Published On : Fri, Aug 25th, 2017

डेरा प्रमुख गुरमीत राम रहीम पर फैसले के बाद हिंसा में 30 की मौत, 250 से ज्यादा घायल


नई दिल्ली:
सीबीआई की विशेष अदालत ने डेरा सच्चा सौदा के प्रमुख गुरमीत राम रहीम सिंह को 15 वर्ष पुराने बलात्कार के एक मामले में शुक्रवार को दोषी करार दिया. न्यायाधीश जगदीप सिंह ने 50 वर्षीय डेरा प्रमुख को बलात्कार का दोषी ठहराते हुए कहा कि राम रहीम की सजा का ऐलान 28 अगस्त को किया जाएगा. उनको सात वर्ष के कारावास से लेकर अजीवन कारावास तक की सजा सुनाई जा सकती है. राम रहीम को दोषी करार दिए जाते ही उनके समर्थक हिंसक हो गए. कई वाहनों को आग लगा दी गई. हिंसक भीड़ ने कई चैनलों की ओबी वैन को आग के हवाले कर दिया.

मीडिया सूत्रों के मुताबिक इस हिंसा में कम से कम 30 लोगों की मौत हो गयी और 250 से ज्यादा लोग घायल हो गये. अधिकारियों ने कहा कि चारों तरफ जमकर तबाही मचायी गयी. कई जगह आगजनी की गयी.

सीबीआई न्यायाधीश जयदीप सिंह ने डेरा सच्चा सौदा के 50 वर्षीय प्रमुख राम रहीम को 2002 में एक अनाम लिखित शिकायत के आधार पर दर्ज किए गए मामले में बलात्कार का दोषी करार दिया. शिकायत में उन पर दो महिला अनुयायियों के यौन उत्पीड़न का आरोप लगाया गया.

रिपोर्ट के आधार पर पंजाब एवं हरियाणा उच्च न्यायालय के निर्देश पर उनके खिलाफ दिसंबर, 2002 में मामला दर्ज किया गया था. स्वयंभू गुरू गुरमीत राम रहीम सिंह को आज एक अदालत द्वारा बलात्कार का दोषी करार दिये जाने के दो घंटे के अंदर उनके हजारों समर्थकों ने उपद्रव शुरू कर दिया और वाहनों, इमारतों और रेलवे स्टेशनों को आग के हवाले कर दिया.उन्हें इस मामले में कैद की सजा सुनाई जा सकती है जो सात साल से कम नहीं होगी. इसे उम्रकैद तक बढ़ाया जा सकता है.


पुलिस ने हिंसा पर रोकथाम के लिए हवाई गोलीबारी की, प्रदर्शनकारियों पर आंसूगैस के गोले छोड़े और पानी की बौछार की. पंचकूला के बाहर हरियाणा, पंजाब और यहां तक कि राजस्थान के कुछ इलाकों में हिंसा फैलने की खबरें आ रही हैं. पुलिस ने कहा कि पूर्वोत्तर दिल्ली के लोनी चौक में कथित तौर पर डेरा सच्चा सौदा समर्थकों ने बस में आग लगा दी. घायलों में पत्रकार और पुलिसकर्मी शामिल हैं. खबरों में घायलों की संख्या सौ से ज्यादा बताई जा रही है.

बड़ी संख्या में एंबुलेंसों में अनेक घायलों को अस्पताल लाते हुए देखा गया है जो खून से लथपथ थे. उन्होंने इस दृश्य को ‘युद्ध जैसी स्थिति’ करार दिया. यह अभी स्पष्ट नहीं है कि ये लोग पुलिस कार्रवाई में जख्मी हुए हैं या डेरा समर्थकों की हिंसा में. जख्मी लोगों में महिलाओं की संख्या अधिक है. संवाददाता के मुताबिक, ‘‘घायलों को लाने की रफ्तार कम नहीं हो रही.’’ उनकी रिपोर्ट में जलते हुए वाहनों की तस्वीरें भी देखी गयीं.

पंचकूला में कर्फ्यू लगा दिया गया जहां आज अदालत ने डेरा सच्चा सौदा के प्रमुख राम रहीम को दुष्कर्म के मामले में दोषी करार दिया. नयी दिल्ली और लखनऊ सहित उत्तर भारत के कुछ हिस्सों में भी सुरक्षा कड़ी कर दी गयी है.

हिंसा के बीच हरियाणा के मुख्‍यमंत्री मनोहर लाल खट्टर ने कहा कि पूरे हालात के बारे में गृह मंत्री राजनाथ सिंह को बता दिया गया है. जिन्‍होंने शांति भंग की है, उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी.

