Published On : Fri, Jul 21st, 2017

पीजी हुए दो साल बीते लेकिन नहीं आई दूसरे वर्ष की स्क्लॉरशिप

Advertisement

Nagpur University
नागपुर:
राष्ट्रसंत टुकड़ोजी महाराज नागपुर विश्वविद्यालय में अनुसूचित जाति के ऐसे विद्यार्थी जिन्होंने दो वर्ष के स्नातकोत्तर के लिए एडमिशन लिया था, लेकिन दो साल बीतने के बाद भी उन विद्यार्थियों को मिलनेवाली स्कॉलरशिप के पैसे अब तक नहीं मिले हैं.

दरअसल स्नात्कोत्तर विभाग का यह कोर्स दो वर्ष का था. जिसके लिए समाज कल्याण विभाग की ओर से 2015 में एडमिशन लेने वाले विद्यार्थियों को 2017 में स्क्लॉरशिप दी गई थी. लेकिन अब 2016 में स्नाकोत्तर के दूसरे वर्ष में पढ़ रहे ऐसे विद्यार्थी, जिन्होंने नागपुर विश्वविद्यालय के कैंपस में एडमिशन लिया था, उनका कोर्स इस वर्ष पूरा हो चुका है. लेकिन अब तक उन्हें स्कॉलरशिप के पैसे नहीं मिले हैं. अब ऐसे विद्यार्थियों को स्कॉलरशिप पाने के िलए पाठ्यक्रम पूरा होने के बाद कागजात लेकर संबंधित विभाग के चक्कर लाने पर विविश होना होगा.

विद्यार्थियों ने पिछले वर्ष यानी 2016 में कॉलेज की सभी फीस भर दी थी. विद्यार्थियों को उम्मीद थी कि सत्र की समाप्त से पहले उन्हें स्कॉलरशिप की रकम मिल जाएगी. लेकिन सत्र समाप्त के बाद भी स्कॉलरशिप नहीं मिली है. जिससे उन्हें निराशा का सामना करना पड़ा. अब विद्यार्थियों को यह भी डर सताने लगा है कि कैंपस से टीसी, रिजल्ट और अन्य शिक्षा सम्बंधित कागजातों को निकालने पर कहीं उनकी स्कॉलरशिप पर सवालिया निशान लगता नजर आ रहा है.

Advertisement
Advertisement

विद्यार्थियों ने लेट लतीफ स्कॉलरशिप मिलने के लिए राज्य सरकार को जिम्मेदार ठहराया है. विद्यार्थियों का कहना है कि 3 वर्ष पहले अनुसूचित विद्यार्थियों की स्क्लॉरशिप उन्हें सत्र समाप्त होने से पहले ही मिल जाया करती थी. लेकिन पिछले तीन वर्षों से दूसरे विद्यार्थियों की स्क्लॉरशिप समय पर आती है. लेकिन अनुसूचित जाति के विद्यार्थियों की स्क्लॉरशिप बहुत समय के बाद आती है. विद्यार्थियों ने मांग की है कि 2016 में शिक्षा के लिए जो उन्होंने पैसा खर्च किए हैं वह उन्हें स्क्लॉरशिप के रूप में तुरंत दिया जाए.

 

 

Advertisement

Advertisement
Advertisement
 

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement