीं से आजतक काम लिया जा रहा.

    यह भी कड़वा सत्य हैं कि मनपा प्रशासन और ओलेक्ट्रा के मध्य करार के अनुरूप खानापूर्ति को लेकर मामला विवाद में होने या दोनों के मध्य समन्वय का आभाव होने से आजतक मनपा प्रशासन ने ओलेक्ट्रा को बस संचलन के एवज में फूटी-कौड़ी नहीं दी.तो ओलेक्ट्रा ने भी न उप ठेकेदार (SUB CONTRACTOR ) और न ही कार्यरत लगभग डेढ़ दर्जन कर्मियों को पिछले एक साल से मासिक वेतन नहीं दी.

    ओलेक्ट्रा को उप ठेकेदार (SUB CONTRACTOR ) और उप ठेकेदार (SUB CONTRACTOR ) को उनके डेढ़ दर्जन कर्मी मिन्नतें करते-करते थक गए.जबकि इस कोविड-१९ काल में इन्हीं बस सह कर्मियों की मनपा प्रशासन ने भरपूर सेवा ली और ले ही रही हैं.

    नतीजा उप ठेकेदार (SUB CONTRACTOR ) ने थक-हार कर मनपा प्रशासन सह परिवहन विभाग को मेल द्वारा आज दोपहर बाद से बसों का संचलन ( OPERATIONAL FAILURE ) बंद करने की सूचना देकर मनपा प्रशासन को सकते में ला दिया।

    दूसरी ओर यह जानकारी मिली की ओलेक्ट्रा ग्रीनटेक लिमिटेड ने बस संचलन के लिए एक नई एजेंसी नियुक्त की,फ़िलहाल ओलेक्ट्रा के तरफ से EVEY TRANS PRIVATE LIMITED बसों का संचलन कर रही.उक्त मामलात पर इस समूह के मुख्य कार्यकारी अधिकारी (CEO) कुमार संबंध 2-३ दिन पूर्व नागपुर आये थे,उन्होंने बड़े गर्मजोशी से अगले 24 घंटे में उक्त समस्या ख़त्म करने का वादा कर चलते बने.

    उप ठेकेदार (SUB CONTRACTOR ) द्वारा मनपा को मेल से बस संचलन बंद करने की चेतावनी पर EVEY TRANS PRIVATE LIMITED के निदेशक VENKATESHWARA PRADEEP KARUMURU से उक्त मामले की जानकारी देकर उनकी राय मांगी तो उनका कहना था कि इस विषय की उन्हें कोई जानकारी नहीं,वे जानकारी लेकर सूचित करेंगे,यह भी कहा कि मनपा में भी उन्हें अबतक पिछले 1 वर्ष से भुगतान नहीं किया हैं.समाचार लिखे जाने तक नाग्पूर TODAY प्रतिनिधि को कोई ठोस जवाब नहीं प्राप्त हुआ.

    ज्वलंत सवाल यह हैं कि जब EVEY TRANS PRIVATE LIMITED को 5 बस संचलन में इतनी अड़चन आ रही,तो उन्हें मिली 40 इलेक्ट्रिक बसों का संचलन में कितनी अड़चनें आएंगी।

    Also Read : https://www.nagpurtoday.in/tejashwini-bus-also-on-the-path-of-green-bus/07151215

    Stay Updated : Download Our App
    Mo. 8407908145