कोर्ट परिसर के कुछ ही दूर सजा का ऐलान होने के बाद राम रहीम के समर्थक उग्र हो गए. उन्होंने वहां आगजनी भी की. पुलिस ने उन्हें काबू पाने के लिए पुलिस आंसू गैस के गोले छोड़े. यहां गुस्साए लोगों ने तीन ओवी वैन में आग लगा दी.

हिंसा में 10 लोग घायल हुए हैं जिन्हें अस्पताल में दाखिल कराया गया है. खबर के मुताबिक पंजाब के आयकर विभाग के कार्यालय में कुछ नकाबपोश लोगों ने घुसकर तोड़फोड़ की.

पंजाब के मलोट रेलवे स्टेशन पर आग लगा दी गई. यहां तक कि मलोट रेलवे स्टेशन को पेट्रोल बम से उड़ाने की भी कोशिश की गई है. वहीं मानसा में पावर ग्रिड दफ्तर में आग लगाई गई.इसके अलावा पेट्रोल पंप जलाने का भी खबर आ रही है.


भठिंडा से भी हिंसा की खबरे आ रही हैं. पचंकुला में मीडिया के ऊपर भी हमला हुआ खबरों के मुताबिक एक न्यूज चैनल की ओवी वैन को आग लगा दी गई.

इससे पहले पुलिस ने स्थिति को नियंत्रण में लाने के लिए आंसू गैस के गोले दागे, पानी की बौछार की और लाठियां भांजी. सीबीआई की विशेष अदालत द्वारा बलात्कार के एक मामले में राम रहीम को दोषी ठहराए जाने के कुछ देर बाद टीवी चैनलों के क्रू पर हमला किया, इसमें एक वीडियो जर्नलिस्‍ट भी जख्‍मी हो गया.

डेरा प्रमुख के अनुयायियों द्वारा विरोध प्रदर्शन की आशंका के मद्देनजर सीआरपीएफ और बीएसएफ तथा हरियाणा पुलिस के सैकड़ों जवानों को सर्वाधिक अलर्ट पर रखा गया.

वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों ने कहा कि फैसला आने के बाद सुरक्षा और कड़ी कर दी गई और पूरी स्थिति नियंत्रण में है. हिसार रेंज के पुलिस महानिदेशक एएस ढिल्लन ने बताया कि किसी भी घटना से निबटने के लिए हमने पर्याप्त संख्या में सुरक्षाकर्मियों को तैनात किया है. अब तक हालात नियंत्रण में हैं.

सिरसा में सेना बुला ली गई और सुरक्षा व्यवस्था कड़ी कर दी गई. पंथ के मुख्यालय के बाहर वरिष्ठ पुलिस कर्मियों ने फ्लैग मार्च भी किया. एक शीर्ष पुलिस अधिकारी ने बताया कि हिसार जिले से सेना की दो कंपनियां सिरसा में कानून और व्यवस्था बनाए रखने के लिए बुलाई गई हैं. अर्द्धसैनिक बलों के 15,000 जवानों सहित बड़ी संख्या में जवानों को पूरे पंजाब और हरियाणा में संवेदनशील इलाकों में तैनात किया गया.

2002 में राम रहीम के खिलाफ उत्पीड़न का मामला दर्ज किया गया था


डेरा प्रमुख के खिलाफ सीबीआई ने पंजाब और हरियाणा उच्च न्यायालय के निर्देश पर 2002 में यौन उत्पीड़न का मामला दर्ज किया था. राम रहीम सिंह द्वारा कथित तौर पर दो साध्वियों के यौन उत्पीड़न को लेकर अनाम चिट्ठियों के सामने आने के बाद अदालत ने यह निर्देश दिया था. डेरा प्रमुख ने इन आरोपों का खंडन किया है.

रिपोर्ट के आधार पर पंजाब एवं हरियाणा उच्च न्यायालय के निर्देश पर उनके खिलाफ दिसंबर, 2002 में मामला दर्ज किया गया था. स्वयंभू गुरू गुरमीत राम रहीम सिंह को आज एक अदालत द्वारा बलात्कार का दोषी करार दिये जाने के दो घंटे के अंदर उनके हजारों समर्थकों ने उपद्रव शुरू कर दिया और वाहनों, इमारतों और रेलवे स्टेशनों को आग के हवाले कर दिया.उन्हें इस मामले में कैद की सजा सुनाई जा सकती है जो सात साल से कम नहीं होगी. इसे उम्रकैद तक बढ़ाया जा सकता है.