Published On : Sun, Nov 11th, 2018

गुनहगार ही करेंगे जब हत्या की जांच तो कैसे मिलेगा “अवनि” को इंसाफ : युकां

“अवनि” की हत्या की जांच करनेवाली कमेटी को तुरंत बर्खास्त करने की युवक कांग्रेस ने की मांग

नागपुर: बाघिन अवनि को लेकर महाराष्ट्र सरकार अपने ऊपर लग रहे आरोपों की जांच एक कमेटी बना के कर रही है. अवनि को मारने के लिए जब सुधीर मुनगंटीवार ने आदेश दिया तो मुनगंटीवार द्वारा गठीत की गई जांच कमिटी कैसे निष्पक्ष हो सकती है. जांच कमिटी पूरी तरह से गलत है और जब “अवनी” की हत्या में महाराष्ट्र सरकार के वन मंत्री सुधीर मुनगंटीवार के उपर आरोप लग रहे है तो निष्पक्ष जांच की उम्मीद कैसे की जा सकती है. यह सवाल युवक कांग्रेस की ओर से उठाए जा रहे हैं. साथ ही असगर अली के ऊपर एफआईआर दर्ज करने की भी मांग की गई.

कांग्रेस सचिव आनंद तिवारी ने बताया कि सत्ताधारी होने के बावजूद केंद्रीय मंत्री मेनका गांधी ने जो आदेश दिया हम उनका धन्यवाद करते हैं परंतु एक केंद्र मंत्री होने के बावजूद उनकी बातों को महाराष्ट्र सरकार ने अनदेखा किया.

प्रदेश सचिव निलेश खोरगड़े और आनंद तिवारी के नेतृत्व में युवक कांग्रेस की तरफ से टाइगर कैपिटल, बोर्ड ऑफिस के पास जांच कमेटी का विरोध कर वन मंत्री सुधीर मुनगंटीवार के इस्तीफे की मांग की गई. साथ ही अवनी की हत्या की जांच उच्चस्तरीय सीबीआई से कराने की मांग की गई. इस विरोध प्रदर्शन में मुख्य रूप से युवक कांग्रेस के प्रदेश सचिव अजीत सिंह, उपाध्यक्ष धीरज पांडे, एनएसयूआई प्रदेश उपाध्यक्ष अभिषेक सिंह, चक्रधर भोयर, संदीप देशपांडे, प्रदीप कुमार प्रशाद, पियुष गायकवाड़, पश्चिम अध्यक्ष अखिलेश राजन, उत्तर अध्यक्ष अमोल लोनारे, विशाल वाघमारे, रशिक रानेकर, चाल्स लेओनार्ड, राहुल चक्रधर, रोबिन उइके, सोहेल अंसारी, जावेद शेख़, चेतन मेश्राम आदी प्रमुखता से उपस्तिथ थे.