Published On : Wed, Sep 27th, 2017

यूनिवर्सिटी कैंपस में सीसीटीवी कैमरे नहीं होने से विद्यार्थियों की सुरक्षा खतरे में


नागपुर:
राष्ट्रसंत तुकडोजी महाराज नागपुर विश्वविद्यालय का अमरावती रोड स्थित कैंपस सुरक्षा की दृष्टि से कारगार नहीं है. कैंपस में बिना आईकार्ड के कोई भी प्रवेश कर सकता है. दो महीने पहले कैंपस में ही ह्युमैनिटीज के आर्ट्स फैकल्टी में पढ़नेवाली रुबीना पठान की गाड़ी विभाग के सामने से ही चोरी हो गयी थी. जिसकी एफआईआर पीड़िता ने अंबाझरी पुलिस स्टेशन में दर्ज भी कराई थी. सभी विभागों के बाहर अगर सीसीटीवी कैमरे होते तो शायद यह घटना न होती.

विद्यार्थियों की ओर से कई बार सभी विभागों के बाहर सीसीटीवी कैमरे लगाने की मांग कुलगुरु से की गई थी. लेकिन उनकी ओर से केवल आश्वासन मिलते रहे हैं. जिसका खामियाजा विद्यार्थियों को भुगतना पड़ रहा है. सुरक्षा की दृष्टि से कैंपस के मुख्य गेट पर सिक्योरिटी गार्ड रहते हैं. लेकिन वे किसी भी बाहरी व्यक्तियों को अंदर आने से नहीं रोकते. इस कैंपस में प्रवेश करनेवालों के नाही प्रवेश द्वारा पर उनके आईकार्ड जांचे जाते हैं और न ही उनका नाम सिक्योरिटी गार्ड द्वारा रजिस्टर में लिखा जाता है. कोई भी बाहरी व्यक्ति बिना किसी रुकावट के सुबह से शाम तक अंदर आ कर घूम सकता है. उस पर किसी तरह की कोई पाबंदी नहीं है.

पिछले दिनों विद्यार्थियों द्वारा कैंपस के गेट पर आंदोलन किया गया था. जिसमें कैंपस की सुरक्षा को लेकर सीसीटीवी कैमरे लगाने की बात कुलगुरु ने मानी थी. कैंपस के कुछ विभागों में अंदर कैमरे हैं लेकिन विभाग के बाहर कैमरे नहीं होने की वजह से चोरी की घटनाएं कैंपस परिसर में भी होने लगी हैं. कैंपस परिसर में सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम नहीं होने की वजह से काशी हिन्दू विश्वविद्यालय जैसी घटना इस कैंपस परिसर में न हो. इस बात को नागपुर विश्वविद्यालय प्रशासन गंभीरता से लेना चाहिए.

इस बारे में नागपुर यूनिवर्सिटी के प्र-कुलगुरु डॉ. प्रमोद येवले ने बताया कि कैंपस परिसर के विभागों में अंदर कैमरे लगे हुए है,जिनमें नहीं है उनमें भी कैमरे लगाए जाएंगे. कैमरे लगाने को लेकर एक ले-आउट बनाया गया है. जिसमें विभाग के बाहर भी कैमरे लगाए जाएंगे. सभी प्रोसेस के साथ किया जाएगा. टेंडर के साथ अप्रूवल के बाद यह शुरू होगा. इस पूरी प्रक्रिया में कम से कम 3 से 4 महीने में कैमरे परिसर में सभी विभागों के बाहर भी लगेंगे.