Published On : Fri, Nov 9th, 2018

भारतीय सड़क कांग्रेस का चार दिवसीय अधिवेशन २२ से

देशभर से आएंगे ३००० विशेषज्ञ

नागपुर: नागपुर में चौथी बार इंडियन रोड कांग्रेस का आयोजन आगामी २२ से २५ नवंबर के बीच होने जा रहा है. इसमें देश के साथ विदेश से ऐसे ३००० से अधिक विशेषज्ञ उपस्थित रहेंगे. उक्त विचार लोक निर्माण विभाग के मुख्य अभियंता उल्लास देबडवार ने दी.

देबडवार के अनुसार उक्त अधिवेशन का आयोजन मानकापुर स्थित विभागीय खेल संकुल में किया गया है.नागपुर शहर चौथी बार अधिवेशन की मेजबानी कर रहा है. इसके पूर्व वर्ष १९८४,१९९७,२०१० में किया गया था.

पत्रपरिषद में उपस्थित केंद्रीय भूतल परिवहन मंत्री नितिन गडकरी ने जानकारी दी कि इंडियन रोड कांग्रेस सड़क विकास और पुनर्निर्माण के क्षेत्र में कार्य करने वाला एक राष्ट्रीय संगठन है. उनके द्वारा हर साल राष्ट्रीय सम्मलेन का आयोजन किया जाता है. विभिन्न राज्यों के लोक निर्माण विभाग इस सम्मलेन की मेजबानी करते हैं. इससे पहले वर्ष २०१७ में कर्णाटक राज्य लोक निर्माण विभाग की मेजबानी में बैंगलुरु में अधिवेशन का आयोजन किया गया था. इस सम्मलेन में सड़क निर्माण और सम्बंधित विषयों पर वैज्ञानिक अध्ययन और शोधपत्र प्रस्तुत किए जाएंगे. इन सभी अध्ययनों के माध्यम से ‘आरआरसी – कोड’ का निर्माण किया जाता है, जो देश में सड़कों के मापदंड के रूप में प्रमाण माना जाता है.

देबडवार के अनुसार २२ से २५ नवम्बर के मध्य उक्त स्थल पर आयोजित सम्मलेन में ४ दिनों में तकनिकी विषयों पर १० से १२ कार्यशाला आयोजित की जाएगी. गुरुवार २२ नोवम्बर को तकनिकी सत्र का उद्धघाटन किया जाएगा. आईआईटी जैसे संस्थानों के छात्र विभिन्न सत्रों के पहले दिन इन कार्यशालाओं में अपने निष्कर्ष पत्र प्रस्तुत करेंगे. इसी तरह सड़क विकास क्षेत्र और निर्माण उद्यमियों के साथ वैज्ञानिक भी तकनिकी जानकारी पेश करेंगे.

सम्मलेन का औपचारिक उद्धघाटन शुक्रवार २३ नवंबर को मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस और राज्य के लोक निर्माण मंत्री चंद्रकांत पाटिल की प्रमुख उपस्थिति में होगा. देश के विभिन्न राज्य के लोक निर्माण मंत्री इस सम्मलेन में उपस्थित होंगे और केंद्रीय भूतल परिवहन मंत्री नितिन गडकरी सम्मलेन में उपस्थितों का मार्गदर्शन करेंगे. शनिवार २४ नवंबर को विभिन्न तकनिकी सत्र आयोजित किए गए हैं. सम्मलेन का समापन समारोह रविवार २५ नवंबर को होगा.

इस सम्मलेन में लोगों के सहभाग को लेकर विशेष जोर दिया गया है. इस लिए सुरक्षा जागरुकता के क्षेत्रों में परिचालन करने वाले संगठनों के लिए कम कीमतों पर स्टॉलों को उपलब्ध कराया गया है. इसके अलावा लोक निर्माण विभाग द्वारा विभिन्न सार्वजानिक कार्यक्रमों का आयोजन किया गया है.

वीएनआईटी के साथ मिल के आइआरसी-युवा परिषद्,शासकीय चित्रकला महाविद्यालय के साथ मिल कर पोस्टर बनाने की स्पर्धा,चित्रकला,पोस्टर मेकिंग स्पर्धा आदि का आयोजन किया जा चुका है. यदि इंजीनियरिंग छात्र भी इस सम्मलेन में अपने शोध कार्य का प्रदर्शन करना चाहते हैं,तो स्टाल केवल १०० रूपए में उपलब्ध करवाया जाएगा. इसके अलावा तकनिकी प्रदर्शनी आम जनता को देखने के लिए खुली होगी. ४ दिवसीय सम्मलेन में देशभर से संबंधितों को आमंत्रित किया जा चुका है.

पत्रपरिषद में प्रधान मंत्री ग्राम सड़क योजना के अधीक्षक अभियंता रमेश होतवानी उपस्थित थे. अधिवेशन की तैयारी कश्मीर डेकोरेशन के मार्फ़त जोरशोर से शुरू है.

गडकरी ने पत्र परिषद् में कहा कि अधिवेशन में नई तकनीक,चर्चा,प्रयोग,पॉपुलर कर इंजीनियर समुदाय का आत्मविश्वास बढ़ाना है. नागपुर में मेट्रो के मार्फ़त १ करोड़ वर्ग फुट क्षेत्र में कमर्शियल विकास किया जाएगा. अगले १५ दिन में नागपुर रेलवे स्टेशन के सामने की टेकड़ी उड़ान पुल को मेट्रो के मार्फ़त ढहाया जाएगा. सड़क निर्माण में १०% प्लास्टिक या रबर का इस्तेमाल से सड़क निर्माण खर्च में काफी कमी आएगी.

स्टील फाइबर रेडीमिक्स में डालने से सड़क निर्माण का दर ३०% कम हो जाएगा. कांच की बोतल का पावडर सड़क निर्माण में इस्तेमाल से लाभकारी सिद्ध हो चुका है. पेविंग ब्लॉक बना बना कर सड़क निर्माण करने से बहुत जल्दी सड़क निर्माण की जा सकती है. इसका नागपुर में रिंग रोड में चल रहे निर्माणकार्य के दौरान ३०० मीटर में प्रयोग किया जाएगा. आइआरसी के सफल प्रयोगों को सम्पूर्ण राज्य में लागु करने का आव्हान किया है.

विदर्भ में बायो सह एविएशन फ्यूल का निर्माण कंपनी शुरू होगी. एक समूह से इलेक्ट्रिक बस मिलने पर शहर में ७० वर्ष के ऊपर के नागरिकों को शहर भ्रमण मुफ्त में करवाएंगे. सम्पूर्ण शहर में सीमेंट सड़क बनने से तशहर गड्ढे मुक्त हो जाएगा. मनपा ख़स्ता हाल है इसलिए बड़े-बड़े प्रकल्पों में कम से कम ५% शेयर देने में अक्षम है, इसलिए मनपा के बजाय मेट्रो को काम दिया जा रहा है.

– राजीव रंजन कुशवाहा