Published On : Wed, Sep 25th, 2019

बेरोजगारी, अपराध, किसान आत्महत्या रोकने में असफल रही भाजपा सरकार- डॉ. नितिन राऊत

नागपुर: 2019 के विधानसभा चुनाव की घोषणा हो चुकी है. नेता, विधायक अपनी पार्टी को मजबूत करने में जुट चुके है. शहर के उत्तर नागपुर के नागरिकों के पसंदीदा विधायक रहे पूर्व मंत्री और अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के अनुसूचित विभाग के राष्ट्रीय चेयरमैन के साथ ही प्रदेश कांग्रेस कमेटी के कार्याध्यक्ष के तौर पर कार्यभार संभालनेवाले डॉ. नितिन राऊत से ‘ नागपुर टुडे ‘ ने बातचीत की. इस दौरान राऊत ने कहा की चुनाव में पार्टी कोई भी निर्णय लेती है तो वे पार्टी के उस निर्णय के साथ रहेंगे. उन्होंने कहा की वे मानते है लोकसभा चुनाव में पार्टी का प्रदर्शन खराब रहा है. लोकसभा और विधानसभा के चुनाव में फर्क होता है. विधानसभा के चुनाव यह स्थानीय मुद्दे पर लड़ा जाता है. उन्होंने महाराष्ट्र की फडणवीस सरकार पर भी निशाना साधा है. राउत ने कहा की इस सरकार में गुन्हेगारी बढ़ चुकी है, दलितों पर अत्याचार बढ़ गए, दलितों के बच्चो को पढ़ने के लिए स्कॉलरशिप नहीं मिल रही है, इनका बैकलॉग भी नहीं भरा गया है, प्रमोशन नहीं मिला है. किसानों का उत्पीड़न किया जा रहा है, उनके बारे में कोई नहीं सोचता है. वे लगातार आत्महत्या कर रहे है. जिन मुद्दों पर भाजपा ने चुनाव लड़ा था. उन मुद्दों पर पार्टी ने कुछ नहीं किया है. भाजपा ने कहा था की अगर हमारी सरकार आती है तो वे पृथक विदर्भ देंगे लेकिन उन्होंने पृथक विदर्भ नहीं दिया. पूना पैक्ट और नागपुर पैक्ट के अनुसार कई हेडक्वार्टर नागपुर लाने की बात की गई थी. लेकिन वह आश्वासन भी भाजपा ने पूरा नहीं किया. विदर्भ में लोकसंख्या के आधार पर रोजगार देने की बात कही थी. लेकिन वह वादा भी पूरा नहीं किया गया. भाजपा की ओर से विकास की बात की जा रही है लेकिन यह सरासर झूठ बाते है और यह झूठ कभी भी कामयाब नहीं हो पायेगा.

राउत ने बताया कि अभी कुछ दिन पहले कोल्हापुर और अन्य जगहों पर भीषण बाढ़ आयी थी. जिसके कारण कई किसान हताहत हुए है. उनको जो मुहावजा देना था वही अभी तक नहीं मिला और आचारसहिंता लग गई है. जो सरकार सवेंदनशील नहीं है. जो कर्जमाफी की बात थी वह सम्पूर्ण कर्जमाफी की बात थी. इन्होने संपूर्ण कर्जमाफी तो दी ही नहीं है. लेकिन किसानो को बीमा आयोजन से भी कोई लाभ नहीं मिला है. यह सरकार पूरी तरह से निक्क्मी है. रोजगार उद्योग जगत से जुड़ा होता है. उन्होंने मुख्यमंत्री से यह सवाल किया है की यहां कितनी कंपनिया आयी है और कितने रोजगार यहां उत्पन्न हुए है. डिमांड नहीं तो सेल नहीं होगा, और अगर सेल नहीं होगा, तो उत्पादन नहीं बढ़ेगा और उत्पादन नहीं बढ़ेगा तो रोजगार नहीं बढ़ेगा. यह अर्थव्यवस्था के साइकिल में भाजपा की सरकार गुमराह हो गई है. उनको न अर्थव्यवस्था समझ रही है और न ही जनता की नब्ज समझ में आ रही है.

Advertisement

उन्होंने कहा की केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने यशवंत स्टेडियम में अडवांटेज विदर्भ का प्रोग्राम किया था. जिसमे करीब 50 हजार युवाओ को बुलाया गया था. उस दौरान उन्होंने कहा था की वे हर वर्ष 50 हजार युवाओ को रोजगार दिलाएंगे. इंजीनियरिंग कॉलेजेस बढ़ने चाहिए, जिससे मिहान में इंडस्ट्रीज आएगी. लेकिन इन्होने कोई भी इंडस्ट्रीज नहीं लायी है. जो लायी है वे भी रोजगार नहीं दे रही है. 50 हजार युवाओ को रोजगार देने की बात तो छोड़िये, 5 हजार लोगों को भी रोजगार नहीं मिला है. भाजपा की बातों से जनता को कोई भी लाभ नहीं मिला है. जनहित की बाते वो करना नहीं चाहते और वे जनहित की बातों में उनकी कोई भी रूचि नहीं है. उन्होंने कहा की पार्टी से उमेदवारी मांगने का अधिकार सभी को है. लेकिन अगर पार्टी किसी को उमेदवारी देती है तो सभी ने मिलकर उसे जीताने का प्रयास करना चाहिए. कांग्रेस के कार्यकर्ताओ को हर सीट पर जीत दिलाने के लिए प्रयासरत होना चाहिए. मतभेद दूर कर पार्टी के लिए काम करना चाहिए.

Advertisement
Advertisement

Advertisement
Advertisement
 

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement