Published On : Wed, Jan 21st, 2015

बेला : बोरखेडी टोलनाके के खिलाफ रास्ता रोको आंदोलन

Advertisement


संवाददाता / तुषार मुठाल

Borkhedi Tol Naka
बेला (नागपुर)।
महाराष्ट्र में लगाये गए टोल नाकों पर अतिरिक्त कर वसूला जा रहा है. इसके विरोध में विविध राजकीय पक्षों ने आज रास्ता रोको आंदोलन किया. जिसके लिए विधायक शोभाताई फड़णवीस और विधायक मल्लिकार्जुन रेड्डी ने आज राष्ट्रीय महामार्ग 7 के बोरखेडी टोल नाका बंद करने के लिए रास्ता रोको आंदोलन किया.

वि. शोभाताई फड़णवीस ने बोरखेडी टोल नाका मतलब गरीबों की लुट है ऐसा आरोप किया है. 350 करोड़ का प्रोजेक्ट होकर ओरिएंटल कंपनी ने अब तक 700 करोड़ वसुल किये है. यह टोल नाका 2037 तक रहने वाला है. बोरखेडी टोलनाका के 20 किमी के आसपास के वाहन टोल मुक्त करेंगे ऐसा कहाँ गया और खेती उपयोगी वाहन, कपास गाडी, दुध गाडी, ट्रैक्टर से भी टोल वसुला जाता है. ऐसा भी आरोप किया है. हमें न्याय नहीं मिला तो हम 2 महीनों का तिव्र आंदोलन करेंगे ऐसा कहां. वाहन चालकों से संवाद किया गया जिसमें नईम भाई, चंद्रपुर, पवन महतो, झारखंड, महादेव धोत्रे, काटोल ने कर्मचारियों की ओर से अपमानजनक व्यवहार करके धक्का मुक्की की जाती है ऐसा आरोप किया है. इस नाके पर किसी प्रकार की सुविधा नहीं होने की बात की गयी है.

Advertisement
Advertisement

प्रशांत बर्गी टोल अधिकारी ने कहां कि यह आंदोलन गलत जानकारी के आधार पर किया गया है. तथा परिसर के वाहनों को 225 रूपये माह की पास भी दी जाती है. आज के बंद आंदोलन में नागरिकों का समावेश नही था. इसमें महाराष्ट्र राज्य ट्रक, बस, टेम्पो, ट्रैक्टर यातायात महासंघ मर्या. नागपुर ट्रैकर्स युनिटी, नागपुर, दी नाग. विदर्भ ब्रिक्स मैन्यूफैक्चर्स असो. नागपुर, ट्रैवल्स असो. ऑफ़ नागपुर, विदर्भ पेट्रोलियम डीलर असो. रिपब्लिकन ड्राइवर यूनियन का समावेश था.

आंदोलन शांति से किया गया. लेकिन रास्ता रोको की वजह से यात्रियों को बोरखेडी मार्ग से सोनेगांव ऐसा 25 किमी का फेरा करके जाना पड़ा. बोरखेडी रेलवे गेट पर वाहनों की कतारें लगी थी. तथा अनेकों को टोल से बचने का मार्ग मिल गया था.

Advertisement

Advertisement
Advertisement
 

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement