Published On : Mon, Feb 11th, 2019

त्रैवार्षिक चुनाव में मनपा शिक्षक आघाड़ी की हैट्रिक

बड़े अंतर से एकतरफा जीत मिली, आज जीत का जश्न मनाएंगे कार्यकर्ता

नागपुर: नागपुर महानगरपालिका के मनपा शिक्षक संघ का त्रैवार्षिक चुनाव रविवार को संपन्न हुआ. जिसमें मनपा शिक्षक आघाड़ी ने अपने प्रतिद्वंदी पैनल को बुरी तरह पराजित कर जीत की हैट्रिक बनाई. इतना ही नहीं आघाड़ी ने सभी २५ पदों पर बड़े अंतर से जीत दर्ज कर मनपा में सत्ताधारी पक्ष के नेतृत्व में लड़ने वाले लोकक्रांति पैनल, जनजागृति पैनल, उत्कर्ष पैनल व कास्ट्राइब पैनल को धूल चटा दी. आज शाम मनपा मुख्यालय में आघाड़ी की ओर से जीत का जश्न मनाया जाएगा.

रविवार को मनपा शिक्षक संघ के लिए ३ पदाधिकारी और २२ सदस्यों के चयन के लिए चगणेशपेठ बस स्टैंड के पास मनपा शिक्षक संघ के अध्यापक भवन में सुबह ८ बजे से दोपहर ४ बजे तक मतदान प्रक्रिया पूरी की गई. मतदान प्रक्रिया में १२२४ मतदाता रूपी शिक्षकों में से १०५० मतदाताओं ने मतदान किया. दोपहर ४ से साढ़े ५ बजे तक विश्राम के बाद साढ़े ५ बजे से मतगणना शुरू हुई. रात साढ़े ७ बजे तक तीनों पदाधिकारियों के परिणामों की घोषणा कर दी गई, जिसमें अध्यक्ष पद के लिए मनपा शिक्षक आघाड़ी के राजेश गोपीचंद गवरे को ५९१ मत मिले. उन्होंने अपने प्रतिद्वंदी राजकुमार कनाटे(लोकक्रांति) को १२० मतों के अंतर से पराजित किया. कनाटे को ४७१ मत मिले. प्रमुख सचिव पद के लिए शिक्षक आघाड़ी पैनल के देवराव कृष्णा मांडवकर को ५५२ मत मिले. इन्होंने अपने प्रतिद्वंदी पुरुषोत्तम कलमकर(लोकक्रांति) को ३९ मतों के अंतर से पराजित किया. कलमकर को ५१३ मत मिले. कोषाध्यक्ष पद के लिए शिक्षक आघाड़ी पैनल की मलविंदर कौर लम्बा ने अपने प्रतिद्वंदी विजय घोड़मारे(जनजागृति) को ९८ मतों से पराजित किया, घोड़मारे को ४८५ मत मिले.

कल रविवार रात ११ बजे तक शेष २२ सदस्यों के चुनाव परिणाम भी घोषित कर दिए गए. मनपा शिक्षक संघ के २२ सदस्यों के लिए दोनों पैनलों में कड़ी स्पर्धा के मध्य शिक्षक आघाड़ी को कुल ३८८ तो उनके प्रतिद्वंदी पैनल को ३५० मत ही प्राप्त हो सके. जिसमें मनपा शिक्षक आघाड़ी के विनायक कांशीराम कुथे, काज़ी नुरुल लतीफ़, परवीन इकराम सिद्दीकी, तेंजुषा गणेश नाखले, राकेश वसंतराव दुम्पलवार, नुसरत खालिद, विकास केशवराव कामड़ी,कल्पना शेषराव महल्ले, अरविन्द रामचंद्र आवारी,गीता लीलाधर विष्णु, दीपक कुसारामजी सातपुते, आनंद दयाराम नागदिवे, माला शंकरराव कामड़े, सिंधु सुरेश तागड़े, अनिल पुरुषोत्तम बोंडे, रामचंद्र चंद्रभान बावने, नूतन सुरेश चोपड़े, मलका मुनीर अली, सुभाष देवराव उपासे, मधुकर प्रभाकरराव भोयर, प्रफुल बाबूराव चरडे, अशोक चिरकुटराव बालपांडे विजयी हुए.

उल्लेखनीय यह है कि लोकक्रांति पैनल, जनजागृति पैनल, उत्कर्ष पैनल व कास्ट्राइब पैनल के लिए भाजपा के अमूमन सभी विधायक सक्रिय होने के बावजूद मुँह की खानी पड़ी. वहीं दूसरी ओर आघाड़ी के नेतृत्वकर्ता ने अपनी ऐतिहासिक जीत पर कहा कि पिछले २ टर्म के दौरान किए गए प्रयास और उससे मिली सफलता का नतीजा एकतरफा ऐतिहासिक जीत मिलना है. पिछले दोनों टर्म के शेष अधूरे कार्यों को इस टर्म में पूरा करने हेतु गंभीर पहल की जाएगी.