Published On : Fri, Aug 14th, 2020

Video: बिजली बिल को लेकर भाजपा ने किया ऊर्जामंत्री के खिलाफ ‘ भीक मांगो आंदोलन ‘

Advertisement

नागपुर- महाराष्ट्र सरकार की ओर से एमएसईडीसीएल ( Msedcl ) के द्वारा लॉकडाउन खुलते ही जून महीने में और उसके बाद लगातार हजारों रुपए के बिजली के बिल ( Electricity Bill ) भेजे गए है. भाजपा पार्टी (Bjp) की ओर से महापौर संदीप जोशी ( Mayor Sandeep Joshi) के नेतृत्व में कुछ दिनों पहले बिजली बिल माफ़ करने की मांग को लेकर प्रदर्शन भी किया गया था और मांग की गई थी की बिजली बिल माफ़ किया जाए, नहीं तो तीव्र आंदोलन किया जाएगा. शुक्रवार 14 अगस्त को इसी मांग को लेकर भाजपा पार्टी (Bjp) के पदाधिकारियों की ओर से महापौर संदीप जोशी ( Mayor Sandeep Joshi) के नेतृत्व में ‘ भीक मांगो आंदोलन ‘ किया गया. नागपुर के दक्षिण-पश्चिम परिसर के प्रभाग क्रमांक 35 में नरेंद्रनगर चौक में राज्य सरकार, ऊर्जामंत्री और एमएसईडीसीएल (Msedcl) के खिलाफ प्रदर्शन किया गया. हाथों में फलक, बैनर लेकर यह विरोध प्रदर्शन किया गया.

इस दौरान महापौर संदीप जोशी ( Mayor Sandeep Joshi) ने कहा की जब यह सरकार सत्ता में आयी थी तो बताया गया था की बिजली के दर कम करेंगे, कोरोना काल में नागरिकों के काम बंद हो चुके है, लोगों की नौकरियां गई, लोगों की कमाई बंद हो गई है, ऐसे समय में नागरिकों को हजारों रुपए के बिजली बिल इस सरकार और एमएसईडीसीएल (Msedcl) की ओर से भेजे गए है. जिसका 2 हजार रुपए का बिजली का बिल (Electricity Bill) आता था, उसको 10 हजार रुपए का बिल दिया गया है. सरकार की ओर से केवल आश्वासन दिए जा रहे है और बिजली के बिल दोगुना से लेकर पांच गुना तक ज्यादा भेजे जा रहे है.

Advertisement
Advertisement

नागरिकों के पास पैसा नहीं है, उनको खाने को नहीं मिल रहा है, ऐसे में इस तरह से बिजली के बिल भेजकर ठाकरे सरकार ने और महाराष्ट्र के ऊर्जामंत्री ने नागरिकों के जख्मों पर नमक छिड़का है. एक तरफ नागरिकों की कमर टूट गई है और उसमे सरकार की ओर से इस तरह से अनाप शनाप बिजली के बिल भेजने के विरोध में भाजपा पार्टी की ओर से पिछले डेढ़ महीने से प्रदर्शन किए जा रहे है. हर हफ्ते एक अलग आंदोलन किया जा रहा है. उन्होंने कहा की ठाकरे सरकार और ऊर्जामंत्री डॉ. नितिन राऊत (Dr.Nitin Raut) को पैसे की इतनी कमी हो गई है, इसलिए हम ‘ भीक मांगो आंदोलन ‘ कर नितिन राऊत को यह पैसे भेजंगे.

जोशी ने कहा की मनपा की ओर से यह निर्णय लिया गया है कि अप्रैल से लेकर सितम्बर तक पानी के बिल 50 प्रतिशत माफ़ किए जाए, इसके साथ ही टैक्स भी 50 प्रतिशत कम कर रहे है. मनपा की ओर से हम कम कर रहे है तो राज्य सरकार को भी निर्णय करना चाहिए, 100 रुपए का बिजली का बिल ( Electricity Bill ) का 1 हजार रुपए भेजे जा रहे है. उन्होंने कहा की जनता के हित के लिए इसके बाद आंदोलन और तीव्र किए जाएंगे. इस दौरान रमेश भंडारी, भूषण केसकर, नगरसेवक संदीप गवई, विशाखा ताई मोहोड, जयश्री वाडीभस्मे, अतुल सोनटक्के, रुपेश तावडे, रूपा भगत, सुमित्रा सलवटकर समेत भाजपा के कार्यकर्ता और नागरिक मौजूद थे.

Advertisement

Advertisement
Advertisement
 

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement