Published On : Thu, Feb 19th, 2015

कोठारी : बाघ ने किया किसान का शिकार


काटवली खेत परिसर की घटना

Tinger hunting farmer
कोठारी (चंद्रपुर)। बल्लारपुर तालुका के काटवली गांव में अपने खेत में पहरेदारी के लिए गए किसान पर बाघ ने अचानक हमला बोल दिया जिससे उसकी मौत हो गई. यह घटना बुधवार रात 12 बजे के करीब घटी. मनोहर लक्ष्मण बोरुले (55) काटवली निवासी मृतक है. इस घटना से काटवली गांव में खलबली मच गई.

खेत में गेंहू, चने की फसल है. लेकिन, काटवली गांव जंगल से घिरा होने से वन्यप्राणी खेत में आकर फसलों का बड़े पैमाने में नुकसान करते है. इस वजह से यहां के किसानों को खेत में पहरेदारी के लिए जाना पड़ता है. ऐसे ही मनोहर बोरुले भी अपने खेत में पहरेदारी के लिए गया था. इसी दौरान अचानक पट्टेदार बाघ ने उसपर हमला कर दिया. जिससे उसकी मौत हो गई. इस घटना की जानकारी मिलते ही कोठारी के  थानेदार अरविंद कतलाम, वनपरिक्षेत्राधिकारी संजय भंडारी, वनरक्षक यादव, शेख घटनास्थल पहुंचे तथा पंचनामा किया.

मनोहर बोरुले की परिस्थिति बेहद कमजोर है. वहीं मनोहर की मौत से बोरुले परिवार पर बड़ा संकट आ पड़ा है. मनोहर के परिवार में पत्नी, 21 वर्षीय सपना बोरुले, 19 वर्षीय मयुरा बोरुले ऐसी दो बेटियां व 17 वर्षीय बेटा दीपक है. बेटियों की भी शादी की उम्र हो गई है. घर से मुख्य मनोहर की मौत होने से बोरुले परिवार का गुजारा व बेटियों की शिक्षा, शादी कैसी होगी, इस चिंता में बोरुले परिवार पर आ पड़ी है. मृतक  किसान के परिवार को जल्द से जल्द आर्थिक मदद देने की मांग गांववासियों ने की है.

उलेखनीय है कि काटवली गांव पड़ोस के परिसर में जंगल व नदी है जिससे वन्यप्राणियों का डर गांववासियों को हमेशा रहता है. इसमें वन्यप्राणी गांव में घुसकर यहां के किसानों की गाय, बैल आदि पालतू जानवरों का शिकार करते है. इस वजह से किसानो का बड़े पैमाने में नुकसान होता है. इस सन्दर्भ में गांववासियों ने वनविभाग को वन्यप्राणियों का बंदोबस्त करने के लिए कई बार निवेदन सौंपा है. लेकिन वनविभाग ने हमेशा इसकी ओर नजर अंदाज किया है. वनविभाग इस समस्या की ओर ध्यान देकर कार्रवाई करे ऐसी मांग गांववासियों ने की है.