Published On : Tue, Sep 26th, 2017

Video: मनपा आयुक्तालय के नीचे चलता है जुआ अड्डा


नागपुर: एक मशहूर कहावत है, ‘चिराग तले अंधेरा’. ऐसा ही नजारा नागपुर मनपा में भी इन दिनों दिखाई दे रहा है। नागपुर महानगरपालिका एक तरफ आर्थिक तंगी का रोना रोते हुए पेंशन,बकाया, मानधन, भुगतान में नियमित देरी कर रही है, तंगी को इतना प्रचारित किया कि विकासकार्यों के लिए सत्ताधारी नगरसेवकों के प्रस्तावों को मंजूरी नहीं दी जा रही है। तो दूसरी तरफ मनपायुक्तालय के नीचे जुआ अड्डा चल रहा है। जहां रोज घंटों नगदी में जुआ खेला जाता है.

एक सत्ताधारी नगरसेवक के जानकारी के अनुसार आज दोपहर जब मनपायुक्तालय के नीचे कार पार्किंग स्थल का मुआयना किया तो पाया कि गया कि पार्किंग स्थल जलमग्न के साथ ही साथ एकांत स्थल दिखा। इस परिसर में खासकर किराये के कार आदि चालकों का कब्ज़ा दिखा। कार पार्किंग के अंदर पहुंचते ही एक मेज के इर्द-गिर्द डेढ़-दो दर्जन वाहन चालक व मनपा कर्मी उपस्थित थे. जो पुरे शबाब में नगदी में जुआ खेल रहे थे. तो इक्के-दुक्के निगरानी कर रहे थे. खेल में नगदी ५०, १०० व ५०० के नोट टेबल पर बड़ी संख्या में दिखे. जिसे जुए की भाषा में ‘टेबल शो’ कहा जाता है.

इन्हीं में से एक ने सहजता से बेख़ौफ़ जानकारी दी कि ४ दर्जन के आसपास जुआरी रोजाना अपने-अपने समय पर आते व जुआ खेल कर कोई खाली तो कोई जेब गर्म कर अपने गंतव्य स्थान की ओर चले जाते हैं. यह जुआ का खेल कुछ माह पूर्व शुरू हुआ था. इसे वाहन चालकों ने शुरू किया, धीरे- धीरे मनपा कर्मी भी इसमें शामिल होने लगे. आज यह जुआ अड्डा शौकीनों से ‘कमर्शिअल’ रूप ले चुका है. रोजाना हज़ारों में व्यव्हार हो रहा है. उल्लेखनीय यह है कि मनपा प्रशासन व पदाधिकारी आए दिन बेरोजगारों को रोजगार के साधन मुहैय्या करवाने के उद्देश्य से नई – नई योजनाएं लाते रहते हैं.


मनपा में भी रोजाना बेरोजगार सैकड़ों की संख्या में कभी जलप्रदाय, तो कभी कनक, कभी सीएफसी और कभी परिवहन विभाग के चक्कर लगाते पदाधिकारियों के समक्ष गिड़गिड़ाते दिख जाएंगे। ऐसे में निजी वाहन चालकों और मनपा कर्मियों का उनकी मासिक कमाई जुए के हवाले लुट जाए, यह निंदनीय है.मनपायुक्त ने मनपा में कदम रखते ही कर्मियों की अड़चनों को दूर करने के लिए उन्हें सही समय पर मासिक वेतन देना शुरू किया। बावजूद इसके उनके ही कार्यालय के तल मंजिल पर जुए के बड़े अड्डे का होना शोकांतिका है.