Published On : Thu, Jun 28th, 2018

दो साल पहले यूनिवर्सिटी का किया कॉलेजों से वादा अब तक नहीं हो पाया पूरा

Nagpur University

नागपुर : नागपुर यूनिवर्सिटी के कुलगुरु से करीब दो साल पहले कॉलेजों के प्राचार्यो द्वारा कुछ मांगें रखी गई थीं. जिसमें यूनिवर्सिटी द्वारा ली जानेवाली परीक्षाओं के प्रश्नपत्रिका को छापने के लिए यूनिवर्सिटी की ओर से दिया जानेवाला खर्च बेहद कम है. इस विषय को लेकर बैठक में कुलगुरु ने फीस बढ़ाने का आश्वासन दिया था. सीनेट सभा में भी फीस बढ़ाने को लेकर मान्य किया गया था.

लेकिन अब तक इसके लिए कोई भी सूचना नहीं निकाली गई है. कॉलेजों को भी इसमें कोई राहत नहीं मिली है, साथ ही परीक्षा में स्टेशनरी और अन्य खर्च के लिए प्रति विद्यार्थी 12 रुपए दिए जाने की भी मांग की गई थी. लेकिन अब तक उस पर भी यूनिवर्सिटी ने कोई निर्णय नहीं लिया है. साथ ही यूनिवर्सिटी द्वारा यह भी मान्य किया गया था कि हर एक कॉलेज में यूपीएस और जनरेटर दिया जाएगा. लेकिन वह भी कॉलेजों को नहीं दिया गया.

इन मांगों को लेकर यूनिवर्सिटी प्रशासन ने अब तक कोई भी निर्णय नहीं लिया है. पिछले दो साल से कॉलेज इन मांगों के पूरा होने के इंतेजार में हैं.

इस बारे में राष्ट्रसंत तुकडोजी महाराज नागपुर विश्वविद्यालय के प्राचार्य फोरम के अध्यक्ष डॉ. बबनराव तायवाडे ने बताया कि दो साल पहले यह सभी मांगें की गई थीं, लेकिन अब तक पूरी नहीं हो सकी है. इस बार इसे पूरा करने का आश्वासन दिया गया है.