Published On : Wed, May 8th, 2019

फिर उठाई वनकर्मियों ने विभिन्न समस्याओं को दूर करने की मांग

वनरक्षक व पदोन्नत वनपालों की समस्या पर विदर्भ स्तरीय बैठक

नागपुर : वनरक्षक व पदोन्नत वनपाल संगठन की विदर्भ स्तरीय कार्यकारिणी बैठक सोमवार को सेमिनरी हिल्स स्थित हरिसिंह सभागृह में आयोजित की गई. विदर्भ स्तरीय इस बैठक में विविध विषयों पर संगठन के धोरण व भूमिका पर विस्तार से चर्चा की गई. संगठन के केन्द्रीय अध्यक्ष अजय पाटिल के नेतृत्व में प्रधान मुख्य वनसंरक्षक ए.आर. मंडे ने क्षेत्रीय कर्मचारियों की समस्या पर चर्चा करते हुए उन्हें जल्द से जल्द हल करने का आश्वासन दिया.

बैठक में वनरक्षक वनपाल की अन्यायकारी वेतनश्रेणी, राज्य वेतन सुधार समिति 2017 प्रशासकीय सिफारिश, वनरक्षक वनपाल की प्रलंबित पदोन्नतियां, 24 जुलाई 2014 से 4 सितंबर 2014 तक की गई हड़ताल की कालावधि का वेतन कर्मचारियों को देने, यात्रा भत्ता की गलतियों को दूर करने, दुर्गम इलाकों में मोटरसाइकिल देने, आहार भत्ता पुलिस विभाग अनुसार दिए जाने, नक्सल प्रभावित क्षेत्रों में पुलिस की तरह वनक्षेत्र के कर्मचारियों को डेढ़ गुना वेतन लागू करने, ड्यूटी के दौरान मृत्यु होने पर परिवार को पुलिस विभाग की तरह लाभ देने व अन्य महत्वपूर्ण मुद्दों पर चर्चा की गई.

बैठक में संगठन के कार्याध्यक्ष माधव मानमोडे, संरक्षक दिलीप कापशीकर, रामदास धोटे, विशाल मंत्रीवार, भारत मडावी, सुधीर हाते, नितिन गडपायले, पूनम बुद्धावार, प्रभाकर अनकरी, बापूराव गायकवाड़, संजय माघाडे, सपना टेंभरे, सचिन गडलिंगे, संजय पर्रेकर, अनिल खडतकर, अश्विनी डोंगरे, ललित उचिबंगले, एसआर परडेखी, शरद घुगे, विजय रामटेके, नरेश चापले, लहुकांत काकडे, व्यंकटी जेल्लेवाड, दादाराव खटोले, ज्ञानेश्वर महेशकर, धनराज कुंभरे, रंगुरवार आदि वनरक्षक-वनपाल उपस्थित थे.