Published On : Fri, Oct 19th, 2018

फिर संकट में शहर बस सेवा : स्कैनिया के बाद डिम्ट्स ने दिया अल्टीमेटम

निष्क्रिय अधिकारी-पदाधिकारी से मनपा परिवहन सेवा संकट में

नागपुर : विगत माह स्कैनिया ने अल्टीमेटम देकर ‘ग्रीन बस’ संचलन बंद किया और अब डिम्ट्स ने कड़ी शर्त के साथ अल्टीमेटम दिया कि शर्त की तय शत-प्रतिशत रकम पूरी न मिलने पर अगले माह के दूसरे सप्ताह से काम छोड़ दिया जाएगा. इस चेतावनी से प्रशासन और पदाधिकारियों में बेचैनी छाई हुई है.

याद रहे कि मनपा की माली हालत ख़स्ता है. इस पर पांच सौ करोड़ के पार जा चुकी देवदारी का बोझ पहले से है. इसी बीच बुधवार को डिम्ट्स के नागपुर प्रकल्प के निदेशक ने, जो अमूमन दिल्ली में रहते हैं, मनपा के परिवहन समिति प्रमुख को सौंपा. सूत्र बताते हैं कि उस पत्र में महीने की बकाया राशि अविलंब जारी करने के लिए कहा गया है. भुगतान न होने पर 12 नवंबर से काम बंद कर दिया जाएगा. पत्र में यह भी ताक़ीद दी गई कि यह डिम्ट्स की बोर्ड मीटिंग का फैसला है.


सूत्र बताते हैं कि पत्र की गंभीरता को नज़रअंदाज करते हुए परिवहन विभाग के तथाकथित अधिकारी और परिवहन समिति सभापति ने इसे गंभीरता से लेते दिखाई नहीं दे रहे. अधिकारी यह मानकर चल रहे है कि डिम्ट्स ऐसा पहले भी कई बार कर चुका है फिर भी आज तक बना हुआ है.

जानकारी के अनुसार मनपा के परिवहन विभाग से सम्बंधित बकायेदारों का कुल बकाया ५० करोड़ के आसपास है. जिसमें से दीपावली पूर्व ३० से ४०% का भुगतान अनिवार्य है. उल्लेखनीय यह है कि ग्रीन बस का संचालन बंद होने से परिवहन विभाग को किरकिरी झेलनी पड़ रही है. अब अगर डिम्ट्स ने काम बंद किया तो शहर परिवहन सेवा दम तोड़ देंगी. ऐसे में समय रहते मनपा को इससे पहले मनपा प्रशासन को डिम्ट्स की चेतावनी को गंभीरता से लेते हुए हल निकालने पर विचार करना होगा.