Published On : Wed, May 29th, 2019

युवक की नृशंस हत्या

Advertisement

गोंदिया- नेहरू चौक पर देर रात हथियार चले, 7 फरार

गोंदिया: गोंदिया में हत्या, हॉफ मर्डर, लूटपाट, डकैती जैसी संगीन वारदातें लगातार घटित होने से आम आदमी के बीच भय और खौफ का माहौल है।

Advertisement
Advertisement

शहर में गैंगवार और आपसी संघर्ष की ताजा घटना 28 मई रात 11.30 से 12 बजे के बीच नेहरू चौक पर घटित हुई।

नारायण शर्मा नामक युवक अपने बड़े भाई मुरली शर्मा के साथ कटंगी इलाके में मित्र को छोड़ने जा रहे थे, इसी दौरान आपसी पुरानी रंजिश को लेकर कुछ बदमाशों ने उड़ान पूल निकट नेहरू चौक के समीप बाइक आड़ी लगाकर उन्हें गिरा दिया और चाकू, पत्थर व शस्त्र से हमला शुरू कर दिया। दोनों ओर से हुए इस खूनी संघर्ष में मुरली संतोष शर्मा (22 रा. दुर्गा चौक) नामक युवक की मृत्यु हो गई, जबकि हमलावर युवकों में से मतीन खान नामक व्यक्ति यह गंभीर जख्मी हो गया जिसे आगे के उपचार हेतु नागपुर रैफर किया गया है।

जेल में थे, छूटते ही हुआ हमला
शहर थाना प्र्रभारी मनोहर दाभाड़े से प्राप्त प्रारंभिक जानकारी के मुताबिक लड़की पर से झगड़ा था और आपसी पुरानी रंजिश चल रही थी। 1 जनवरी 2019 को फुलचुर नाका निकट दुर्गा पोहा वाले के यहां दोनों गुट नाश्ता करने गए थे, इस बीच दोनों गुटों में झगड़ा हुआ जिसपर दुकान मालिक ने उन्हें बाहर निकलने को कहा तो, मालक और वेटर पर भी हमला कर दिया गया जिसका गुनाह ग्रामीण पुलिस स्टेशन में दर्ज है।
इस वारदात में शामिल कुछ युवक सेंट्रल जेल में बंद थे और हाल ही छुटकर आए थे। संभवत एक गुट ताक में रहा होगा और मौका मिलते ही उन्होंने घटना की रात शर्मा बंधुओं के आगे मोटर साइकिल आड़े लगाकर हमले के उद्देश्य से उन्हें गिराकर प्रहार शुरू कर दिया। इस संघर्ष में एक युवक की मृत्यु हो गई है तथा एक गंभीर जख्मी का उपचार अस्पताल में जारी है।

फिर्यादी नारायण शर्मा की शिकायत पर आरोपी गोलू ( 27, शंकर चौक, गोंदिया), अरबाज उर्फ राजा (21 रा. सहायतानगर), चेतेश उर्फ चेतू (21 रा. सहायतानगर), इरशाद (21 रा. फुलचुर), मतीन व उनके अन्य साथी हमलावर युवकों के खिलाफ धारा 302, 323, 506, 143, 147, 148, 149, सहकलम 4, 25 भारतीय हथियार कायदा (आर्म एक्ट) का जुर्म दर्ज किया गया है। समाचार लिखे जाने तक सभी फरार है जिनकी खोजबीन हेतु पुलिस जगह-जगह दबिश दे रही है। मामले की जांच सपोनि विवेक नार्वेकर कर रहे है।

– रवि आर्य

Advertisement

Advertisement
Advertisement
 

Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement
Advertisement