Published On : Sat, Sep 16th, 2017

दिलों को दिलों से जोड़ने वाली भाषा है हिंदी : डॉ वेद प्रकाश मिश्रा


नागपुर:“हिंदी स्वाभिमान और प्यार की भाषा है, वह दिलों को जोड़ने वाली भाषा है। हिंदी की स्वीकार्यता और व्यापकता सर्वत्र है।” उक्त उद्गार सुप्रसिद्ध विद्वान और कृष्णा इंस्टिट्यूट ऑफ़ मेडिकल साइंसेज (डीम्ड यूनिवर्सिटी), कराड के चांसलर डॉ. वेद प्रकाश मिश्रा ने व्यक्त किये। वे वेस्टर्न कोल फील्ड्स लिमिटेड (वेकोलि) में राजभाषा पखवाड़ा १४ सितम्बर (हिंदी दिवस) के उद्घाटन समारोह में मुख्य अतिथि के रूप में सम्बोधित कर रहे थे। उन्होंने कहा कि हिंदी हमारी भारतीय संस्कृति की परिचायक और वाहक है।

कोल इण्डिया कार्पोरेट गीत के साथ प्रारम्भ इस समारोह की अध्यक्षता करते हुए कम्पनी के निदेशक, तकनीकी (संचालन) बी.के. मिश्रा ने अवसर विशेष के लिए प्राप्त माननीय रेल एवं कोयला मंत्री पीयूष गोयल का संदेश वाचन भी किया।

इस अवसर पर निदेशक (वित्त) एस.एम.चौधरी, निदेशक तकनीकी (योजना एवं परियोजना) टी.एन.झा, विभागाध्यक्ष एवं वरिष्ठ अधिकारी गण प्रमुखता से उपस्थित थे।

स्वागत सम्बोधन महाप्रबंधक (कार्मिक/राजभाषा प्रमुख) इकबाल सिंह ने किया। वर्ष भर की रिपोर्ट सहायक प्रबन्धक (राजभाषा/जनसम्पर्क) डॉ. मनोज कुमार ने प्रस्तुत की। कार्यक्रम का संचालन एवं धन्यवाद ज्ञापन सहायक (प्रबंधक) एस.पी.सिंह ने किया। समारोह में बड़ी संख्या में टीम वेकोलि के सदस्य उपस्थित थे। प्रारंभ में प्रबंधक(सचिवीय/राजभाषा) एवं हिंदी समिति के सलाहकार सदस्य चेतनलाल यादव के पिछले माह हुए असामयिक निधन पर एक मिनट मौन रखकर उन्हे श्रधांजलि दी गई।

उल्लेखनीय है कि पखवाड़ा का समापन 28 सितम्बर 2017 को होगा। इस दौरान निबन्ध, स्व रचित काव्य, स्लोगन, त्तात्कालिक भाषण ,सामान्य ज्ञान, टिप्पण – आलेखन, अन्ताक्षरी प्रतियोगिता एवं प्रश्न- मंच आयोजित किया गया है।