Published On : Mon, Dec 25th, 2017

नवोदित लेखिका की पुस्तक दूसरा मृत्युंजय का लोकार्पण

Mrutunjay
नागपुर: युवा पत्रकार और लेखिका प्रभा ललित सिंह की पुस्तक दूसरा मृत्युंजय का लोकार्पण विदर्भ हिंदी साहित्य संघ में संपन्न हुआ। इस अवसर पर बतौर अध्यक्ष महात्मा गांधी अन्तर्ऱाष्ट्रीय हिंदी वि.वि. के कुलपति प्रो. गिरीश्वर मिश्र, दैनिक भास्कर के संपादक मणिकांत सोनी, हिंदी वि.वि. वर्धा छात्र कल्याण डीन प्रो. अनिल कुमार राय, हिस्लाप कालेज के पूर्व विभागाध्यक्ष डा. ओम प्रकाश मिश्रा अदि गणमान्य उपस्थित थे। उपन्यास के लोकार्पण के अवसर मिश्र ने कहाँ कि आज के दौर में सकारात्मक सार्थक साहित्य मानव समाज के लिए बहुत ज़रूरी है और मुझे प्रसन्नता है कि इस उपन्यास के माध्यम से लेखिका ने एक अच्छा संदेश देने का प्रयास किया है। अपने इस आत्मीय अध्यक्षीय उद्बोधन से महात्मा गांधी अन्तर्ऱाष्ट्रीय हिंदी वि. वि. के कुलपति प्रो. गिरीश्वर मिश्र ने युवा पत्रकार एवं लेखिका प्रभा ललित सिंह को उनके प्रथम उपन्यास दूसरा मृत्युंजय के लोकार्पण पर बधाई दी ।

कार्यक्रम में बतौर विशिष्ट अतिथि उपस्थित हिस्लाप कालेज के हिंदी विभाग के पूर्व विभागाध्यक्ष डा .ओम प्रकाश मिश्रा ने संक्षेप में उपन्यास पर प्रकाश डाला और शिवा के चरित्र निर्माण हेतु लेखिका की प्रशंसा की। मंचासीन मुख्य अतिथि वी.एन.एस.एस .एम. अध्यक्ष किशोर तिवारी ने लेखिका को इस शानदार साहित्यिक शुरुवात के लिए बधाई दी। हिंदी वि.वि. वर्धा छात्र कल्याण डीन प्रो.अनिल कुमार राय ने प्रभा के उपन्यास दूसरा मृत्युंजय को शिवाजी सावंत के मृत्युंजय की तरह कलयुग में सफल होने की कामना करते हुए उन्हें बधाई दी।मुख्य अतिथि राज्यमंत्री सुधाकर देशमुख ने उपन्यास का एक अंश पढ़कर सुनाया। मंचासीन विशिष्ट अतिथि विधायक कृष्णा खोपड़े ,दैनिक भास्कर के संपादक मणिकांत सोनी ,पूर्व विधान परिषद सदस्य एस.क्यू ज़मा एवं प्रकाशक किताबवाले के दिल्ली से पधारे प्रतिनिधि सुकून भाटिया की गरिमामयी उपस्थिति के साथ नगर के सुधी साहित्य प्रेमियों की आत्मीय उपस्थिति में यह लोकार्पण कार्यक्रम सम्पन्न हुआ ।

लेखिका ने अपनी प्रस्तावना में महादानी कर्ण के मृत्युंजय रूप से प्रेरित होकर रचे इस उपन्यास की रचना पर प्रकाश डाला । इस अवसर पर उपन्यास का प्रोमो एवं वरिष्ठ साहित्यकार गिरिश पंकज, सूरजप्रकाश, संतोष श्रीवास्तव के संक्षिप्त विडियो संदेश भी प्रोजैक्टर में दिखाये गये ।कार्यक्रम का मंच संचालन रीमा दीवान चड्ढ़ा और आभार अविनाश बागडे ने किया । इस कार्यक्रम में विशेष सहयोग हेतु लेखिका ने हिंदी महिला समिति की अध्यक्षा रति चौबे और विदुषी सुधा राठौर का शाल श्रीफल से आभार माना ।

इस सुंदर सफल आयोजन में रामकृष्ण शारदा मिशन की अमोघ प्राणा माता जी, नैनीताल से पधारे बी.एस. रौतेला, नेगी,पाठक, संदीप अग्रवाल, दीपा अग्रवाल, विवेक रस्तोगी, परिमल खाबिया, रिज़वान शेख , डा. सागर खादीवाला, जयंत पारधी, ललित ठाकुर, शिव सिंह बिष्ट, मधु सिंघी, जे.पी प्रकाश, राजेन्द्र तिवारी, अर्चना सिंह, गौरी शर्मा, रेशम मदान, पूनम तिवारी, प्रभा के पति ललित सिंह रौतेला एवं बिटिया आरना सहित बड़ी संख्या में साहित्य प्रेमी उपस्थित थे।