Published On : Mon, May 17th, 2021

विजया हत्याकांड मामला: पुलिस ने किया चार आरोपियों को गिरफ्तार

नागपुर: हाल ही में जयताला मार्ग, सप्तकनगर में विजया तिवलकर (62) की हत्या कर दी गई थी. शुरुआत में केस बहुत जटिल माना जा रहा था और पुलिस को बढ़त हासिल करने में कठिनाई हो रही थी. लेकिन तकनीकी माध्यमों से जांच के ज़रिए पुलिस को इस मामले को सुलझाने में कामयाबी मिली. जाँच के दौरान इस बात पर प्रकाश पड़ा कि विजया की पोती और उसका बॉयफ्रेंड ही हत्या के असली मास्टरमाइंड हैं. चौंका देने वाली बात यह है कि दोनों नाबालिग हैं. एमआईडीसी पुलिस ने इस मामले में चार आरोपियों को गिरफ्तार किया है. आरोपियों में कादिर जाकिर खान (18), नीलेश प्रकाश पौणिकर (18), फरीद जाकिर अंसारी (22) और मोहम्मद कमरे आलम उर्फ ​​आरजू मोहम्मद अजार शेख (20) का समावेश है. विजया की पोती और उसका प्रेमी फिलहाल फरार हैं.

‘नानी के पास बहुत पैसा है’
विजया की पोती महज़ 17 साल की है. वह विजया की छोटी बेटी की बेटी है. उसका प्रेमी भी 17 साल का नाबालिग लड़का है. वह लकड़ी के दरवाज़े बनाने वाली कंपनी में काम करता है. पिछले साल आरोपी लड़की ने अपना घर छोड़ दिया और अपने प्रेमी के साथ लिव इन रिलेशनशिप के तहत रहने लगी. वह हमेशा अपने प्रेमी और उसके दोस्तों से कहती थी कि नानी के पास बहुत पैसा है. दोनों पिछले कुछ दिनों से आर्थिक तंगी का सामना कर रहे थे. ऐसे में उसने अपने प्रेमी के साथ मिलकर अपनी नानी का घर लूटने की योजना बनाई. अन्य 4 आरोपी भी इस घिनौनी साज़िश में शामिल हो गए. पिछले महीने लड़की विजया के घर चली गई थी. आभूषण और नकदी कहाँ रखा है, यह जानने के लिए वह 15 दिनों तक विजया के साथ ही रही. जानकारी हासिल करने के बाद वह अपने प्रेमी के पास लौट आई. सबने मिलकर योजना बनाई और बुधवार रात को वह फिर विजया के साथ रहने चली गई.

रात के एक बजे घर में घुसे थे आरोपी
रात के करीब 1 बजे आरोपी लड़की ने दरवाज़ा खोला. नीलेश, फरीद और कादिर घर में दाखिल हुए जबकि दो अन्य आरोपी घर के सामने निगरानी रख रहे थे. आरोपी ने अलमारी से नगदी और जेवरात चुरा लिए. इसी बीच विजया की नींद खुल गई. उन्होंने आरोपियों को देखकर शोर मचाया. तभी कादिर ने चाकू निकाला और विजया का गला काट दिया. विजया वहीं गिरकर बेहोश हो गईं. आरोपी फरार हो गए. पुलिस ने हत्या का मामला दर्ज कर आरोपियों की तलाश प्रारंभ की. लेकिन शुरुआत में उन्हें कोई सुराग नहीं मिला. अंत में पुलिस ने तकनीकी माध्यमों से जाँच करने का निर्णय लिया. परिसर में सभी सक्रीय मोबाइल नंबरों की ट्रेसिंग की गई. आखिरकार पुलिस आरोपियों तक पहुँचने में कामयाब हो गई. विजया की पोती और उसका प्रेमी फिलहाल फरार हैं. पुलिस उनकी तलाश कर रही है. गिरफ्तार आरोपियों को आज कोर्ट में पेश किया जाएगा. इस कार्रवाई में डीआयजी दिलीप झलके और डीसीपी विवेक मासाल के मार्गदर्शन में पुलिस निरीक्षक युवराज हांडे, दिनेश लबडे और अन्य पुलिसकर्मियों का महत्त्वपूर्ण योगदान रहा.